1. हिन्दी समाचार
  2. ख़बरें जरा हटके
  3. ओ तेरी!! एक ऐसा गावं जहां 90 साल से कपड़े न पहनने की परंपरा, कई गुना लग्जरी लाइफ जीते हैं लोग

ओ तेरी!! एक ऐसा गावं जहां 90 साल से कपड़े न पहनने की परंपरा, कई गुना लग्जरी लाइफ जीते हैं लोग

जिन्दगी जीने के लिए रोटी कपड़ा और मकान हर किसी को चाहिए लेकिन अगर हम कहें एक ऐसा गावं हैं जहां लोग 90 साल से कपड़े बना पहहने की परम्परा का पालन कर रहें. रह गए न दंग लेकिन ये सच है. दरअसल,  दुनिया का यह अनोखा गांव ब्रिटेन में स्थित है। यहां पर बीते 90 सालों से लोग बिना कपड़ों के रह रहे हैं।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

बर्लिन: जिन्दगी जीने के लिए रोटी कपड़ा और मकान हर किसी को चाहिए लेकिन अगर हम कहें एक ऐसा गावं हैं जहां लोग 90 साल से कपड़े बिना पहनने की परम्परा का पालन कर रहें। रह गए न दंग लेकिन ये सच है। दरअसल,  दुनिया का यह अनोखा गांव ब्रिटेन में स्थित है। यहां पर बीते 90 सालों से लोग बिना कपड़ों के रह रहे हैं।

पढ़ें :- ब्रिटेन में है ऐसा गांव जहां के लोग नहीं पहनते कपड़े ,जबकि लग्जरी सुविधाओं से लैस है ये गांव

एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिटेन के इस गांव में लोग सालों से बिना कपड़ा पहने रह रहे हैं। इस गांव में लोगों के पास दो कमरों का बंगला भी है इस गांव में रहने वालों के पास सभी सुविधाए हैं, लेकिन यहां लोग मान्यताओं और परंपराओं का पालन करते हैं जिसकी वजह से कपड़ नहीं पहनते हैं।

यह गांव ब्रिटेन के हर्टफोर्डशायर में स्थित है जिसका नाम स्पीलप्लाट्ज है। इस गांव में बच्चों से लेकर बूढ़ों तक कोई कपड़ा नहीं पहनता है। जर्मन में स्पीलप्लाट्ज का मतलब खेल का मैदान होता है।

हर्टफोर्डशायर में स्थित यह अनोखा गांव ब्रिटेन की सबसे पुरानी कॉलोनियों में शामिल है। इस गांव में खूबसूरत मकान, स्विमिंग पूल और लोगों को पीने के लिए बीयर भी मिलती है। बताया जाता है कि 90 साल से ज्यादा समय से लोग इस अनोखे गांव में इसी तरह रह रहे हैं।

पढ़ें :- सैंडविच खाने के बाद नहीं रुक रही फार्ट, कस्टमर ने दुकानदार से मांगा इतने लाख रुपये हर्जाना

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, स्पीलप्लाट्ज गांव में रहने वाले 82 वर्षीय इसेल्ट रिचर्डसन के पिता ने साल 1929 में इस समुदाय की स्थापना की थी। उनका कहना है कि प्रकृतिवादियों और सड़क पर रहे लोगों में कोई अंतर नहीं है। इस गांव की अनोखी परंपरा को लेकर दुनियाभर के कई लोगों ने डॉक्यूमेंट्री और शॉर्ट फिल्में बनाई हैं। इस गांव में पोस्टमैन और सुपरमार्केट से सामानों की डिलीवरी करने के लिए लोग आते रहते हैं।

 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...