1. हिन्दी समाचार
  2. बिज़नेस
  3. Oil and Natural Gas Corporation: भारत के कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट जारी, जुलाई में 3.2% गिरावट

Oil and Natural Gas Corporation: भारत के कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट जारी, जुलाई में 3.2% गिरावट

देश का कच्चे तेल का उत्पादन जुलाई में पिछले वर्ष की तुलना में 3.2 प्रतिशत घटकर 2.5 मिलियन टन और अप्रैल-जुलाई में 3.37 प्रतिशत घटकर 9.9 मिलियन टन रह गया।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार भारत के कच्चे तेल के उत्पादन में गिरावट जारी , जुलाई में 3 प्रतिशत से अधिक की गिरावट आई क्योंकि सरकारी स्वामित्व वाली ओएनजीसी (ONGC) ने लक्ष्य से कम उत्पादन किया।

पढ़ें :- International Market : क्रूड ऑयल 7 महीने के निचले स्तर पर पहुंचा, देश में Petrol-Diesel की कीमतों में कटौती संभव

देश का कच्चे तेल का उत्पादन जुलाई में पिछले वर्ष की तुलना में 3.2 प्रतिशत घटकर 2.5 मिलियन टन और अप्रैल-जुलाई में 3.37 प्रतिशत घटकर 9.9 मिलियन टन रह गया।

तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ONGC) ने जुलाई में 16 लाख टन कच्चे तेल का उत्पादन किया। यह पिछले साल की तुलना में 4.2 फीसदी कम और 17 लाख टन के लक्ष्य से 3.8 फीसदी कम है। अप्रैल-जुलाई के दौरान ओएनजीसी (ONGC) का तेल उत्पादन 4.8 प्रतिशत गिरकर 64 लाख टन रहा।

प्राकृतिक गैस उत्पादन में विपरीत प्रवृत्ति दिखाई दी। रिलायंस-बीपी के केजी-डी6 क्षेत्रों की मदद से गैस उत्पादन सालाना आधार पर 18.36 फीसदी बढ़कर 2.9 अरब क्यूबिक मीटर और अप्रैल-जुलाई में करीब 20 फीसदी बढ़कर 11 बीसीएम हो गया।

जहां ओएनजीसी (ONGC) के क्षेत्रों से गैस का उत्पादन 10 फीसदी से अधिक गिर गया, वहीं पूर्वी अपतटीय (जहां केजी-डी6 क्षेत्र स्थित हैं) से उत्पादन 12 गुना बढ़कर 573.13 मिलियन क्यूबिक मीटर हो गया।

पढ़ें :- ओएनजीसी की आय में 3 अरब डॉलर की बढ़ोतरी, रिलायंस गैस की कीमतों में 1.5 अरब डॉलर की बढ़ोतरी

जैसे ही ईंधन की मांग में तेजी आई, तेल रिफाइनरियों ने जुलाई में अधिक कच्चे तेल का प्रसंस्करण किया। जुलाई में 19.4 मिलियन टन कच्चे तेल का प्रसंस्करण एक साल पहले की अवधि की तुलना में 9.6 प्रतिशत अधिक था।

जुलाई में क्रूड थ्रूपुट तीन महीनों में सबसे अधिक था, क्योंकि कोरोनावायरस प्रतिबंधों में ढील ने आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया और ईंधन की मांग को बढ़ाया।

सार्वजनिक क्षेत्र की रिफाइनरियों ने 5.6 प्रतिशत अधिक कच्चे तेल को 11 मिलियन टन पर संसाधित किया, जबकि निजी रिफाइनर रिलायंस इंडस्ट्रीज ने 14.4 प्रतिशत अधिक कच्चे तेल को ईंधन में बदल दिया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...