194 चोर पैट्रोल पंपों के लाइसेंस होंगे रद्द

लखनऊ। ​रिमोट चिप लगाकर ग्राहकों को करोड़ों का चूना लगाने वाले 194 पैट्रोल पंपों का लाइसेन्स 31 जुलाई तक रद्द कर दिए जाएंगे। इन पंपों पर ताले लगने से उपभोक्ताओं को होने वाली परेशानी को जिलाधिकारियों को सर्वे कर स्थिति स्पष्ट करने को कहा गया है। जरूरत पड़ने पर प्रदेश सरकार कुछ बंद पैट्रोल पंपों को अधिग्रहित कर सकती है।

तेल चोरी करने वाले पैट्रोल पंपों के मालिकों और मैनेजरों के खिलाफ हो रही कार्रवाई की समीक्षा कर रहीं खाद्य एवं रसद विभाग की प्रमुख ​सचिव निवेदिता शुक्ला वर्मा ने इस मामले में केवल 60 आपराधिक मामले दर्ज किए जाने पर नाराजगी ​जाहिर करते हुए बचे हुए दोषियों के खिलाफ जल्द मामला दर्ज कर कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

44 फीसदी चोर पैट्रोल पंप लखनऊ, आगरा और बाराबंकी के –

जारी आंकड़ों के मुताबिक 6600 पैट्रोल पंपों पर हुई कार्रवाई में चोरी करते पाए गए 194 पैट्रोल पंपों में से सर्वाधिक 43 राजधानी लखनऊ के हैं। आगरा के 23 और बाराबंकी के 20 पंपों पर इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के जरिए तेल चोरी करते पकड़े गए थे। खाद्य एवं रसद विभाग का मानना है कि इन शहरों में बंद होने वाले पैट्रोल पंपों की संख्या को देखते हुए उपभोक्ताओं को होने वाली परेशानी का आंकलन किया जाएगा। जिन रूटों पर पैट्रोल पंपों की आवश्यकता होगी वहां सरकार सर्वे के आधार पर पंपों का अधिग्रहण कर संचालन करेगी।

आपको बता दें कि पैट्रोल पंपों के लाइसेंस रद्द किए जाने की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। इस क्रम में लखनऊ के कुछ पंपों पर तेल बिक्री रोकी जा चुकी है। जल्द ही सभी दोषी पैट्रोल पंपों पर या तो ताला लटका मिलेगा या फिर उनका संचालन सरकार द्वारा करवाया जाएगा।