1. हिन्दी समाचार
  2. देश
  3. Omicron Variant Havoc: WHO ने बताया आखिर क्यों तेजी से फ़ैल रहा ओमिक्रॉन ?

Omicron Variant Havoc: WHO ने बताया आखिर क्यों तेजी से फ़ैल रहा ओमिक्रॉन ?

कोरोना वायरस (corona virus) के नए ओमिक्रॉन वेरिएंट से दुनियाभर में दहशत का माहौल है। तेजी से इस संक्रमण के मामले पूरी दुनिया में बढ़ रहे हैं। आप सभी को बता दें कि राजधानी दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में रोज नए मामले सामने आ रहे हैं।

By आराधना शर्मा 
Updated Date

Omicron Variant Havoc: कोरोना वायरस (corona virus) के नए ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron Variants) से दुनियाभर में दहशत का माहौल है। तेजी से इस संक्रमण के मामले पूरी दुनिया में बढ़ रहे हैं। आप सभी को बता दें कि राजधानी दिल्ली, मुंबई जैसे बड़े शहरों में रोज नए मामले सामने आ रहे हैं। खबरों के मुताबिक डेल्टा के मुकाबले ओमिक्रॉन (Omicron Variants) को बहुत हल्का वैरिएंट बताया जा रहा है, वहीं इसके फैलने की रफ्तार वैज्ञानिकों को हैरान कर रही है।

पढ़ें :- जानें कोरोना की तीसरी लहर में जान गंवाने वाले कितने फीसदी मरीजों ने नहीं ली वैक्सीन

आपको बता दें, इन सभी के बीच WHO की तकनीकी प्रमुख मारिया वैन केर्खोव ने शुक्रवार को ओमिक्रॉन (Omicron Variants) के तेजी से फैलने की तीन वजहें गिनाई। जी दरअसल केर्खोव ने हाल ही में कहा कि, ‘लोगों को वायरस के प्रति जोखिम कम करने और इसके ट्रांसमिशन को नियंत्रित करने के बारे में सोचने की जरूरत है।

बीते सप्ताह कोरोना के रिकॉर्ड मामले दर्ज किए गए हैं जो पिछले सप्ताह की तुलना में 71 फीसद ज्यादा हैं।’ इसी के साथ आगे वैन केर्खोव (van kerkhove) ने कहा, ‘नया ओमिक्रॉन वैरिएंट कई कारणों से लोगों के बीच इतनी तेजी से फैल रहा है।’ उन्होंने बताया इनमे पहला कारण यह है कि, नए वैरिएंट के म्यूटेशन वायरस (Variant Mutation Virus) को मानव कोशिकाओं के साथ आसानी से जुड़ने में मदद करते हैं। वहीं दूसरा कारण यह है कि, नए वैरिएंट में इम्यून सिस्टम (immune system) से बच निकलने की क्षमता है। नतीजन, लोगों में रीइंफेक्शन का खतरा बढ़ गया है।

वैक्सीनेट लोगों के लिए भी इससे बचना मुश्किल

इसका मतलब है कि पहले संक्रमण का शिकार हो चुके लोग या वैक्सीनेट हुए लोगों के लिए भी इससे बचना मुश्किल है।’ वहीं तीसरा कारण बताते हुए केर्खोव ने कहा, ‘ओमिक्रॉन में हम अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट में वायरस को रेप्लीकेट होते देख रहे हैं, जो कि डेल्टा या पिछले किसी भी वैरिएंट से बिल्कुल अलग चीज है। कोरोना के पिछले सभी स्ट्रेन फेफड़ों में लोवर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट में रेप्लीकेट होते थे, जिससे इसके आगे बढ़ने की रफ्तार थोड़ी कम होती थी।’ उनका कहना है इन सभी कारणों के अलावा, वायरस लोगों के ज्यादा मेल-जोल की वजह से भी तेजी से फैल रहा है।

पढ़ें :- कोरोना की तीसरी लहर खतरनाक नहीं, लेकिन सावधानी बरतनी जरूरी : सीएम योगी
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...