कॉमनवेल्थ गेम्स 2018: गुरुराजा ने वेटलिफ्टिंग में भारत के लिए पहला पदक जीता

220206-weightlifter-p-gururaja

गुरुराजा ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारत के लिए पहला पदक जीता है। उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए पुरुषों के 56 किलोग्राम भारवर्ग वेटलिफ्टिंग इवेंट में 249 किलोग्राम भार उठा कर सिल्वर मेडल हासिल किया।

स्नैच में उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन करते हुए 111 किलोग्राम भार उठाया। मलयेशिया के मोहम्मद इजहार अहमद ने 261 किलोग्राम कुल भार उठाकर गोल्ड मेडल हासिल किया। यह कॉमनवेल्थ गेम्स का रेकॉर्ड भी है। वहीं श्री लंका के चतुरंगा लकमल (248 किलोग्राम) भार उठाकर ब्रॉन्ज मेडल जीता।

{ यह भी पढ़ें:- PM नरेंद्र मोदी ने फिटनेस का दिया लाजवाब सबूत, शेयर किया विडियो }

गुरुराजा ने 8 साल पहले 2010 में वेटलिफ्टिंग शुरू की थी। उन्होंने 2016 में पेनांग में हुए कॉमनवेल्थ सीनियर वेटलिफ्टिंग चैंपियनशिप में अपना 249 किलोग्राम (108+141) भार उठाकर गोल्ड जीता था। इस साल की शुरुआत में उन्होंने साउथ एशियन गेम्स में गोल्ड मेडल जीता था।

एक ट्रक ड्राइवर के बेटे गुरुराजा कर्नाटक के कुंडपुरा के रहने वाले हैं। उन्होंने वेटलिफ्टिंग से पहले पावरलिफ्टिंग में भी हाथ आजमाया है।

{ यह भी पढ़ें:- फेडरेशन ने गोल्ड मेडल विजेता पूनम यादव को किया सस्पेंड, एशियन गेम्स में भागीदारी लटकी }

गुरुराजा ने कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में भारत के लिए पहला पदक जीता है। उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए पुरुषों के 56 किलोग्राम भारवर्ग वेटलिफ्टिंग इवेंट में 249 किलोग्राम भार उठा कर सिल्वर मेडल हासिल किया। स्नैच में उन्होंने अपना सर्वश्रेष्ट प्रदर्शन करते हुए 111 किलोग्राम भार उठाया। मलयेशिया के मोहम्मद इजहार अहमद ने 261 किलोग्राम कुल भार उठाकर गोल्ड मेडल हासिल किया। यह कॉमनवेल्थ गेम्स का रेकॉर्ड भी है। वहीं श्री लंका के चतुरंगा लकमल (248 किलोग्राम) भार उठाकर…
Loading...