1. हिन्दी समाचार
  2. जादू टोना करने के शक में सगे तीन भतीजे ने ही मिलकर चाचा के कर दी हत्या

जादू टोना करने के शक में सगे तीन भतीजे ने ही मिलकर चाचा के कर दी हत्या

On Suspicion Of Witchcraft Three Nephews Killed Their Uncle

By टीम पर्दाफाश 
Updated Date

मीरजापुर। जादू टोना करने के शक में सगे तीन भतीजे ने ही मिलकर चाचा ओझा की हत्या कर दी थी। पुलिस ने अलोपी दरी मोड़ से तीनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया। अभियुक्त की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त चापड़ धान के खेत से बरामद हुआ।

पढ़ें :- सपने में दिखें ये चीजें तो समझ जाइए शुरू होने वाला है आपका अच्छा समय, बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपा

पुलिस लाइन स्थित मनोरंजन कक्ष में एएसपी नक्सल महेश कुमार अत्री ने शनिवार की शाम प्रेसवार्ता कर मामले का खुलासा किया। एएसपी नक्सल अत्री ने बताया कि मड़िहान थाना क्षेत्र के कानीदरी दाढ़ीराम गांव निवासी रामनरेश राजगीर मिस्त्री के साथ ओझा भी था। रामनरेश के सगे भतीजे अभियुक्त महेश व अमरेश पुत्र कैलाश और रामबाबू पुत्र मिठाईलाल ने 19 अगस्त की रात उसकी चापड़ से वारकर हत्या कर दिए थे।

मड़िहान पुलिस ने हत्यारोपित तीनों अभियुक्तों को अलोपी दरी मोड़ से गिरफ्तार कर लिया। अभियुक्त की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त चापड़ भी धान के खेत से बरामद किया। पुलिस की पूछताछ में अभियुक्तों ने अपना जुर्म स्वीकार किया। एएसपी नक्सल ने बताया कि मृतक रामनरेश के पिता ने दो शादी की थी। पहली पत्नी से पांच बच्चे थे। सभी की मौत चुकी है, जबकि दूसरी पत्नी से चार बच्चे है। ओझाई के चलते ही कैलाश की मौत हो चुकी है।

अभियुक्त महेश भी हमेशा बीमार रहता था। महेश बीमारी का जिम्मेदार रामनरेश को ही मानता था। शक था कि उसे भी ओझाई कर मौत के घाट उतार देगा। इसी को लेकर उसने रामनरेश से रंजिश रखी थी। अभियुक्त महेश अपने भाई अमरेश व रामबाबू के साथ मिलकर रामनरेश की हत्या की साजिश रची। 19 अगस्त की रात रामनरेश गांव के बबूंदर के यहां दावत पर गया था। बीच रास्ते में तीनों अभियुक्त घात लगाए बैठे थे।

दावत से घर लौटते समय रामनरेश के गर्दन पर महेश ने चापड़ से वार कर हत्या कर दी। इसके बाद तीनों अभियुक्त वहां से फरार हो गए थे। महेश ने चापड़ घर में छुपा दिया था। जो अमरेश ने बाद में धान के खेत में फेक दिया था। पुलिस ने तीनों अभियुक्तों को जेल भेज दिया। गिरफ्तारी करने वाली टीम में मड़िहान थानाध्यक्ष राजकुमार सिंह, शैलेश कुमार सिंह, मूलचन्द्र वर्मा, विनय कुमार यादव, हिमांशू मिश्रा सहित स्वाट व एसओजी टीम रही।

पढ़ें :- तुलसी की जड़ में हर रोज चढ़ाएं ये चीज, ऐसी चमकेगी किस्मत नहीं रहेगा कोई ठिकाना

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...