रिजर्व बैंक की घोषणाओं पर पीएम मोदी बोले छोटे व्यवसायी, किसानों और गरीबों को मिलेगी मदद

PM MODI
आपातकाल के दौरान लोकतंत्र की रक्षा के लिए त्याग और बलिदान देने वालों को देश कभी नहीं भूल पाएगा : पीएम मोदी

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए तीन मई तक लॉकडाउन है। लॉकडाउन का विपरीत प्रभाव देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है। देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए आज भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कई बड़े ऐलान किए। रिजर्व बैंक द्वारा किए गए एलानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थव्यवस्था में लिक्विडिटी बढ़ाने के लिए उचित बताया है।

On The Announcements Of The Reserve Bank Pm Modi Said That Small Businessmen Farmers And Poor Will Get Help :

पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज आरबीआई ने जो एलान किए हैं, उससे देश को काफी मदद मिलेगी। देश में लिक्विडिटी बढ़ेगी और कर्ज की सप्लाई में सुधार आएगा। साथ ही छोटे और मझोले आकार के कारोबारों को मदद मिलेगी और गरीबों व किसानों के लिए भी ये कदम बेहतरी लाने का काम करेंगे। आगे उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकारों को भी इससे मदद मिलेगी। रिजर्व बैंक की घोषणाओं पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट कर लिखा कि कोरोना से जंग में आरबीआई के ऐलान सिस्टम में पर्याप्त लिक्विडिटी मेनटेन करने में मददगार साबित होंगे।

देश के गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि नाबार्ड को दी गई 25,000 करोड़ रुपये की क्रेडिट सुविधा से किसानों को मदद मिलेगी। सिडबी को 15,000 करोड़ रुपये की सहायता एमएसएमई और स्टार्टअप्स को वित्तीय स्थिरता प्रदान करेगा। इससे मेक इन इंडिया कार्यक्रम को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही एनएचबी को दी जाने वाली 10,000 करोड़ रुपये की मदद से भी अर्थव्यवस्था को बूस्ट मिलेगा।  बता दें कि बैंकों को राहत देने के लिए आरबीआई ने रिवर्स रेपो रेट को चार फीसदी से घटाकर 3.75 फीसदी कर दिया है और रेपो रेट को बरकरार रखा गया है। TLTRO 2.0 के तहत आरबीआई ने एमएफआई और एनबीएफसी को 50,000 करोड़ रुपये की मदद का एलान किया है।

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने के लिए तीन मई तक लॉकडाउन है। लॉकडाउन का विपरीत प्रभाव देश की अर्थव्यवस्था पर पड़ रहा है। देश की अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए आज भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कई बड़े ऐलान किए। रिजर्व बैंक द्वारा किए गए एलानों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अर्थव्यवस्था में लिक्विडिटी बढ़ाने के लिए उचित बताया है। पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज आरबीआई ने जो एलान किए हैं, उससे देश को काफी मदद मिलेगी। देश में लिक्विडिटी बढ़ेगी और कर्ज की सप्लाई में सुधार आएगा। साथ ही छोटे और मझोले आकार के कारोबारों को मदद मिलेगी और गरीबों व किसानों के लिए भी ये कदम बेहतरी लाने का काम करेंगे। आगे उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकारों को भी इससे मदद मिलेगी। रिजर्व बैंक की घोषणाओं पर वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ट्वीट कर लिखा कि कोरोना से जंग में आरबीआई के ऐलान सिस्टम में पर्याप्त लिक्विडिटी मेनटेन करने में मददगार साबित होंगे। देश के गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि नाबार्ड को दी गई 25,000 करोड़ रुपये की क्रेडिट सुविधा से किसानों को मदद मिलेगी। सिडबी को 15,000 करोड़ रुपये की सहायता एमएसएमई और स्टार्टअप्स को वित्तीय स्थिरता प्रदान करेगा। इससे मेक इन इंडिया कार्यक्रम को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही एनएचबी को दी जाने वाली 10,000 करोड़ रुपये की मदद से भी अर्थव्यवस्था को बूस्ट मिलेगा।  बता दें कि बैंकों को राहत देने के लिए आरबीआई ने रिवर्स रेपो रेट को चार फीसदी से घटाकर 3.75 फीसदी कर दिया है और रेपो रेट को बरकरार रखा गया है। TLTRO 2.0 के तहत आरबीआई ने एमएफआई और एनबीएफसी को 50,000 करोड़ रुपये की मदद का एलान किया है।