SSP नोएडा की गोपनीय रिपोर्ट पर निलंबित ADG ने 5 IPS के खिलाफ दी तहरीर, CM योगी को लिखा पत्र

adg
SSP नोएडा की गोपनीय रिपोर्ट पर निलंबित ADG ने 5 IPS के खिलाफ दी तहरीर, CM योगी को लिखा पत्र

लखनऊ। नोएडा एसएसपी वैभव कृष्ण की गोपनीय रिपोर्ट के आधार पर निलंबित चल रहे एडीजी जसवीर सिंह ने 5 आईपीएस के खिलाफ भृष्टाचार का आरोप लगाते हुए नोएडा के सेक्टर 20 में तहरीर दी है। उन्होने इस मामले में सीएम को पत्र भी लिखा है साथ ही स्पेशल टीम बनाकर मामले की जांच करवाने की मांग की है।

On The Confidential Report Of Ssp Noida Suspended Adg Complains Against 5 Ips Letter Written To Cm Yogi :

आपको बता दें कि एडीजी जसवीर सिंह बीते एक साल से सस्पेंड चल रहे हैं। उन्होने नोएडा के सेक्टर 20 थाने में एसएसपी वैभव कृष्ण की गोपनीय रिपोर्ट के आधार पर 5 आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ तहरीर देते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ से सभी आरोपित अफसरों को निलंबित करने की मांग की है साथ इस मामले में किसी स्पेशल टीम से जांच करवाने का भी आग्रह किया है। निलंबित एडीजी ने अपनी तहरीर में भ्रष्टाचार विरोधी अधिनियम-1988 की धारा सात का उल्लेख किया है।

निलंबित एडीजी जसवीर सिंह ने पहले भी होमगार्ड के मस्टररोल में हो रहे भृष्टाचार को उजागर किया था। उनके द्वारा होमगार्ड के वेतन घोटाले की परतें खोलने से नाराज आला अफसरों ने उन्हे सस्पेंड कर दिया था। उनका कहना हे कि एसएसपी नोएडा वैभव कृष्ण ने जो साक्ष्य दिये हैं उसके हिसाब से सभी आरोप दंडनीय अपराध की श्रेणी में आते है।

उनका कहना है कि जब एसएसपी नोएडा ने अपराध की विवेचना के दौरान पांच आईपीएस अफसरों के खिलाफ मिले इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य होने का दावा किया है, सीएम, डीजीपी के साथ साथ अपर मुख्य सचिव गृह को रिपोर्ट भी भेज चुके हैं तो इस मामले देरी क्यों हो रही है। सीएम को लिखे पत्र में उन्होने कहा है कि अगर सभी आरोपित अफसरो को उनके पदों से नही हटाया गया तो वो जांच प्रभावित कर सकते हैं। उन्होने लिखा कि एसएसपी की रिपोर्ट में अफसरों द्वारा थानाध्यक्षों की पोस्टिंग-ट्रांसफर, खुद अफसरों की तैनाती को लेकर अपराधियों से सांठगांठ के तमाम प्रमाण​ मिले हैं इसलिए उन्हे तत्काल हटाने की जरूरत है।

लखनऊ। नोएडा एसएसपी वैभव कृष्ण की गोपनीय रिपोर्ट के आधार पर निलंबित चल रहे एडीजी जसवीर सिंह ने 5 आईपीएस के खिलाफ भृष्टाचार का आरोप लगाते हुए नोएडा के सेक्टर 20 में तहरीर दी है। उन्होने इस मामले में सीएम को पत्र भी लिखा है साथ ही स्पेशल टीम बनाकर मामले की जांच करवाने की मांग की है। आपको बता दें कि एडीजी जसवीर सिंह बीते एक साल से सस्पेंड चल रहे हैं। उन्होने नोएडा के सेक्टर 20 थाने में एसएसपी वैभव कृष्ण की गोपनीय रिपोर्ट के आधार पर 5 आईपीएस अधिकारियों के खिलाफ तहरीर देते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ से सभी आरोपित अफसरों को निलंबित करने की मांग की है साथ इस मामले में किसी स्पेशल टीम से जांच करवाने का भी आग्रह किया है। निलंबित एडीजी ने अपनी तहरीर में भ्रष्टाचार विरोधी अधिनियम-1988 की धारा सात का उल्लेख किया है। निलंबित एडीजी जसवीर सिंह ने पहले भी होमगार्ड के मस्टररोल में हो रहे भृष्टाचार को उजागर किया था। उनके द्वारा होमगार्ड के वेतन घोटाले की परतें खोलने से नाराज आला अफसरों ने उन्हे सस्पेंड कर दिया था। उनका कहना हे कि एसएसपी नोएडा वैभव कृष्ण ने जो साक्ष्य दिये हैं उसके हिसाब से सभी आरोप दंडनीय अपराध की श्रेणी में आते है। उनका कहना है कि जब एसएसपी नोएडा ने अपराध की विवेचना के दौरान पांच आईपीएस अफसरों के खिलाफ मिले इलेक्ट्रॉनिक साक्ष्य होने का दावा किया है, सीएम, डीजीपी के साथ साथ अपर मुख्य सचिव गृह को रिपोर्ट भी भेज चुके हैं तो इस मामले देरी क्यों हो रही है। सीएम को लिखे पत्र में उन्होने कहा है कि अगर सभी आरोपित अफसरो को उनके पदों से नही हटाया गया तो वो जांच प्रभावित कर सकते हैं। उन्होने लिखा कि एसएसपी की रिपोर्ट में अफसरों द्वारा थानाध्यक्षों की पोस्टिंग-ट्रांसफर, खुद अफसरों की तैनाती को लेकर अपराधियों से सांठगांठ के तमाम प्रमाण​ मिले हैं इसलिए उन्हे तत्काल हटाने की जरूरत है।