1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. आज है विवाह पंचमी आज के दिन शादीशुदा जोड़े जरूर करें ये काम, मिलते हैं कई फायदे

आज है विवाह पंचमी आज के दिन शादीशुदा जोड़े जरूर करें ये काम, मिलते हैं कई फायदे

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: इस साल विवाह पंचमी का पर्व 19 दिसंबर 2020 को मनाया जाने वाला है। आप सभी को बता दें कि यह पर्व शादीशुदा जोड़ों के लिए बड़ा ही ख़ास होता है। कहते हैं यही वह दिन था जिस दिन भगवान राम और सीता माता का विवाह हुआ था।

पढ़ें :- Masik Shivratri: मासिक शिवरात्रि आज है, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

आपको बता दें, वैसे ऐसा भी कहा जाता है कि विवाह पंचमी के दिन इसकी कथा पढ़ने, सुनने व सुनाने से वैवाहिक जीवन सुखमय होता है। अब आज हम लेकर आए हैं विवाह पंचमी की कथा।

विवाह पंचमी की कथा

राम राजा दशरथ के घर पैदा हुए थे और सीता राजा जनक की पुत्री थी। मान्यता है कि सीता का जन्म धरती से हुआ था। राजा जनक हल चला रहे थे उस समय उन्हें एक नन्ही सी बच्ची मिली थी जिसका नाम उन्होंने सीता रखा था। सीता जी को ‘जनकनंदिनी’ के नाम से भी पुकारा जाता है। एक बार सीता ने शिव जी का धनुष उठा लिया था जिसे परशुराम के अतिरिक्त और कोई नहीं उठा पाता था।

राजा जनक ने यह निर्णय लिया कि जो भी शिव का धनुष उठा पाएगा सीता का विवाह उसी से होगा। सीता के स्वयंवर के लिए घोषणाएं कर दी गई। स्वयंवर में भगवान राम और लक्ष्मण ने भी प्रतिभाग किया। वहां पर कई और राजकुमार भी आए हुए थे पर कोई भी शिव जी के धनुष को नहीं उठा सका।

राजा जनक हताश हो गए और उन्होंने कहा कि ‘क्या कोई भी मेरी पुत्री के योग्य नहीं है?’ तब महर्षि वशिष्ठ ने भगवान राम को शिव जी के धनुष की प्रत्यंचा चढ़ाने को कहा। गुरु की आज्ञा का पालन करते हुए भगवान राम शिव जी के धनुष की प्रत्यंचा चढ़ाने लगे और धनुष टूट गया।इस प्रकार सीता जी का विवाह राम से हुआ। भारतीय समाज में राम और सीता को आदर्श दंपत्ति (पति पत्नी) का उदाहरण समझा जाता है। राम सीता का जीवन प्रेम, आदर्श, समर्पण और मूल्यों को प्रदर्शित करता है।

पढ़ें :- Worship of Lord Vishnu: गुरुवार को करें विष्णु भगवान की पूजा, गुरुदेव की होगी ऐसी कृपा कि किस्मत बदल जाएगी

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...