राज्यसभा सांसद में हुए विरोध पर रंजन गोगोई बोले, “वे बहुत जल्द स्वागत करेंगे…”

ranjan gogoi
राज्यसभा सांसद में हुए विरोध पर रंजन गोगोई बोले, "वे बहुत जल्द स्वागत करेंगे..."

नई दिल्ली। जबसे राष्ट्रपति ने भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के सदस्य के रूप में मनोनित किया है तभी से विपक्ष ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया है। वहीं जब रंजन गोगोई ने गुरुवार को राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली तो कांग्रेस सांसदों ने शेम-शेम के नारे लगाए और सदन से वॉक आउट कर दिया।

On The Opposition In The Rajya Sabha Mp Ranjan Gogoi Said He Will Welcome Soon :

विपक्ष द्वारा इतना विरोध किए जाने पर गोगोई ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि ‘वो बहुत जल्दी स्वागत करेंगे।’ बता दें, कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों ने गोगोई की नियुक्ति को न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर हमले बताकर इसकी आलोचना की है। उन्हें सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्यसभा के लिए नामित किया था। मुख्य न्यायाधीश के पद से सेवानिवृत्त होने से पहले गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की पीठ ने अयोध्या मसले पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था तभी से गोगोई देश में चर्चित चेहरा हो गये थे।

गोगोई की शपथ को लेकर सदन में हुए हंगामे को लेकर सभापति वेंकया नायडू ने कहा, ‘‘आप संवैधानिक प्रावधानों को जानते हैं, आप उदाहरणों को जानते हैं, आप राष्ट्रपति के अधिकारों को जानते हैं। नायडू ने कहा आपको सदन में ऐसा कुछ नहीं करना चाहिए। किसी मुद्दे पर पर आप अपनी राय सदन के बाहर व्यक्त करने के लिए स्वतंत्रता हैं। वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि विपक्षी सदस्यों का आचरण पूरी तरह से अनुचित था।

नई दिल्ली। जबसे राष्ट्रपति ने भारत के पूर्व प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के सदस्य के रूप में मनोनित किया है तभी से विपक्ष ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया है। वहीं जब रंजन गोगोई ने गुरुवार को राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली तो कांग्रेस सांसदों ने शेम-शेम के नारे लगाए और सदन से वॉक आउट कर दिया। विपक्ष द्वारा इतना विरोध किए जाने पर गोगोई ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि 'वो बहुत जल्दी स्वागत करेंगे।' बता दें, कांग्रेस समेत अन्य विपक्षी दलों ने गोगोई की नियुक्ति को न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर हमले बताकर इसकी आलोचना की है। उन्हें सोमवार को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राज्यसभा के लिए नामित किया था। मुख्य न्यायाधीश के पद से सेवानिवृत्त होने से पहले गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की पीठ ने अयोध्या मसले पर ऐतिहासिक फैसला सुनाया था तभी से गोगोई देश में चर्चित चेहरा हो गये थे। गोगोई की शपथ को लेकर सदन में हुए हंगामे को लेकर सभापति वेंकया नायडू ने कहा, ‘‘आप संवैधानिक प्रावधानों को जानते हैं, आप उदाहरणों को जानते हैं, आप राष्ट्रपति के अधिकारों को जानते हैं। नायडू ने कहा आपको सदन में ऐसा कुछ नहीं करना चाहिए। किसी मुद्दे पर पर आप अपनी राय सदन के बाहर व्यक्त करने के लिए स्वतंत्रता हैं। वहीं कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि विपक्षी सदस्यों का आचरण पूरी तरह से अनुचित था।