1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. विंध्याचल में नवरात्र के पहले ही दिन कोविड प्रोटोकॉल की उड़ीं धज्जियां

विंध्याचल में नवरात्र के पहले ही दिन कोविड प्रोटोकॉल की उड़ीं धज्जियां

यूपी के विंध्याचल मंदिर परिसर में मंगलवार की भोर से नवरात्र मेला शुरु हो गया है। नवरात्र के पहले दिन ही कोविड महामारी पर आस्था का जनसैलाब भारी पड़ा। यहां पर न तो सोशल डिस्टेंसिंग दिखी और न ही लोगों में कोरोना का भय।

By शिव मौर्या 
Updated Date

On The Very First Day Of Navratri In Vindhyachal The Covid Protocol Fluttered

मिर्जापुर। यूपी के विंध्याचल मंदिर परिसर में मंगलवार की भोर से नवरात्र मेला शुरु हो गया है। नवरात्र के पहले दिन ही कोविड महामारी पर आस्था का जनसैलाब भारी पड़ा। यहां पर न तो सोशल डिस्टेंसिंग दिखी और न ही लोगों में कोरोना का भय। सुबह से ही लोग लम्बी-लम्बी लाइन में लगकर मां की एक झलक पाने को बेताब देखे गए । पहले ही दिन जिला प्रशासन के सारे दावे फेल साबित होते नजर आए ।

पढ़ें :- कोरोना इफेक्ट : विंध्यवासिनी मंदिर के द्वार 21 अप्रैल तक श्रद्धालुओं के लिए बंद

मंदिर परिसर के आसपास हर तरफ मां के जयकारों से विंध्य धाम गूंजता रहा। बच्चे हों या बूढ़े सभी लोग मां के दर्शन करने को बेताब देखे गए। बता दें कि कोरोना महामारी को देखते हुए जनपद में नाइट कर्फ्यू रात 9 बजे से सुबह 6 बजे तक लागू होने के कारण नवरात्र मेला में भी मंदिर और दर्शन पूजन पूरी तरह से बंद रहेगा। सिर्फ सुबह 6 बजे से रात 8 बजे तक ही दर्शनार्थी मंदिर में दर्शन पूजन कर सकते हैं, वह भी एक बार में 5 लोग ही मन्दिर जा सकेंगे, जिसके पास कोविड की निगेटिव रिपोर्ट होगी, उसी को ही दर्शन का मौका दिया जाएगा।

रात में मन्दिर बन्द होने के कारण उमड़ी भीड़

विंध्याचल निवासी शानिदत्त पाठक ने कहा कि प्रशासन ने तमाम बंदिशें लगाई थीं। उसके बाद भी सुबह से भक्तों की भीड़ टूट पड़ रही है। साथ ही बताया कि नाइट कर्फ्यू के कारण रात में दर्शन बन्द हैं, इसलिए ही इतनी भीड़ देखने को मिल रही है ।

पढ़ें :- योगी सरकार का बड़ा फैसला, धार्मिक स्थलों पर जानें एक बार में कितने लोगों की होगी एंट्री?

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X