पाकिस्तान ने तोड़ा सीजफायर, एक बीएसएफ जवान समेत पांच की मौत

bsf jawan killed
पाकिस्तान ने तोड़ा सीजफायर, एक बीएसएफ जवान समेत पांच की मौत

श्रीनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कश्मीर दौरे से एक दिन पहले पाकिस्तान ने सीजफायर तोड़ दिया। पाकिस्तानी सेना ने आरएस पुरा और अरनिया सेक्टर में गुरुवार रात ये कार्रवाई की। भारी हथियारों से की गई फायरिंग में बीएसएफ के जवान सीतारमण उपाध्याय शहीद हो गए, जबकि चार स्थानीय लोगों की भी जान गई है। बताया जा रहा है इस गोलीबारी में छह लोग गंभीर रूप से घायल हुए है।

One Bsf Jawan And Four Civilian Killed In Pakistan Cizfaar :

घटना के बाद बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीताराम झारखंड के गिरिडीह से थे। वह 2011 में सीमा सुरक्षा बल में शामिल हुए थे। शहीद हुए जवान सीतारमण के परिवार में पत्नी के अलावा एक तीन साल का बेटा और साल भर की बेटी है।

बता दें कि पाकिस्तान की ओर से 16 और 17 मई को भी हीरानगर में फायरिंग की गई। जिसमें एक बीएसएफ जवान गंभीर रूप से घायल हुआ था। इसके बाद दिन में इसमें एक बीएसएफ का जवान घायल भी हुआ था। हालांकि, दिन में पाकिस्तान की तरफ से दिन में कोई गोलीबारी नही की गई, लेकिन गुरुवार देर रात अरनिया सेक्टर को एक बार फिर निशाना बनाया गया। वहीं आरएस पुरा सेक्टर में तड़के 4 बजे भारी गोलाबारी की गई। जिसके बाद भारत की तरफ से भी गोलीबारी की गई।

बता दें कि पाकिस्तान की तरफ से किए गए सीजफायर में शहीद सीताराम की पत्नी ने कहा कि भारत ने सुरक्षा बलों को रमजान के दौरान ऑपरेशन चलाए जाने पर रोक लगाई। जिसके बाद भारत की तरफ से तो कोई गोलाबारी नहीं की गई, लेकिन पाकिस्तान की तरफ से की गई फायरिंग में उसके ​पति शहीद हो गए। मृतक की पत्नी ने कहा कि वो बिना मुआवजा लिए वापस नही जाएंगे।

बता दें कि बीते कई दिनों से सीमा पार से सीजफायर की आड़ में पाकिस्तान आतंकी घुसपैठ कराने की कोशिश कर रहा है। यही नही 12 फरवरी को सीमा पार करने का प्रयास कर रहे पांच आतंकियों पर बीएसएफ जवानों की नजर पड़ी थी। जिसके बाद बीएसएफ ने पूरे इलाके में हेलीकॉप्टर की मदद से तलाशी अभियान चलाया।

 

श्रीनगर। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कश्मीर दौरे से एक दिन पहले पाकिस्तान ने सीजफायर तोड़ दिया। पाकिस्तानी सेना ने आरएस पुरा और अरनिया सेक्टर में गुरुवार रात ये कार्रवाई की। भारी हथियारों से की गई फायरिंग में बीएसएफ के जवान सीतारमण उपाध्याय शहीद हो गए, जबकि चार स्थानीय लोगों की भी जान गई है। बताया जा रहा है इस गोलीबारी में छह लोग गंभीर रूप से घायल हुए है।घटना के बाद बीएसएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि सीताराम झारखंड के गिरिडीह से थे। वह 2011 में सीमा सुरक्षा बल में शामिल हुए थे। शहीद हुए जवान सीतारमण के परिवार में पत्नी के अलावा एक तीन साल का बेटा और साल भर की बेटी है।बता दें कि पाकिस्तान की ओर से 16 और 17 मई को भी हीरानगर में फायरिंग की गई। जिसमें एक बीएसएफ जवान गंभीर रूप से घायल हुआ था। इसके बाद दिन में इसमें एक बीएसएफ का जवान घायल भी हुआ था। हालांकि, दिन में पाकिस्तान की तरफ से दिन में कोई गोलीबारी नही की गई, लेकिन गुरुवार देर रात अरनिया सेक्टर को एक बार फिर निशाना बनाया गया। वहीं आरएस पुरा सेक्टर में तड़के 4 बजे भारी गोलाबारी की गई। जिसके बाद भारत की तरफ से भी गोलीबारी की गई।बता दें कि पाकिस्तान की तरफ से किए गए सीजफायर में शहीद सीताराम की पत्नी ने कहा कि भारत ने सुरक्षा बलों को रमजान के दौरान ऑपरेशन चलाए जाने पर रोक लगाई। जिसके बाद भारत की तरफ से तो कोई गोलाबारी नहीं की गई, लेकिन पाकिस्तान की तरफ से की गई फायरिंग में उसके ​पति शहीद हो गए। मृतक की पत्नी ने कहा कि वो बिना मुआवजा लिए वापस नही जाएंगे।बता दें कि बीते कई दिनों से सीमा पार से सीजफायर की आड़ में पाकिस्तान आतंकी घुसपैठ कराने की कोशिश कर रहा है। यही नही 12 फरवरी को सीमा पार करने का प्रयास कर रहे पांच आतंकियों पर बीएसएफ जवानों की नजर पड़ी थी। जिसके बाद बीएसएफ ने पूरे इलाके में हेलीकॉप्टर की मदद से तलाशी अभियान चलाया।