आगरा के ओपी चेंस ग्रुप की बड़ी धोखाधड़ी, हजारों निवेशकों की पूंजी दांव पर

OP Chains
ओपी चेंस की धोखाधड़ी

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा शहर के जाने मानी रियल इस्टेट कंपनी ओपी चेंस ग्रुप इन दिनों आवास विकास सेक्टर 12 D में कई एकड़ जमीन पर ‘एंथेला‘ नाम से एक हाउसिंग प्रोजेक्ट लांच किया है। इस प्रोजेक्ट की कुल लागत करीब 3000 करोड़ रूपए है, जिसके लिए कंपनी ने बुकिंग लेना शुरू कर दिया है। मगर यह प्रोजेक्ट निवेशकों और घर के खरीददारों के साथ कानूनी लिहाज से धोखाधड़ी है। इस धोखाधड़ी में ओपी चेंस ग्रुप ने अपना पहला शिकार उन किसानों को बनाया है जिनकी जमीन पर यह प्रोजेक्ट शुरू किया गया है। मामला अदालत में विचाराधीन है लेकिन अकूत दौलत के मालिक ओपी चेंस ग्रुप के मालिकान की ऊंची पकड़ के कारण इस मामले की फाइल दबी पड़ी है और प्रोजेक्ट दिन दूनी रात चौगनी गति से आगे बढ़ता जा रहा है।

पर्दाफाश टीम को मिले दस्तावेजों को आधार माने तो ओपी चेंस ग्रुप ने आवास विकास के अधिकारियों की मिली भगत से सेक्टर 12 D में 1,44,869 वर्ग मीटर जमीन फर्जी तरीके से नीलामी की प्रक्रिया के तहत अपने करीबियों की फर्म के माध्यम से खरीदी है। यह जमीन 1970 में आवास विकास द्वारा अधिग्रहित किए जाने के बाद से कानूनी विवाद में फंसी थी। इस जमीन के वास्तविक मालिक कई किसान थे, जिन्होंने इस जमीन पर आवासीय कालोनी बनाने के लिए सहकारी हाउसिंग समिति बनाई थी।

{ यह भी पढ़ें:- ओपी चेंस ग्रुप के एंथम और एंथेला प्रोजेक्ट पर जल्द लगेगा ताला, शासन ने मांगी रिपोर्ट }

समय बदला और 4 अप्रैल 1970 को आवास विकास परिषद् ने गृहस्थान एवं सड़क योजना के तहत इस भूमि का अधिग्रहण कर लिया। एक ओर मुआवजा की रकम से असंतुष्ट किसान थे, जो आवास विकास परिषद् के खिलाफ अदालत चले गए, वहीं दूसरी ओर आवास विकास परिषद् था जो दशकों तक इस जमीन को किसी योजना के लिए प्रयोग नहीं कर सका।

किसानों और आवास विकास परिषद् का विवाद 2013 में उस समय स्वत: हल हो गया जब केन्द्र सरकार ने भू अधिग्रहण कानून में बड़े बदलाव कर डाले। नए कानून के मुताबिक सरकार द्वारा अधिग्रहित जमीन पर सरकार पांच सालों में कोई परियोजना नहीं शुरू करती तो उस अधिग्रहण को निरस्त माना जाएगा। ऐसे में चार दशकों से खाली पड़ी इस जमीन का स्वामित्व एक बार फिर किसानों की सहकारी आवासीय समिति को मिल गया।

{ यह भी पढ़ें:- ओपी चेंस ग्रुप की धोखाधड़ी के खिलाफ जांच के आदेश }

2013 तक सोना बन चुकी थी ये जमीन —

स्थानीय प्रॉप​र्टी डीलर्स की माने तो 2013 में इस जमीन की कीमत 35000 से 40000 प्रति वर्ग मीटर के आस पास रही होगी। चूंकि उस दौर में रियल इस्टेट सबसे चमकदार सेक्टर था, इस जमीन पर आगरा के बड़े से बड़े बिल्डरों ने दांव रखा, लेकिन कामयाबी मिली ओपी चेंस ग्रुप को।

ओपी चेंस ग्रुप के कानूनी सलाहकारों ने बड़ी चालाकी के साथ इस जमीन के लिए बनी सोसाइटी भारत नगर आवासीय सहकारी समिति में अपने एक करीबी शोभिक गोयल को सचिव बनवा दिया। उस समय ओपी चेंस ग्रुप की मंशा इस जमीन को समिति से खरीदने की थी, शोभिक गोयल ने कुछ किसानों को अपने पक्ष में करके सौदेबाजी शुरू की तो किसानों ने उस समय की बाजार की कीमत यानी करीब 40,000 रूपए प्रति वर्गमीटर के हिसाब पर सौदा करने को कहा।

{ यह भी पढ़ें:- आगरा के ओपी चेंस ग्रुप की धोखाधड़ी पार्ट-3 }

षड्यंत्र के तहत 652 करोड़ की जमीन 166 करोड़ में हथियाई —

ओपी चेंस ग्रुप को समिति के किसानों के साथ सौदा अपनी उम्मीद से कई गुना मंहगा लगा। जिसके बाद अपने सलाहकारों और आवास विकास परिषद् के अधिकारियों की मिली भगत से एक षड्यंत्र बनाया। जिसके तहत समिति की जमीन को आवास विकास परिषद् की कुछ जमीन के साथ मिलाकर नीलाम कराना था।

जिसके बाद हुआ भी कुछ ऐसा ही आवास विकास परिषद् अपने स्वामित्व वाली जमीन के साथ ही समिति की जमीन की बड़ी चतुराई के साथ ​नीलामी कर दी। इस नीलामी में 40,000 से 45,000 रूपए प्रति वर्गमीटर वाली जमीन को 11,500 रुपए प्रति एकड़ की दर पर ओपी चेंस ग्रुप की ही एक सहयोगी कंपनी को दे दिया गया।….जारी है पार्ट 2 जल्द

टीम पर्दाफाश इस स्टोरी के अगले पार्ट में आपको बताएगी कि किस तरह से आवास विकास परिषद् और ओपी चेंस ग्रुप ने षड्यंत्र रचाकर 652 करोड़ की जमीन को 166 करोड़ में कब्जा कर लिया। आज इस जमीन पर 3000 करोड़ का आवासीय प्रोजेक्ट चल रहा है।

{ यह भी पढ़ें:- आगरा के ओपी चेंस ग्रुप की धोखाधड़ी का पार्ट-2 }

आगरा। उत्तर प्रदेश के आगरा शहर के जाने मानी रियल इस्टेट कंपनी ओपी चेंस ग्रुप इन दिनों आवास विकास सेक्टर 12 D में कई एकड़ जमीन पर 'एंथेला' नाम से एक हाउसिंग प्रोजेक्ट लांच किया है। इस प्रोजेक्ट की कुल लागत करीब 3000 करोड़ रूपए है, जिसके लिए कंपनी ने बुकिंग लेना शुरू कर दिया है। मगर यह प्रोजेक्ट निवेशकों और घर के खरीददारों के साथ कानूनी लिहाज से धोखाधड़ी है। इस धोखाधड़ी में ओपी चेंस ग्रुप ने अपना पहला…
Loading...