यूपी में DGP के नाम पर मंथन शुरू, 26 जनवरी के बाद होगा ऐलान

यूपी में नए DGP के नाम पर मंथन शुरू, ओपी सिंह का नाम लिस्ट से बाहर
यूपी में नए DGP के नाम पर मंथन शुरू, ओपी सिंह का नाम लिस्ट से बाहर

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पुलिस महकमे में नए मुखिया की तैनाती के लिए समयसीमा बढ़ा दी गयी है। सूबे में डीजीपी के लिए ओपी सिंह का नाम अब बाहर हो चुका है। ओपी सिंह को 3 जनवरी को अपना पद संभालना था, लेकिन उस दिन के बाद से ही उन्‍होंने अपने नए पद को नहीं संभाला। जिसके चलते यूपी के डीजीपी पद से पीएमओ ने ओपी सिंह का नाम बाहर कर दिया। ओपी सिंह केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल में महानिदेशक के पद पर तैनात हैं।

Op Singh Will Not New Dgp Of Up Pmo Rejects His Name :

सुलखान सिंह के सेवानिवृत्त होने के बाद ओपी सिंह को इस पद की जिम्मेदारी सौंपी जानी थी। ओपी सिंह के वक्त पर काम ना संभाले जाने के कारण अब आगामी 26 जनवरी को नए नाम पर मुहर लग सकती है। माना जा रहा है कि योगी सरकार अब नए डीजीपी की खोज शुरू करने की तैयारी में है। रजनीकांत मिश्रा का नाम सबसे आगे माना जा रहा है लेकिन वह चूंकि एसएसबी के डीजी हैं, लिहाजा फिर से यूपी सरकार को केंद्र की तमाम प्रक्रियाओं से गुजरना होगा।

चर्चा है कि मुलायम सिंह यादव से करीबी और बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ हुई घटना से जुड़े होने के कारण डीजीपी की रेस से ओपी सिंह का नाम काटा गया है।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के पुलिस महकमे में नए मुखिया की तैनाती के लिए समयसीमा बढ़ा दी गयी है। सूबे में डीजीपी के लिए ओपी सिंह का नाम अब बाहर हो चुका है। ओपी सिंह को 3 जनवरी को अपना पद संभालना था, लेकिन उस दिन के बाद से ही उन्‍होंने अपने नए पद को नहीं संभाला। जिसके चलते यूपी के डीजीपी पद से पीएमओ ने ओपी सिंह का नाम बाहर कर दिया। ओपी सिंह केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल में महानिदेशक के पद पर तैनात हैं।सुलखान सिंह के सेवानिवृत्त होने के बाद ओपी सिंह को इस पद की जिम्मेदारी सौंपी जानी थी। ओपी सिंह के वक्त पर काम ना संभाले जाने के कारण अब आगामी 26 जनवरी को नए नाम पर मुहर लग सकती है। माना जा रहा है कि योगी सरकार अब नए डीजीपी की खोज शुरू करने की तैयारी में है। रजनीकांत मिश्रा का नाम सबसे आगे माना जा रहा है लेकिन वह चूंकि एसएसबी के डीजी हैं, लिहाजा फिर से यूपी सरकार को केंद्र की तमाम प्रक्रियाओं से गुजरना होगा।चर्चा है कि मुलायम सिंह यादव से करीबी और बसपा सुप्रीमो मायावती के साथ हुई घटना से जुड़े होने के कारण डीजीपी की रेस से ओपी सिंह का नाम काटा गया है।