2011 में हुआ था ऑपरेशन जिंजर, 3 पाक सैनिकों के सिर काट लाए थे भारतीय जवान

नई दिल्ली| अंग्रेजी अखबार द हिंदू ने खुलासा किया है कि भारतीय सेना ने जुलाई 2011 में एलओसी पार करके जिंजर में तीन पाकिस्तानी सैनिकों के सिर काट लिए थे| भारतीय सैनिकों ने ऐसा अपने 6 जवानों की शहादत का बदला लेने के लिए किया था|




दरअसल, 30 जुलाई 2011 को पाकिस्‍तानी सैनिकों ने कुपवाड़ा के गुगलधार की आर्मी पोस्‍ट में हमला किया था| उस समय वहां पोस्‍ट पर मौजूद 19 राजपूत रेजिमेंट की जगह लेने 20 कुमाऊं रेजिमेंट के सैनिक पहुंचे थे| पाकिस्‍तानी सैनिकों ने हमला कर 6 सैनिकों को मारा और उनमें से हवलदार जयपाल सिंह अधि‍कारी और लांस नायक देवेंद्र सिंह का सिर कलम कर ले गए थे| पाकिस्तान की इस कायरतापूर्ण कार्यवाई से भारतीय जवानों का गुस्सा भड़क उठा| इसी का बदला लेने के लिए आर्मी ने ऑपरेशन जिंजर प्‍लान किया जो भारतीय सेना के अब तक सबसे घातक सीमापार ऑपरेशन्‍स में से एक था।

अखबार के दावे के मुताबिक भारतीय सैनिकों ने पीओके में इस ऑपरेशन को 48 घंटे में अंजाम दिया था| भारतीय सैनिकों ने पीओके में पाकिस्तान की पुलिस चौकी के पास लैंड माइंस भी बिछाए थे| इस ऑपरेशन को बेहद खूफिया रखा गया था| ऑपरेशन से पहले भारतीय सेना ने सात बार रेकी भी की थी| इसके बाद जोर के पास एक पाकिस्‍तानी आर्मी पोस्‍ट, हिफाजत और लशदात के पास लॉजिंग पॉइंट को चिन्हित किया गया| बाद में घात लगाकर सेना ने इस हमले को अंजाम दिया| हालांकि इस ऑपरेशन में एक भारतीय जवान घायल भी हो गया था| अखबार के अनुसार ऑपरेशन जिंजर के दौरान एक भारतीय सैनिक घायल हो गया था|उस सैनिक की उंगली घायल हुई थी|