1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. आपदा में अवसर : लखनऊ में अंतिम संस्कार से लेकर अर्थी को कंधा देने जलाने तक का तय है रेट

आपदा में अवसर : लखनऊ में अंतिम संस्कार से लेकर अर्थी को कंधा देने जलाने तक का तय है रेट

कोरोना महामारी कहर से जहां कई परिवार उजड़ गए है। तो वहीं मौत को व्यापार मानने वाले ठेकेदारों ने अंतिम संस्कार से लेकर हर चीज का रेट तय कर दिया है।राजधानी लखनऊ में अंतिम संस्कार के लिए पैकेज तक बन गए हैं। डालीगंज स्थित अंतिम संस्कार का सामान बेचने वाली दुकानों पर इसके ठेकेदार बैठे मिल जाते हैं और ग्राहक के आते ही उसे पैकेज के बारे में विस्तार से बता देते हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

Opportunity In Disaster From The Funeral In Lucknow To Burning The Shoulder To Burn The Rate Is Set

लखनऊ। कोरोना महामारी के कहर से जहां कई परिवार उजड़ गए है। तो वहीं मौत को व्यापार मानने वाले ठेकेदारों ने अंतिम संस्कार से लेकर हर चीज का रेट तय कर दिया है। राजधानी लखनऊ में अंतिम संस्कार के लिए पैकेज तक बन गए हैं। डालीगंज स्थित अंतिम संस्कार का सामान बेचने वाली दुकानों पर इसके ठेकेदार बैठे मिल जाते हैं और ग्राहक के आते ही उसे पैकेज के बारे में विस्तार से बता देते हैं।

पढ़ें :- Video Viral : कोविड गाइडलाइन की धज्जियां उड़ाते दिखे बीजेपी विधायक पंकज गुप्ता

एक दुकान पर जब संपर्क किया गया तो एक व्यक्ति का नंबर दिया गया। इसने नॉन कोविड शवों के अंतिम संस्कार का 20 हजार रुपये तक का पैकेज ऑफर किया है। यह भी कहा कि कोविड शवों का चार्ज अलग होता है।

ये हैं पैकेज

फ्रीजर का रेट 24 घंटे के लिए 4500 रुपये और इसके बाद 3000 रुपये प्रतिदिन।
अस्पताल से घर के लिए वाहन 1500 रुपये
वहीं, घर से शमशान घाट के लिए 2500 रुपये।

इनका ये है रेट

पढ़ें :- पश्चिम बंगाल में 1 जुलाई तक बढ़ी कोरोना पाबंदी, सिर्फ 25 फीसदी क्षमता के साथ खुलेंगे कार्यालय

अंतिम संस्कार का सामान 6000 रुपये में।
टिकठी बनाने का चार्ज 1100 रुपये।
लकड़ी और अर्थी को कंधा देकर जलाने का चार्ज 4500 रुपये।

यह तस्वीर लखनऊ के श्मसान की है। जहां पर अब चिताओं की संख्या में कमी आई है। कहा जा रहा है कि ये बदलाव लॉकडाउन और जागरुकता से आया है। करीब एक सप्ताह पहले तो चिताएं सुबह-सुबह ही सज जातीं थी। बीते दिनों शवों की संख्या इतना ज्यादा थी कि पूरे दिन के साथ ही रात में भी चिताएं जलाई जाने लगी थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...
X