विपक्ष की ओर से गोपाल कृष्ण गांधी होंगे उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार

नई दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर तेज हुई विपक्षी दलों के बीच की सियासी सरगर्मी उपराष्ट्रपति चुनाव को लेकर थमती नजर आ रही है। विपक्ष के 18 दलों ने सर्वसम्मति से गोपाल कृष्ण गांधी को उप राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित किया है। राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी उम्मीदवार मीरा कुमार को अपना समर्थन न देने वाली जदयू ने भी गोपाल कृष्ण गांधी के नाम पर अपनी सहमति प्रदान कर दी है।

केन्द्र की सत्तारूढ़ राजग सरकार की ओर से प्रत्याशी बनाए गए बिहार के पूर्व राज्यपाल रामनाथ कोविंद को बिहार के सीएम नीतीश कुमार द्वारा समर्थन दिए जाने के बाद से जदयू विपक्षी दलों के निशाने पर थी। जदयू पर विपक्ष की विचारधारा से अलग चलने का आरोप लगा तो जदयू की ओर से भी बिना चर्चा के उम्मीदवार घोषित किए जाने का आरोप लगाया गया।

राष्ट्रपति उम्मीदवार को लेकर विपक्ष में सामने आई फूट को खत्म करने के लिए विपक्ष का नेतृत्व कर रही कांग्रेस ने उप राष्ट्रपति चुनाव को लेकर किसी भी राजनीतिक दल को शिकायत का मौका न देने की कोशिश के तहत मंगलवार को दिल्ली में एक बैठक को ​बुलाकर सभी विपक्षी दलों के नेताओं की सर्वसम्मति से गोपाल कृष्ण को अपना उम्मीदवार घोषित किया है।

जानिए कौन हैं गोपाल कृष्ण गांधी—

गोपाल कृष्ण गांधी की पहचान महात्मा गांधी के पौत्र और सेवानिवृत्त आईएएस के रूप में होती है। 2004 से 2009 तक पश्चिम बंगाल के राज्यपाल रहे गोपाल कृष्ण पूर्व में राष्ट्रपति भवन में बतौर सचिव भी तैनात रह चुके हैं। 1968 बैच के आईएएस गांधी तमिलनाडु कैडर के अधिकारी थे। जिसके बाद गोपाल कृष्ण गांधी दक्षिण अफ्रीका और श्रीलंका, नार्वे और आइसलैंड में भारत के राजदूत के रूप में तैनात रह चुके हैं।