नायडू ने संभाली एंटी-बीजेपी मोर्चे की कमान, 22 को दिल्ली मे बैठक

नायडू ने संभाली एंटी-बीजेपी मोर्चे की कमान, 22 को दिल्ली मे बैठक
नायडू ने संभाली एंटी-बीजेपी मोर्चे की कमान, 22 को दिल्ली मे बैठक

नई दिल्ली। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर सियासत गर्माने लगी है। बीजेपी से मुकाबला करने के लिए विपक्षी दल एकजुट होने की कोशिश कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ महागठबंधन बनाने की कोशिश में जुटे तेलुगू देशम पार्टी (TDP) के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू का विपक्षी नेताओं से मिलने का सिलसिला जारी हैकांग्रेस के महासचिव अशोक गहलोत के साथ मुलाकात के बाद नायडू ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह बात कही। गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष के दूत के तौर पर नायडू से मिलने गए थे। नायडू ने कहा कि इस मुलाकात का उद्देश्य सभी पार्टियों को बीजेपी के खिलाफ लड़ाई के लिए एक साथ लाना है।

Opposition Parties Likely To Meet In Delhi On November 22 As Anti Bjp Front Gathers Steam :

मंच को मजबूत करने के लिए गहलोत से की मुलाकात

चंद्रबाबू नायडू ने नेताओं से मिलने के सिलसिले में शनिवार को कांग्रेस नेता अशोक गहलोत से मुलाकात की है। इससे पहले शुक्रवार को उन्होंने चेन्नई में डीएमके चीफ एमके स्टालिन से उनके घर जाकर मुलाकात की थी। नायडू ने कहा कि वह बीजेपी विरोधी मोर्चे का चेहरा नहीं हैं। उन्होंने कहा कि गठबंधन का नेतृत्व कौन करेगा, इस पर बाद में फैसला होगा।

सभी बड़े दल 22 नवंबर को दिल्ली में एक बड़ी बैठक का आयोजन करेंगे

इस मीटिंग में यह तय हुआ कि बीजेपी के खिलाफ विपक्ष के सभी बड़े दल 22 नवंबर 2018 को दिल्ली में एक बड़ी बैठक का आयोजन करेंगे। गहलोत से मुलाकात के बाद आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने कहा, ‘2019 के चुनाव में बीजेपी के खिलाफ बाकी दलों को एकजुट करने की कोशिश जारी है। दिल्ली में होने वाली मीटिंग से पहले वह 19 नवंबर को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से भी मुलाकात करेंगे और गठबंधन के लिए उनका समर्थन मांगेंगे।’

चंद्रबाबू नायडू ने चेन्नई में डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन से मुलाकात की

दरअसल, आंध्र प्रदेश को स्पेशल स्टेटस और स्पेशल पैकेज नहीं मिलने से नाराज हुए चंद्रबाबू नायडू ने जब से केंद्र की एनडीए सरकार से समर्थन वापस लिया है, तब से वह बीजेपी विरोधी दलों को एकजुट करने में लग गए हैं। इससे पहले बीते शुक्रवार को उन्होंने जेडीएस प्रमुख और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा से भी मुलाकात की थी। इससे पहले तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने चेन्नई में डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन से उनके घर जाकर मुलाकात की थी।

मायावती और अखिलेश यादव से भी बातचीत की

नायडू ने बताया कि उन्होंने मायावती और अखिलेश यादव से भी बातचीत की है। वह कई लोगों से मुलाकात कर रहे हैं। सब मिलकर तय करेंगे कि आम सहमति के साथ गठबंधन कैसे आगे ले जाया जाए। यह शुरुआती कवायद है। इसके बाद मिलकर काम किया जाएगा। बता दें कि कांग्रेस के आलोचक रहे नायडू महागठबंधन के लिए उसके साथ बातचीत करने के भी खिलाफ नहीं हैं।

नई दिल्ली। अगले साल होने वाले लोकसभा चुनाव को लेकर सियासत गर्माने लगी है। बीजेपी से मुकाबला करने के लिए विपक्षी दल एकजुट होने की कोशिश कर रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ महागठबंधन बनाने की कोशिश में जुटे तेलुगू देशम पार्टी (TDP) के अध्यक्ष और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू का विपक्षी नेताओं से मिलने का सिलसिला जारी हैकांग्रेस के महासचिव अशोक गहलोत के साथ मुलाकात के बाद नायडू ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह बात कही। गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष के दूत के तौर पर नायडू से मिलने गए थे। नायडू ने कहा कि इस मुलाकात का उद्देश्य सभी पार्टियों को बीजेपी के खिलाफ लड़ाई के लिए एक साथ लाना है।

मंच को मजबूत करने के लिए गहलोत से की मुलाकात

चंद्रबाबू नायडू ने नेताओं से मिलने के सिलसिले में शनिवार को कांग्रेस नेता अशोक गहलोत से मुलाकात की है। इससे पहले शुक्रवार को उन्होंने चेन्नई में डीएमके चीफ एमके स्टालिन से उनके घर जाकर मुलाकात की थी। नायडू ने कहा कि वह बीजेपी विरोधी मोर्चे का चेहरा नहीं हैं। उन्होंने कहा कि गठबंधन का नेतृत्व कौन करेगा, इस पर बाद में फैसला होगा।

सभी बड़े दल 22 नवंबर को दिल्ली में एक बड़ी बैठक का आयोजन करेंगे

इस मीटिंग में यह तय हुआ कि बीजेपी के खिलाफ विपक्ष के सभी बड़े दल 22 नवंबर 2018 को दिल्ली में एक बड़ी बैठक का आयोजन करेंगे। गहलोत से मुलाकात के बाद आंध्र प्रदेश के सीएम चंद्रबाबू नायडू ने कहा, '2019 के चुनाव में बीजेपी के खिलाफ बाकी दलों को एकजुट करने की कोशिश जारी है। दिल्ली में होने वाली मीटिंग से पहले वह 19 नवंबर को पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी से भी मुलाकात करेंगे और गठबंधन के लिए उनका समर्थन मांगेंगे।'

चंद्रबाबू नायडू ने चेन्नई में डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन से मुलाकात की

दरअसल, आंध्र प्रदेश को स्पेशल स्टेटस और स्पेशल पैकेज नहीं मिलने से नाराज हुए चंद्रबाबू नायडू ने जब से केंद्र की एनडीए सरकार से समर्थन वापस लिया है, तब से वह बीजेपी विरोधी दलों को एकजुट करने में लग गए हैं। इससे पहले बीते शुक्रवार को उन्होंने जेडीएस प्रमुख और पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा से भी मुलाकात की थी। इससे पहले तेलुगू देशम पार्टी (टीडीपी) के अध्यक्ष एन चंद्रबाबू नायडू ने चेन्नई में डीएमके प्रमुख एमके स्टालिन से उनके घर जाकर मुलाकात की थी।

मायावती और अखिलेश यादव से भी बातचीत की

नायडू ने बताया कि उन्होंने मायावती और अखिलेश यादव से भी बातचीत की है। वह कई लोगों से मुलाकात कर रहे हैं। सब मिलकर तय करेंगे कि आम सहमति के साथ गठबंधन कैसे आगे ले जाया जाए। यह शुरुआती कवायद है। इसके बाद मिलकर काम किया जाएगा। बता दें कि कांग्रेस के आलोचक रहे नायडू महागठबंधन के लिए उसके साथ बातचीत करने के भी खिलाफ नहीं हैं।