दाऊद के करीबी मुन्ना को थाईलैंड ने पाक को सौंपा, भारत ने जताया कड़ा विरोध

daut
दाऊद के करीबी मुन्ना को थाईलैंड ने पाक को सौंपा, भारत ने जताया कड़ा विरोध

नई दिल्ली। मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के करीबी शूटर सैयद मुदस्सर उर्फ मुन्ना झिंगाड़ा को थाईलैंड ने पाकिस्तान (Pakistan) को सौंप दिया है। थाईलैंड के इस कदम से नई दिल्ली और बैंकॉक के रिश्तों में खटास आ सकती है। दो साल से बैंकॉक की जेल में बंद मुन्ना को वहां की कोर्ट ने 9 अक्टूबर को लंबी सुनवाई के बाद पाकिस्तान का नागरिक घोषित कर दिया था।

Other Extradition Of Dawood Key Aide To Pakistan Brings Indo Thai Ties Under Cloud :

दरअसल भारत का दावा था कि झिंगड़ा का मूल नाम सईद मुजक्किर हुसैन है। वह भारतीय नागरिक है। अंडरवर्ल्ड से जुड़े छोटा राजन पर हमला मामले में 35 साल की सजा पाने और बाद में 16 साल की सजा पाने वाले झिंगड़ा को थाईलैंड की स्थानीय अदालत ने भारत को प्रत्यर्पित करने का फैसला सुनाया था।

इस फैसले को ऊपरी अदालत ने पलट दिया और बीते नौ अक्तूबर को थाईलैंड ने उसे पाकिस्तान को सौंप दिया। गौरतलब है कि झिंगड़ा सजा पूरी करने के बाद बीते तीन साल से थाईलैंड में रह रहा था।

सूत्रों ने बताया कि इस फैसले के बाद भारत ने उच्चायोग के माध्यम से थाईलैंड के समक्ष कड़ी आपत्ति दर्ज कराई। इस दौरान यह भी कहा कि वह दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों की नए सिरे से समीक्षा करेगा। उक्त सूत्र के मुताबिक भारत बीते करीब पांच वर्षों से झिंगड़ा के प्रत्यर्पण के लिए थाईलैंड के संपर्क में था।

इस संबंध में संबंधित पक्ष को उसके भारतीय नागरिक होने के पुख्ता साक्ष्य मुहैया कराए गए थे। वह दाऊद का शूटर था। इसी आधार पर निचली अदालत ने छोटा राजन की तरह ही उसे भारत प्रत्यर्पित करने का फैसला सुनाया था। जब दाऊद भारत का नागरिक है तो उसके शूटर को किस आधार पर पाकिस्तान जहां खुद दाऊद बैठा है वहां प्रत्यर्पित किया जा सकता है। हालांकि उच्च अदालत में स्थिति पलट गई।  

नई दिल्ली। मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड और अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम (Dawood Ibrahim) के करीबी शूटर सैयद मुदस्सर उर्फ मुन्ना झिंगाड़ा को थाईलैंड ने पाकिस्तान (Pakistan) को सौंप दिया है। थाईलैंड के इस कदम से नई दिल्ली और बैंकॉक के रिश्तों में खटास आ सकती है। दो साल से बैंकॉक की जेल में बंद मुन्ना को वहां की कोर्ट ने 9 अक्टूबर को लंबी सुनवाई के बाद पाकिस्तान का नागरिक घोषित कर दिया था। दरअसल भारत का दावा था कि झिंगड़ा का मूल नाम सईद मुजक्किर हुसैन है। वह भारतीय नागरिक है। अंडरवर्ल्ड से जुड़े छोटा राजन पर हमला मामले में 35 साल की सजा पाने और बाद में 16 साल की सजा पाने वाले झिंगड़ा को थाईलैंड की स्थानीय अदालत ने भारत को प्रत्यर्पित करने का फैसला सुनाया था। इस फैसले को ऊपरी अदालत ने पलट दिया और बीते नौ अक्तूबर को थाईलैंड ने उसे पाकिस्तान को सौंप दिया। गौरतलब है कि झिंगड़ा सजा पूरी करने के बाद बीते तीन साल से थाईलैंड में रह रहा था। सूत्रों ने बताया कि इस फैसले के बाद भारत ने उच्चायोग के माध्यम से थाईलैंड के समक्ष कड़ी आपत्ति दर्ज कराई। इस दौरान यह भी कहा कि वह दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों की नए सिरे से समीक्षा करेगा। उक्त सूत्र के मुताबिक भारत बीते करीब पांच वर्षों से झिंगड़ा के प्रत्यर्पण के लिए थाईलैंड के संपर्क में था। इस संबंध में संबंधित पक्ष को उसके भारतीय नागरिक होने के पुख्ता साक्ष्य मुहैया कराए गए थे। वह दाऊद का शूटर था। इसी आधार पर निचली अदालत ने छोटा राजन की तरह ही उसे भारत प्रत्यर्पित करने का फैसला सुनाया था। जब दाऊद भारत का नागरिक है तो उसके शूटर को किस आधार पर पाकिस्तान जहां खुद दाऊद बैठा है वहां प्रत्यर्पित किया जा सकता है। हालांकि उच्च अदालत में स्थिति पलट गई।