लीबिया में चुनाव आयोग कार्यालय पर हमला, 16 की मौत, IS ने ली जिम्मेदारी

त्रिपोली। लीबिया चुनाव आयोग के कार्यालय पर हुए हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर 16 हो गई है। आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।सार्वजनिक त्रिपोली फील्ड हॉस्पिटल के अधिकारी अब्दादईम अर-राबती ने मृतकों की संख्या की पुष्टि करते हुए बुधवार रात को सिन्हुआ को बताया कि आयोग के नौ कर्मचारी, चार सुरक्षाकर्मी और दो आतंकवादियों की मौत हुई है जबकि 21 लोग घायल हैं।

Other Militants Attack On Election Commission Headquarters In Libya :

आईएस हमलावरों ने बुधवार को भवन के मुख्य द्वार पर हमला किया था। सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ हुई और सुरक्षाकर्मियों से घिरने के बाद उन्होंने खुद को उड़ा लिया था। यह हमला उस वक्ता हुआ, जब लीबिया में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन के सहयोग से संयुक्त राष्ट्र समर्थित सरकार 2018 के अंत से पहले राष्ट्रपति और संसदीय चुनाव आयोजित करने के लिए तैयार है।

आयोग के उपप्रमुख अब्दलाहकिम बेलखैर ने सूत्रों से कहा कि इस हमले से पता चलता है कि यह हमला आगामी चुनावों को किसी भी हाल में नहीं होने देने का प्रयास था। संयुक्त राष्ट्र समर्थित लीबिया सरकार ने तीन दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित करते हुए कहा, “ये अपराध हमें इस तरह के अपराधों के खिलाफ एकजुट होने और सबी प्रारूपों में आतंकवाद से लड़ने के हमारे दृढ़ संकल्प को बढ़ाएंगे।”

त्रिपोली। लीबिया चुनाव आयोग के कार्यालय पर हुए हमले में मृतकों की संख्या बढ़कर 16 हो गई है। आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (IS) ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।सार्वजनिक त्रिपोली फील्ड हॉस्पिटल के अधिकारी अब्दादईम अर-राबती ने मृतकों की संख्या की पुष्टि करते हुए बुधवार रात को सिन्हुआ को बताया कि आयोग के नौ कर्मचारी, चार सुरक्षाकर्मी और दो आतंकवादियों की मौत हुई है जबकि 21 लोग घायल हैं। आईएस हमलावरों ने बुधवार को भवन के मुख्य द्वार पर हमला किया था। सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ हुई और सुरक्षाकर्मियों से घिरने के बाद उन्होंने खुद को उड़ा लिया था। यह हमला उस वक्ता हुआ, जब लीबिया में संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन के सहयोग से संयुक्त राष्ट्र समर्थित सरकार 2018 के अंत से पहले राष्ट्रपति और संसदीय चुनाव आयोजित करने के लिए तैयार है। आयोग के उपप्रमुख अब्दलाहकिम बेलखैर ने सूत्रों से कहा कि इस हमले से पता चलता है कि यह हमला आगामी चुनावों को किसी भी हाल में नहीं होने देने का प्रयास था। संयुक्त राष्ट्र समर्थित लीबिया सरकार ने तीन दिन का राष्ट्रीय शोक घोषित करते हुए कहा, "ये अपराध हमें इस तरह के अपराधों के खिलाफ एकजुट होने और सबी प्रारूपों में आतंकवाद से लड़ने के हमारे दृढ़ संकल्प को बढ़ाएंगे।"