यूपी: 50 साल पार कर चुके नकारा पुलिस अफसरों का होगा जबरन रिटायरमेंट

cm yogi
यूपी: 50 साल पार कर चुके नकारा पुलिस अफसरों का होगा जबरन रिटायरमेंट

लखनऊ। भ्रष्टाचार में लिप्त अफसरों पर अब यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नजरें टेढ़ी हो चुकी हैं। जल्द ही 50 साल के पार हो चुके नकारा और भ्रष्ट पुलिस अफसरों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी जाएगी। इसके लिए एडीजी स्थापना पीयूष आनन्द ने पुलिस की सभी इकाईयों के प्रमुखों, सभी आईजी रेंज और एडीजी जोन को ऐसे पुलिसवालों की सूची 30 जून तक भेजने के लिए पत्र लिखा है।

Over 50 Retired Policemen Will Be Forced To Retire :

बताते चलें कि सीएम योगी ने गृह विभाग की समीक्षा के दौरान ऐसे अफसरों को जबरन रिटायरमेंट देने के निर्देश दिये थे। सीएम योगी के निर्देश के बाद एडीजी स्थापना पीयूष आनन्द ने सभी इकाईयों और जिलों में बनाई गई स्क्रीनिंग कमिटी की रिपोर्ट तलब कर ली है। इसके तहत ऐसे पुलिसवालों की छंटनी होगी, जो 31 मार्च 2019 को 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके हैं।

पुलिस महकमे के साथ ही सीएम योगी ने सचिवालय प्रशासन की समीक्षा बैठक में भी ऐसे अफसरों को लेकर निर्देश दिया था कि उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति दिया जाये, जो 50 साल की उम्र पार कर चुके हैं। सीएम की बैठक के बाद ही ऐसे अफसरों की फाइलें खंगालना शुरू कर दिया गया।

आपको बता दें कि इससे पहले केंद्र सरकार ने भी 15 वरिष्ठ आईटी अधिकारियों को जबरन सेवानिवृत्त कर दिया था।

लखनऊ। भ्रष्टाचार में लिप्त अफसरों पर अब यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नजरें टेढ़ी हो चुकी हैं। जल्द ही 50 साल के पार हो चुके नकारा और भ्रष्ट पुलिस अफसरों को अनिवार्य सेवानिवृत्ति दे दी जाएगी। इसके लिए एडीजी स्थापना पीयूष आनन्द ने पुलिस की सभी इकाईयों के प्रमुखों, सभी आईजी रेंज और एडीजी जोन को ऐसे पुलिसवालों की सूची 30 जून तक भेजने के लिए पत्र लिखा है। बताते चलें कि सीएम योगी ने गृह विभाग की समीक्षा के दौरान ऐसे अफसरों को जबरन रिटायरमेंट देने के निर्देश दिये थे। सीएम योगी के निर्देश के बाद एडीजी स्थापना पीयूष आनन्द ने सभी इकाईयों और जिलों में बनाई गई स्क्रीनिंग कमिटी की रिपोर्ट तलब कर ली है। इसके तहत ऐसे पुलिसवालों की छंटनी होगी, जो 31 मार्च 2019 को 50 वर्ष की उम्र पार कर चुके हैं। पुलिस महकमे के साथ ही सीएम योगी ने सचिवालय प्रशासन की समीक्षा बैठक में भी ऐसे अफसरों को लेकर निर्देश दिया था कि उन्हें अनिवार्य सेवानिवृत्ति दिया जाये, जो 50 साल की उम्र पार कर चुके हैं। सीएम की बैठक के बाद ही ऐसे अफसरों की फाइलें खंगालना शुरू कर दिया गया। आपको बता दें कि इससे पहले केंद्र सरकार ने भी 15 वरिष्ठ आईटी अधिकारियों को जबरन सेवानिवृत्त कर दिया था।