ओवैसी और अंबेडकर ने मिलाया हाथ, साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव

ओवैसी और अंबेडकर ने मिलाया हाथ, साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव
ओवैसी और अंबेडकर ने मिलाया हाथ, साथ मिलकर लड़ेंगे चुनाव

नई दिल्ली। 2019 को लेकर सभी पार्टियों ने अपना-अपना जोड़-तोड़ करना शुरु कर दिया है। गठबंधन के इस बनते बिगड़ते खेल में महाराष्ट्र से एक बड़ी खबर आई है। प्रकाश आंबेडकर की भारिपा बहुजन महासंघ और असदुद्दीन ओवैसी की एमआइएम ने शनिवार को लोकसभा और विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ने का फैसला किया है। दोनों पार्टियों के गठबंधन का औपचारिक एलान दो अक्टूबर को होने वाली औरंगाबाद की रैली में किया जाएगा।

Owaisi And Ambedkar Alliance For The 2019 Election Season :

औरंगाबाद से ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुसलमीन (एआइएमआइएम) विधायक इम्तियाज जलील ने बताया कि नया गठबंधन दलितों, मुस्लिमों सहित अन्य पिछड़ा वर्ग के हितों की लड़ाई लड़ेगा। उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले 70 सालों में इस समाज को सिर्फ एक वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया गया है। गठबंधन के नेतृत्व पर जलील ने कहा कि ओवैसी ने पहले ही आंबेडकर से नेतृत्व करने की अपील की है। सीटों के बंटवारे पर उन्होंने अगले माह तस्वीर साफ होने की बात कही है।

उन्होंने बताया, ‘यह सभी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष पार्टियों के लिए शर्म की बात है कि महाराष्ट्र से संसद में मुस्लिम समुदाय का प्रतिनिधित्व नहीं है। हर कोई उनका वोट चाहता है लेकिन प्रतिनिधित्व कोई नहीं देना चाहता। यही स्थिति दलितों की भी है।’ पूर्व विधायक और बीबीएम के नेता हरिभाऊ भाले ने कहा कि दलित, मुस्लिम और अन्य पिछड़ा वर्ग मुख्यधारा की पार्टियों से परेशान हैं।

नई दिल्ली। 2019 को लेकर सभी पार्टियों ने अपना-अपना जोड़-तोड़ करना शुरु कर दिया है। गठबंधन के इस बनते बिगड़ते खेल में महाराष्ट्र से एक बड़ी खबर आई है। प्रकाश आंबेडकर की भारिपा बहुजन महासंघ और असदुद्दीन ओवैसी की एमआइएम ने शनिवार को लोकसभा और विधानसभा चुनाव मिलकर लड़ने का फैसला किया है। दोनों पार्टियों के गठबंधन का औपचारिक एलान दो अक्टूबर को होने वाली औरंगाबाद की रैली में किया जाएगा।औरंगाबाद से ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुसलमीन (एआइएमआइएम) विधायक इम्तियाज जलील ने बताया कि नया गठबंधन दलितों, मुस्लिमों सहित अन्य पिछड़ा वर्ग के हितों की लड़ाई लड़ेगा। उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले 70 सालों में इस समाज को सिर्फ एक वोट बैंक की तरह इस्तेमाल किया गया है। गठबंधन के नेतृत्व पर जलील ने कहा कि ओवैसी ने पहले ही आंबेडकर से नेतृत्व करने की अपील की है। सीटों के बंटवारे पर उन्होंने अगले माह तस्वीर साफ होने की बात कही है।उन्होंने बताया, 'यह सभी तथाकथित धर्मनिरपेक्ष पार्टियों के लिए शर्म की बात है कि महाराष्ट्र से संसद में मुस्लिम समुदाय का प्रतिनिधित्व नहीं है। हर कोई उनका वोट चाहता है लेकिन प्रतिनिधित्व कोई नहीं देना चाहता। यही स्थिति दलितों की भी है।' पूर्व विधायक और बीबीएम के नेता हरिभाऊ भाले ने कहा कि दलित, मुस्लिम और अन्य पिछड़ा वर्ग मुख्यधारा की पार्टियों से परेशान हैं।