ओवैसी ने उद्धव को दी नसीहत, सेक्युलर का मतलब- ‘नो हिंदू राष्ट्र’

Owaisi gave advice to Uddhav
ओवैसी ने उद्धव को दी नसीहत, सेक्युलर का मतलब- 'नो हिंदू राष्ट्र'

मुम्बई। शिवसेना पार्टी की शुरूवात से सबसे प्रमुख विचारधारा हिन्दुत्व रही और बाला साहब ठाकरे की अध्यक्षता से लेकर उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता वाली शिवसेना ने हमेशा हिन्दुत्व के मुददे पर ही चुनाव लड़ा। लेकिन इस बार सीएम की कुर्सी को लेकर भाजपा के साथ पेंच फंसा तो हिन्दुत्व के मुददे पर समझौता करते हुए शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ हाथ मिला लिया। तभी से शिवसेना सेक्युलर कही जाने लगी, वहीं जब कल सीएम बनने के बाद उद्धव ठाकरे से सेक्युलर पर एक सवाल पूछा गया तो वो भड़क गये। अब AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने उन्हें सेक्युलर का मतलब समझाते हुए टवीट किया है।

Owaisi Gave Advice To Uddhav Secular Means No Hindu Nation :

AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ”ये ऐसा दार्शनिक सवाल नहीं है, जिसके बारे में इतना सोचने की जरूरत है। खुद के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के शब्दों का मतलब पूछना भी ठीक नहीं है। बहरहाल कुछ ज्ञान ले लीजिये…इसका मतलब (सेक्युलर का मतलब) है। कोई हिंदू राष्ट्र नहीं और दो अलग-अलग मान्यताओं को मानने वाले लोगों के बीच कोई भेद नहीं”. ओवैसी ने अपने ट्वीट में उद्धव ठाकरे के कार्यालय को भी टैग किया है।

आपको बता दें कि कल शाम शिवाजी पार्क मेें उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और उसके तुरंत बाद ही सहयाद्री गेस्ट हाउस में अपनी पहली कैबिनेट की बैठक भी की। बैठक से जब बाहर निकले तो उन्होने एक प्रेस वार्ता की, इसी दौरान उन्होने कहा कि मैं राज्य के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि हम एक अच्छी सरकार देंगे। ‘महाराष्ट्र विकास अघाड़ी’ के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम में ‘सेक्यूलर’ शब्द का इस्तेमाल किया गया है। इसी पर ​रिपोर्टर ने उद्धव ठाकरे से सवाल पूछा कि क्या शिवसेना सेक्युलर हो गई है? बस इसी पर उद्धव भड़क गये और उद्धव पत्रकार से ही सेक्यूलर शब्द का मतलब पूछने लगे। उद्धव ने कहा कि संविधान में जो कुछ है, वही सेक्युलर है।

मुम्बई। शिवसेना पार्टी की शुरूवात से सबसे प्रमुख विचारधारा हिन्दुत्व रही और बाला साहब ठाकरे की अध्यक्षता से लेकर उद्धव ठाकरे की अध्यक्षता वाली शिवसेना ने हमेशा हिन्दुत्व के मुददे पर ही चुनाव लड़ा। लेकिन इस बार सीएम की कुर्सी को लेकर भाजपा के साथ पेंच फंसा तो हिन्दुत्व के मुददे पर समझौता करते हुए शिवसेना ने एनसीपी और कांग्रेस के साथ हाथ मिला लिया। तभी से शिवसेना सेक्युलर कही जाने लगी, वहीं जब कल सीएम बनने के बाद उद्धव ठाकरे से सेक्युलर पर एक सवाल पूछा गया तो वो भड़क गये। अब AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने उन्हें सेक्युलर का मतलब समझाते हुए टवीट किया है। AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट करते हुए लिखा, ''ये ऐसा दार्शनिक सवाल नहीं है, जिसके बारे में इतना सोचने की जरूरत है। खुद के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम के शब्दों का मतलब पूछना भी ठीक नहीं है। बहरहाल कुछ ज्ञान ले लीजिये...इसका मतलब (सेक्युलर का मतलब) है। कोई हिंदू राष्ट्र नहीं और दो अलग-अलग मान्यताओं को मानने वाले लोगों के बीच कोई भेद नहीं''. ओवैसी ने अपने ट्वीट में उद्धव ठाकरे के कार्यालय को भी टैग किया है। आपको बता दें कि कल शाम शिवाजी पार्क मेें उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी और उसके तुरंत बाद ही सहयाद्री गेस्ट हाउस में अपनी पहली कैबिनेट की बैठक भी की। बैठक से जब बाहर निकले तो उन्होने एक प्रेस वार्ता की, इसी दौरान उन्होने कहा कि मैं राज्य के लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि हम एक अच्छी सरकार देंगे। 'महाराष्ट्र विकास अघाड़ी' के कॉमन मिनिमम प्रोग्राम में 'सेक्यूलर' शब्द का इस्तेमाल किया गया है। इसी पर ​रिपोर्टर ने उद्धव ठाकरे से सवाल पूछा कि क्या शिवसेना सेक्युलर हो गई है? बस इसी पर उद्धव भड़क गये और उद्धव पत्रकार से ही सेक्यूलर शब्द का मतलब पूछने लगे। उद्धव ने कहा कि संविधान में जो कुछ है, वही सेक्युलर है।