काशी महाकाल एक्सप्रेस: भगवान शिव के लिए आरक्षित सीट पर भड़के ओवैसी

काशी महाकाल एक्सप्रेस: भगवान शिव के लिए आरक्षित सीट पर भड़के ओवैसी
काशी महाकाल एक्सप्रेस: भगवान शिव के लिए आरक्षित सीट पर भड़के ओवैसी

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वाराणसी से काशी महाकाल एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा दी है और उसी के बाद से इसपर राजनीति भी शुरू हो गई है। दरअसल, इस ट्रेन में भगवान शिव के लिए भी एक सीट आरक्षित की गई है। जिसे लेकर एआईएमआईएम प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है।

Owaisi Objected To Coach Number Five Seat Number 64 In Kashi Mahakal Express :

ओवैसी ने काशी महाकाल एक्सप्रेस में शिव के लिए आरक्षित सीट का विरोध करते हुए पीएमओ को टैग करते हुए संविधान की प्रस्तावना ट्वीट किया है।

बता दें कि यह एक्सप्रेस दो राज्यों के तीन ज्योतिर्लिंगों की यात्रा करेगा। यह ट्रेन इंदौर के निकट ओंकारेश्वर, उज्जैन में महाकालेश्वर और वाराणसी में काशी विश्वनाथ को जोड़ेगी। वहीं, ट्रेन में भगवान शिव के लिए सीट आरक्षित करने ने नए विचार के बाद रेलवे प्रशासन इस पर विचार कर रहा है कि ट्रेन में स्थायी तौर पर भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित की जाए। उत्तर रेलवे के अनुसार काशी महाकाल एक्सप्रेस के कोच संख्या बी 5 की सीट संख्या 64 भगवान के लिए खाली की गई है।

सीट पर एक मंदिर भी बनाया गया है ताकि लोग इस बात से अवगत हों कि यह सीट मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल के लिए है। वहीं, रेलवे के अनुसार ऐसा पहली बार हुआ है जब एक सीट भगवान शिव के लिए आरक्षित और खाली रखी गई है और रेलवे ऐसा स्थायी तौर पर करने के लिए विचार कर रहा है।

लखनऊ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वाराणसी से काशी महाकाल एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा दी है और उसी के बाद से इसपर राजनीति भी शुरू हो गई है। दरअसल, इस ट्रेन में भगवान शिव के लिए भी एक सीट आरक्षित की गई है। जिसे लेकर एआईएमआईएम प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार पर निशाना साधा है। ओवैसी ने काशी महाकाल एक्सप्रेस में शिव के लिए आरक्षित सीट का विरोध करते हुए पीएमओ को टैग करते हुए संविधान की प्रस्तावना ट्वीट किया है। बता दें कि यह एक्सप्रेस दो राज्यों के तीन ज्योतिर्लिंगों की यात्रा करेगा। यह ट्रेन इंदौर के निकट ओंकारेश्वर, उज्जैन में महाकालेश्वर और वाराणसी में काशी विश्वनाथ को जोड़ेगी। वहीं, ट्रेन में भगवान शिव के लिए सीट आरक्षित करने ने नए विचार के बाद रेलवे प्रशासन इस पर विचार कर रहा है कि ट्रेन में स्थायी तौर पर भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित की जाए। उत्तर रेलवे के अनुसार काशी महाकाल एक्सप्रेस के कोच संख्या बी 5 की सीट संख्या 64 भगवान के लिए खाली की गई है। सीट पर एक मंदिर भी बनाया गया है ताकि लोग इस बात से अवगत हों कि यह सीट मध्य प्रदेश के उज्जैन के महाकाल के लिए है। वहीं, रेलवे के अनुसार ऐसा पहली बार हुआ है जब एक सीट भगवान शिव के लिए आरक्षित और खाली रखी गई है और रेलवे ऐसा स्थायी तौर पर करने के लिए विचार कर रहा है।