अयोध्या फैसले पर बोले ओवैसी-हमें 5 एकड़ जमीन के ऑफर को खारिज कर देना चाहिए

Asaduddin Owaisi
अयोध्या फैसले पर बोले ओवैसी-हमें 5 एकड़ जमीन के ऑफर को खारिज कर देना चाहिए

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या विवाद पर अपना फैसला सुना दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने असहमति जताई है। ओवैसी ने कहा कि, हमें मस्जिद के लिए पांच एकड़ की जमीन के ऑफर को खारिज कर देना चाहिए। अवैसी ने कहा कि मेरा सवाल है कि यदि 6 दिसंबर, 1992 को मस्जिद न ढहाई जाती तो क्या सुप्रीम कोर्ट का यही फैसला होता।

Owaisi Said On Ayodhya Verdict We Should Reject The Offer Of 5 Acres Of Land :

उन्होंने कहा कि वह इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं। जिन्होंने बाबरी मस्जिद को शहीद किया, कोर्ट ने उन्हें ही ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया है। यदि बाबरी मस्जिद नहीं ढहाई जाती तो कोर्ट आखिर क्या फैसला देता। यही नहीं, शीर्ष अदालत के फैसले में 5 एकड़ जमीन दिए जाने के फैसले को उन्होंने खारिज करते हुए कि यह न्याय नहीं है।

ओवैसी ने कहा कि, मुस्लिमों के साथ अत्याचार हुआ है, इसे कोई भी खारिज नहीं कर सकता है। मुसलमान इतना गरीब नहीं है कि वह 5 एकड़ जमीन नहीं खरीद सकता। यदि मैं हैदराबाद की अवाम से ही भीख मांगू तो 5 एकड़ जमीन ले सकेंगे। हमें किसी की भीख की जरूरत नहीं है।

ओवैसी ने कहा कि, जब तक दुनिया रहेगी, वह तब तक इस मुल्क में हम बाइज्जत शहरी थे और रहेंगे। हम अपनी कौम को बताते जाएंगे कि 500 साल से यहां मस्जिद थी, लेकिन 6 दिसंबर, 1992 को गिरा दी गई। संघ परिवार ने कांग्रेस की साजिश की मदद से ऐसा किया।

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या विवाद पर अपना फैसला सुना दिया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी ने असहमति जताई है। ओवैसी ने कहा कि, हमें मस्जिद के लिए पांच एकड़ की जमीन के ऑफर को खारिज कर देना चाहिए। अवैसी ने कहा कि मेरा सवाल है कि यदि 6 दिसंबर, 1992 को मस्जिद न ढहाई जाती तो क्या सुप्रीम कोर्ट का यही फैसला होता। उन्होंने कहा कि वह इस फैसले से संतुष्ट नहीं हैं। जिन्होंने बाबरी मस्जिद को शहीद किया, कोर्ट ने उन्हें ही ट्रस्ट बनाने का आदेश दिया है। यदि बाबरी मस्जिद नहीं ढहाई जाती तो कोर्ट आखिर क्या फैसला देता। यही नहीं, शीर्ष अदालत के फैसले में 5 एकड़ जमीन दिए जाने के फैसले को उन्होंने खारिज करते हुए कि यह न्याय नहीं है। ओवैसी ने कहा कि, मुस्लिमों के साथ अत्याचार हुआ है, इसे कोई भी खारिज नहीं कर सकता है। मुसलमान इतना गरीब नहीं है कि वह 5 एकड़ जमीन नहीं खरीद सकता। यदि मैं हैदराबाद की अवाम से ही भीख मांगू तो 5 एकड़ जमीन ले सकेंगे। हमें किसी की भीख की जरूरत नहीं है। ओवैसी ने कहा कि, जब तक दुनिया रहेगी, वह तब तक इस मुल्क में हम बाइज्जत शहरी थे और रहेंगे। हम अपनी कौम को बताते जाएंगे कि 500 साल से यहां मस्जिद थी, लेकिन 6 दिसंबर, 1992 को गिरा दी गई। संघ परिवार ने कांग्रेस की साजिश की मदद से ऐसा किया।