INX मीडिया केस: पी चिदंबरम ने जमानत के लिए खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

chitmbaram
INX मीडिया केस: पी चिदंबरम ने जमानत के लिए खटखटाया सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा

नई दिल्ली। INX मीडिया मामले (INX Media Case) में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। चिदंबरम ने अपनी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की। चिदंबरम (P chidambaram) की ओर से कपिल सिब्बल ने शुक्रवार सुनवाई की मांग की पी चिदंबरम की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने कहा कि मामले को सूचीबद्ध करने के संबंध में फैसला लेने के लिए पी चिदंबरम की याचिका प्रधान न्यायाधीश के पास भेजी जाएगी।

P Chidambaram Seeks Bail From Supreme Court In Inx Media Case :

जस्टिस एनवी रमण की अध्‍यक्षता वाली पीठ ने कहा कि यह मामला सूचीबद्ध करने के संबंध में फैसला लेने के लिए पी चिदंबरम की याचिका चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के पास भेजी जाएगी। बता दें कि आईएनएक्‍स मीडिया केस में आरोपी पूर्व वित्‍त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम इस समय न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं। उनकी न्‍यायिक हिरासत गुरुवार को ही खत्‍म हो रही है।

सीबीआई ने चिदंबरम की जमानत का विरोध किया  

बता दें, दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में उनकी जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा कि जांच अग्रिम चरण में है और इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। उच्च न्यायालय ने चिदंबरम की याचिका खारिज करने के दौरान कड़ी टिप्पणियां करते हुए कहा कि इस बात में कोई संदेह नहीं है कि अगर चिदंबरम के खिलाफ मामला साबित हुआ तो यह समाज, अर्थव्यवस्था, वित्तीय स्थिरता और देश की अखंडता के साथ किया गया अपराध है। अदालत ने कहा कि चिदंबरम के विदेश भागने का खतरा नहीं है और इस बात का भी अंदेशा नहीं है कि वह सबूतों से छेड़छाड़ कर सकते हैं लेकिन अगर उन्हें जमानत दी गई तो वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं।

घर के खाने की कर चुके मांग

इससे पहले पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने एक अक्‍टूबर को ट्रायल कोर्ट (Trial Court) में एक अर्जी दायर की है। इस अर्जी के जरिए उन्होंने अपनी न्यायिक हिरासत (Judicial Custody) के दौरान घर का पका हुआ खाना दिए जाने की मांग की है। कोर्ट उनकी याचिका पर गुरुवार को सुनवाई करेगा। पी चिदंबरम आईएनएक्स मीडिया मामले (INX Media Case) में फिलहाल तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में बंद हैं।

मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में न्यायिक हिरासत में हैं चिदंबरम

चिदंबरम 21 अगस्त को दिल्‍ली के जोर बाग स्थित अपने आवास से सीबीआई (CBI) द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद से तिहाड़ जेल में तीन अक्तूबर तक न्यायिक हिरासत में हैं। सीबीआई (CBI) ने 15 मई 2017 को एक प्राथमिकी दर्ज की थी जिसमें 2007 में 305 करोड़ रुपये की विदेशी धन राशि लेने के लिए आईएनएक्स मीडिया समूह को एफआईपीबी मंजूरी दिए जाने में अनियमितताओं का आरोप लगाया गया है। 2007 में चिदंबरम वित्त मंत्री थे। इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय ने 2017 में इस संबंध में धन शोधन का एक मामला दर्ज किया था।

नई दिल्ली। INX मीडिया मामले (INX Media Case) में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने जमानत के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। चिदंबरम ने अपनी याचिका पर सुप्रीम कोर्ट से जल्द सुनवाई की मांग की। चिदंबरम (P chidambaram) की ओर से कपिल सिब्बल ने शुक्रवार सुनवाई की मांग की पी चिदंबरम की याचिका पर उच्चतम न्यायालय ने कहा कि मामले को सूचीबद्ध करने के संबंध में फैसला लेने के लिए पी चिदंबरम की याचिका प्रधान न्यायाधीश के पास भेजी जाएगी। जस्टिस एनवी रमण की अध्‍यक्षता वाली पीठ ने कहा कि यह मामला सूचीबद्ध करने के संबंध में फैसला लेने के लिए पी चिदंबरम की याचिका चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के पास भेजी जाएगी। बता दें कि आईएनएक्‍स मीडिया केस में आरोपी पूर्व वित्‍त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम इस समय न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं। उनकी न्‍यायिक हिरासत गुरुवार को ही खत्‍म हो रही है। सीबीआई ने चिदंबरम की जमानत का विरोध किया   बता दें, दिल्ली उच्च न्यायालय ने सोमवार को आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में उनकी जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा कि जांच अग्रिम चरण में है और इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। उच्च न्यायालय ने चिदंबरम की याचिका खारिज करने के दौरान कड़ी टिप्पणियां करते हुए कहा कि इस बात में कोई संदेह नहीं है कि अगर चिदंबरम के खिलाफ मामला साबित हुआ तो यह समाज, अर्थव्यवस्था, वित्तीय स्थिरता और देश की अखंडता के साथ किया गया अपराध है। अदालत ने कहा कि चिदंबरम के विदेश भागने का खतरा नहीं है और इस बात का भी अंदेशा नहीं है कि वह सबूतों से छेड़छाड़ कर सकते हैं लेकिन अगर उन्हें जमानत दी गई तो वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं। घर के खाने की कर चुके मांग इससे पहले पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने एक अक्‍टूबर को ट्रायल कोर्ट (Trial Court) में एक अर्जी दायर की है। इस अर्जी के जरिए उन्होंने अपनी न्यायिक हिरासत (Judicial Custody) के दौरान घर का पका हुआ खाना दिए जाने की मांग की है। कोर्ट उनकी याचिका पर गुरुवार को सुनवाई करेगा। पी चिदंबरम आईएनएक्स मीडिया मामले (INX Media Case) में फिलहाल तिहाड़ जेल (Tihar Jail) में बंद हैं। मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में न्यायिक हिरासत में हैं चिदंबरम चिदंबरम 21 अगस्त को दिल्‍ली के जोर बाग स्थित अपने आवास से सीबीआई (CBI) द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद से तिहाड़ जेल में तीन अक्तूबर तक न्यायिक हिरासत में हैं। सीबीआई (CBI) ने 15 मई 2017 को एक प्राथमिकी दर्ज की थी जिसमें 2007 में 305 करोड़ रुपये की विदेशी धन राशि लेने के लिए आईएनएक्स मीडिया समूह को एफआईपीबी मंजूरी दिए जाने में अनियमितताओं का आरोप लगाया गया है। 2007 में चिदंबरम वित्त मंत्री थे। इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय ने 2017 में इस संबंध में धन शोधन का एक मामला दर्ज किया था।