नहीं कम हो रही पी चिंदबरम की मुश्किलें, जस्टिस रमन्ना की कोर्ट से नहीं मिली राहत

justice ramanna
नहीं कम हो रही पी चिंदबरम की मुश्किलें, जस्टिस रमन्ना की कोर्ट से नहीं मिली राहत

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया घोटाले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत याचिका खारिज होने के बाद उन्होने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, लेकिन उन्हे कोई राहत नहीं मिल सकी। बुधवार को जब सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल ने पी. चिदंबरम के मामले को जस्टिस रमन्ना की बेंच के सामने आगे बढ़ाया तो उन्होंने कहा कि इस पर किसी तरह का फैसला नहीं ले सकते हैं।

P Chindabarams Problems Are Not Getting Reduced Justice Ramannas Court Did Not Get Relief :

दरअसल, सुप्रीम कोर्ट में चिदंबरम की तरफ से अंतरिम जमानत को लेकर याचिका दायर की गई थी, लेकिन उनकी याचिका में खामी निकली, जो लिस्टिंग के वक्त फंस गया। जस्टिस रमन्ना ने बताया कि लिस्टिंग पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ही अंतिम फैसला लेंगे, लेकिन चीफ जस्टिस गोगोई अभी रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई कर रहे हैं। जिसे बीच में नहीं टोका जा सकता है।

दोपहर को जब जस्टिस रमन्ना की बेंच के सामने ये मामला सुना गया तो सुप्रीम कोर्ट में पी. चिदंबरम की तरफ से कपिल सिब्बल ने कहा कि अभी तक ये मामला लिस्ट नहीं हो पाया है। इस पर जस्टिस रमन्ना ने जवाब दिया कि अक्सर किसी भी मामले की फाइल को शाम के वक्त आगे बढ़ाया जाता है, लेकिन इस मामले की फाइल को हमने सुबह ही आगे बढ़ा दिया है।

नई दिल्ली। आईएनएक्स मीडिया घोटाले में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। दिल्ली हाईकोर्ट से जमानत याचिका खारिज होने के बाद उन्होने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया, लेकिन उन्हे कोई राहत नहीं मिल सकी। बुधवार को जब सुप्रीम कोर्ट में कपिल सिब्बल ने पी. चिदंबरम के मामले को जस्टिस रमन्ना की बेंच के सामने आगे बढ़ाया तो उन्होंने कहा कि इस पर किसी तरह का फैसला नहीं ले सकते हैं। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट में चिदंबरम की तरफ से अंतरिम जमानत को लेकर याचिका दायर की गई थी, लेकिन उनकी याचिका में खामी निकली, जो लिस्टिंग के वक्त फंस गया। जस्टिस रमन्ना ने बताया कि लिस्टिंग पर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ही अंतिम फैसला लेंगे, लेकिन चीफ जस्टिस गोगोई अभी रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई कर रहे हैं। जिसे बीच में नहीं टोका जा सकता है। दोपहर को जब जस्टिस रमन्ना की बेंच के सामने ये मामला सुना गया तो सुप्रीम कोर्ट में पी. चिदंबरम की तरफ से कपिल सिब्बल ने कहा कि अभी तक ये मामला लिस्ट नहीं हो पाया है। इस पर जस्टिस रमन्ना ने जवाब दिया कि अक्सर किसी भी मामले की फाइल को शाम के वक्त आगे बढ़ाया जाता है, लेकिन इस मामले की फाइल को हमने सुबह ही आगे बढ़ा दिया है।