पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा के जीजा ने विधानसभा के सामने किया आत्मदाह का प्रयास, जानलेवा हमले के बाद नही हो रही थी कार्रवाई

peedit om
पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा के जीजा ने विधानसभा के सामने किया आत्मदाह का प्रयास, जानलेवा हमले के बाद नही हो रही थी कार्रवाई

लखनऊ: पद्मश्री पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा के जीजा ने शुक्रवार को विधानसभा सत्र के दौरान विधानसभा गेट के बाहर जाकर आत्मदाह का प्रयास किया। इस दौरान उन्होने पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा और उसके पति पर जानलेवा हमला करने के साथ साथ सरोजनीनगर थाने की पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरेाल लगाया हैं। मौके पर पंहुची पुलिस ने पीडित को गंभीर अवस्था में सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया है।

Padma Shri Arunima Sinhas Brother In Law Attempted Self Immolation In Front Of Vidhan Sabha Action Was Not Being Taken After The Deadly Attack :

शुक्रवार को उत्तर प्रदेश विधानसभा बजट सत्र की शुरुआत थी जिसके चलते वहां पर काफी हलचल थी। इसी बीच एक शख्स अपने परिवार के साथ विधानसभा गेट के पास आया और अपने ऊपर तेल छिड़ककर आग लगा ली। मौके पर तैनात पुलिसकर्मियों ने दौड़कर उसे पकड़ा और आग बुझाई। सिविल अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार युवक करीब 30 प्रतिशत जल गया है। वहीं पूछताछ में पता चला कि यह शख्स पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा का जीजा ओम प्रकाश है।

ओम प्रकाश से जब पूछताछ की गयी तो उसने अरुणिमा सिन्हा और उसके पति पर जानलेवा हमला करने का आरोप लगाया। वहीं उसने लखनऊ के सरोजनीनगर थाने की पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए है। उसका कहना है कि शिकायत करने के बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नही की। फिल्हाल पुलिस ने पीड़ित परिवार को हिरासत में ले लिया है और पूछताछ कर रही है।

ओम प्रकाश ने बताया कि मेरे ऊपर हमला हुआ. जब इसकी शिकायत सीएम पोर्टल पर की तो सरोजनीनगर थाने के दिनकर वर्मा उस शिकायत को 107/16 की कार्रवाई में निस्तारित कर दे रहे हैं। जबकि घायल चश्मदीद से कोई बयान नहीं लिया जा रहा है क्योंकि अरुणिमा सिन्हा पद्मश्री हैं। ओम प्रकाश का आरोप है कि अरुणिमा सिन्हा और उनके पति ने अरुणिमा इवेंट मैनेजमेंट कंपनी को हड़प लिया है, जिसमें वह 50 प्रतिशत के भागीदार हैं। इसी की जांच की वह गुहार लगा रहे हैं।

इस मामले में ओम प्रकाश की पत्नी और अरुणिमा सिन्हा की सगी बहन ने भी अपनी बहन और उसके पति पर आरोप लगाये हैं। उसका आरोप है कि इन लोगों ने मेरे पति पर हमला किया और मैं पति को अस्पताल में भर्ती कराकर सरोजनीनगर थाने के एसआई दिनकर वर्मा के पास दौड़ती रह गई कि एफआईआर लिख लीजिए लेकिन उन्होने नही लिखा। उन्होंने कहा कि मेरी बहन अरुणिमा सिन्हा के पति गौरव सिंह और एक अन्य शख्स ने हमला किया है।
उन्होने बताया कि 25 जनवरी से हम थाने-थाने चक्कर लगा रहे हैं।

 

लखनऊ: पद्मश्री पर्वतारोही अरुणिमा सिन्हा के जीजा ने शुक्रवार को विधानसभा सत्र के दौरान विधानसभा गेट के बाहर जाकर आत्मदाह का प्रयास किया। इस दौरान उन्होने पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा और उसके पति पर जानलेवा हमला करने के साथ साथ सरोजनीनगर थाने की पुलिस पर कार्रवाई न करने का आरेाल लगाया हैं। मौके पर पंहुची पुलिस ने पीडित को गंभीर अवस्था में सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया है। शुक्रवार को उत्तर प्रदेश विधानसभा बजट सत्र की शुरुआत थी जिसके चलते वहां पर काफी हलचल थी। इसी बीच एक शख्स अपने परिवार के साथ विधानसभा गेट के पास आया और अपने ऊपर तेल छिड़ककर आग लगा ली। मौके पर तैनात पुलिसकर्मियों ने दौड़कर उसे पकड़ा और आग बुझाई। सिविल अस्पताल के डॉक्टरों के अनुसार युवक करीब 30 प्रतिशत जल गया है। वहीं पूछताछ में पता चला कि यह शख्स पद्मश्री अरुणिमा सिन्हा का जीजा ओम प्रकाश है। ओम प्रकाश से जब पूछताछ की गयी तो उसने अरुणिमा सिन्हा और उसके पति पर जानलेवा हमला करने का आरोप लगाया। वहीं उसने लखनऊ के सरोजनीनगर थाने की पुलिस पर गंभीर आरोप लगाए है। उसका कहना है कि शिकायत करने के बावजूद पुलिस ने कोई कार्रवाई नही की। फिल्हाल पुलिस ने पीड़ित परिवार को हिरासत में ले लिया है और पूछताछ कर रही है। ओम प्रकाश ने बताया कि मेरे ऊपर हमला हुआ. जब इसकी शिकायत सीएम पोर्टल पर की तो सरोजनीनगर थाने के दिनकर वर्मा उस शिकायत को 107/16 की कार्रवाई में निस्तारित कर दे रहे हैं। जबकि घायल चश्मदीद से कोई बयान नहीं लिया जा रहा है क्योंकि अरुणिमा सिन्हा पद्मश्री हैं। ओम प्रकाश का आरोप है कि अरुणिमा सिन्हा और उनके पति ने अरुणिमा इवेंट मैनेजमेंट कंपनी को हड़प लिया है, जिसमें वह 50 प्रतिशत के भागीदार हैं। इसी की जांच की वह गुहार लगा रहे हैं। इस मामले में ओम प्रकाश की पत्नी और अरुणिमा सिन्हा की सगी बहन ने भी अपनी बहन और उसके पति पर आरोप लगाये हैं। उसका आरोप है कि इन लोगों ने मेरे पति पर हमला किया और मैं पति को अस्पताल में भर्ती कराकर सरोजनीनगर थाने के एसआई दिनकर वर्मा के पास दौड़ती रह गई कि एफआईआर लिख लीजिए लेकिन उन्होने नही लिखा। उन्होंने कहा कि मेरी बहन अरुणिमा सिन्हा के पति गौरव सिंह और एक अन्य शख्स ने हमला किया है। उन्होने बताया कि 25 जनवरी से हम थाने-थाने चक्कर लगा रहे हैं।