पाकिस्तान ने मानी भारत की मांग, कुलभूषण जाधव मामले में मिला कॉन्सुलर एक्सेस

kulbhushan
पाकिस्तान ने मानी भारत की मांग, कुलभूषण जाधव मामले में मिला कॉन्सुलर एक्सेस

नई दिल्ली। पाकिस्तान ने कूलभूषण जाधव मामले में भारत की मांग को मान लिया है। कुलभूषण जाधव को दूसरी बार कॉन्सुलर ऐक्सेस दे दिया है। इसके चलते अब पाकिस्तान स्थित भारतीय दूतावास के 2 अधिकारियों को जाधव के पास पहुंचने की अनुमति होगी। पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से बताया गया है कि भारत के अधिकारी पाकिस्तान के विदेश कार्यालय पहुंचे हैं।

Pakistan Accepts Indias Demand Consular Access In Kulbhushan Jadhav Case :

भारत ने पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव से मिलने के लिए बिना शर्त अनुमति देने के लिए कहा था, ताकि अध्यादेश के तहत उनसे पाकिस्तान की सैन्य अदालत द्वारा दी गई सजा की हाईकोर्ट में समीक्षा पर चर्चा की जा सके। वहीं, पाक ने दावा किया था भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव ने सजा की समीक्षा याचिका दायर करने से इनकार कर दिया है।

इसके बाद भारत ने पिछले गुरुवार को कहा कि कुलभूषण से संबंधित मामले में सभी कानूनी विकल्पों का आकलन कर रहा है। पाकिस्तान की अदालत ने जाधव को मौत की सजा सुनाई है। बता दें कि, कुलभूषण जाधव को तीन मार्च 2016 को पाकिस्तान के सुरक्षाबलों ने बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया था।

क्योंकि उन्होंने कथित तौर पर ईरान से पाकिस्तान में प्रवेश किया था, जैसा कि पाकिस्तान द्वारा दावा किया गया जाता है। जाधव की जासूसी और अन्य गतिविधियों में शामिल होने के पाकिस्तान के आरोपों को भारत ने खारिज कर दिया और कहा कि उसे चाबहार के ईरानी बंदरगाह से अपहरण कर लिया गया था, जहां वह एक व्यवसाय चला रहा था।

 

नई दिल्ली। पाकिस्तान ने कूलभूषण जाधव मामले में भारत की मांग को मान लिया है। कुलभूषण जाधव को दूसरी बार कॉन्सुलर ऐक्सेस दे दिया है। इसके चलते अब पाकिस्तान स्थित भारतीय दूतावास के 2 अधिकारियों को जाधव के पास पहुंचने की अनुमति होगी। पाकिस्तानी मीडिया के हवाले से बताया गया है कि भारत के अधिकारी पाकिस्तान के विदेश कार्यालय पहुंचे हैं। भारत ने पाकिस्तान को कुलभूषण जाधव से मिलने के लिए बिना शर्त अनुमति देने के लिए कहा था, ताकि अध्यादेश के तहत उनसे पाकिस्तान की सैन्य अदालत द्वारा दी गई सजा की हाईकोर्ट में समीक्षा पर चर्चा की जा सके। वहीं, पाक ने दावा किया था भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव ने सजा की समीक्षा याचिका दायर करने से इनकार कर दिया है। इसके बाद भारत ने पिछले गुरुवार को कहा कि कुलभूषण से संबंधित मामले में सभी कानूनी विकल्पों का आकलन कर रहा है। पाकिस्तान की अदालत ने जाधव को मौत की सजा सुनाई है। बता दें कि, कुलभूषण जाधव को तीन मार्च 2016 को पाकिस्तान के सुरक्षाबलों ने बलूचिस्तान से गिरफ्तार किया था। क्योंकि उन्होंने कथित तौर पर ईरान से पाकिस्तान में प्रवेश किया था, जैसा कि पाकिस्तान द्वारा दावा किया गया जाता है। जाधव की जासूसी और अन्य गतिविधियों में शामिल होने के पाकिस्तान के आरोपों को भारत ने खारिज कर दिया और कहा कि उसे चाबहार के ईरानी बंदरगाह से अपहरण कर लिया गया था, जहां वह एक व्यवसाय चला रहा था।