भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत, पाकिस्तान समेत 55 देशों ने UNSC की अस्थाई सदस्यता के लिए दिया समर्थन

modi
भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत, पाकिस्तान समेत 55 देशों ने UNSC की अस्थाई सदस्यता के लिए दिया समर्थन

नई दिल्ली। भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत के तहत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में भारत की अस्थाई सदस्यता के लिए 55 देशों के एशिया प्रशांत समूह ने सर्वसम्मति से अपना समर्थन दिया है। इस समूह में चीन और पाकिस्तान भी शामिल हैं। पंद्रह सदस्यीय परिषद में 2021-2022 के कार्यकाल के लिए 5 अस्थायी सदस्यों का चुनाव जून 2020 के आस-पास में होना है। इन सदस्यों का कार्यकाल जनवरी 2021 से शुरू होगा।

Pakistan Among Nations Backing India For 2 Year Uited Nation Security Council Term :

पंद्रह राष्ट्रीय परिषद के 2021-22 सत्र के लिए पांच अस्थाई सदस्यों का चुनाव अगले साल होगा। भारतीय उम्मीदवारी का समर्थन करने वाले देशों का आभार व्यक्त करते हुए संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने ट्वीट किया, “सर्वसम्मति से उठाया गया कदम। एशिया प्रशांत समूह ने सर्वसम्मति से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थाई सदस्यता के 2021-22 सत्र के दो वर्ष के कार्यकाल के लिए भारत की दावेदारी का समर्थन किया।”

उन्होंने इस ट्वीट के साथ एक वीडिया भी शेयर किया। इस वीडियो में उन 55 देशों के नाम के साथ चिह्न को दिखाया गया है जो भारत से साथ खड़े हैं। जिन देशों ने समर्थन दिया है उनमें से अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, चीन, इंडोनेशिया, ईरान, जापान, कुवैत, किर्गिस्तान, मलेशिया, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, कतर, सऊदी अरब, श्रीलंका, सीरिया, तुर्की, यूएई और वियतनाम का नाम शामिल है।

हर साल 193 सदस्यों वाली जनरल असेंबली यूएन दो साल के कार्यकाल के लिए पांच गैर-स्थायी सदस्यों को चुनते हैं। इस परिषद के पांच स्थायी सदस्य है जिसमें चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका शामिल है।

नई दिल्ली। भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत के तहत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में भारत की अस्थाई सदस्यता के लिए 55 देशों के एशिया प्रशांत समूह ने सर्वसम्मति से अपना समर्थन दिया है। इस समूह में चीन और पाकिस्तान भी शामिल हैं। पंद्रह सदस्यीय परिषद में 2021-2022 के कार्यकाल के लिए 5 अस्थायी सदस्यों का चुनाव जून 2020 के आस-पास में होना है। इन सदस्यों का कार्यकाल जनवरी 2021 से शुरू होगा। पंद्रह राष्ट्रीय परिषद के 2021-22 सत्र के लिए पांच अस्थाई सदस्यों का चुनाव अगले साल होगा। भारतीय उम्मीदवारी का समर्थन करने वाले देशों का आभार व्यक्त करते हुए संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरुद्दीन ने ट्वीट किया, "सर्वसम्मति से उठाया गया कदम। एशिया प्रशांत समूह ने सर्वसम्मति से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अस्थाई सदस्यता के 2021-22 सत्र के दो वर्ष के कार्यकाल के लिए भारत की दावेदारी का समर्थन किया।" उन्होंने इस ट्वीट के साथ एक वीडिया भी शेयर किया। इस वीडियो में उन 55 देशों के नाम के साथ चिह्न को दिखाया गया है जो भारत से साथ खड़े हैं। जिन देशों ने समर्थन दिया है उनमें से अफगानिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, चीन, इंडोनेशिया, ईरान, जापान, कुवैत, किर्गिस्तान, मलेशिया, मालदीव, म्यांमार, नेपाल, पाकिस्तान, कतर, सऊदी अरब, श्रीलंका, सीरिया, तुर्की, यूएई और वियतनाम का नाम शामिल है। हर साल 193 सदस्यों वाली जनरल असेंबली यूएन दो साल के कार्यकाल के लिए पांच गैर-स्थायी सदस्यों को चुनते हैं। इस परिषद के पांच स्थायी सदस्य है जिसमें चीन, फ्रांस, रूस, ब्रिटेन और अमेरिका शामिल है।