PAK के पास हैं भारत से ज्‍यादा परमाणु हथियार, फिर भी भारत की धमक

नई दिल्ली। परमाणु हथियारों के जखीरे पर स्टॉकहोम इंटरनैशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीपरी) की जारी रिपोर्ट में चीन और पाकिस्तान को भारत के मुकाबले संख्याबल में भले ही ज्यादा बताया गया हो पर नई दिल्ली के पास मौजूद परमाणु हथियार काफी सक्षम और किसी को भी जवाब देने के लिए पर्याप्त हैं। रिपोर्ट पर भारतीय रक्षा सूत्रों ने बताया कि संख्या से ज्यादा मारक क्षमता जरूरी है और भारत इस मामले में आगे है।सीपरी के रिपोर्ट के मुताबिक चीन के पास भारत से दोगुना परमाणु हथियार हैं वहीं, पाकिस्तान भी परमाणु जखीरे के मामले में भारत से थोड़ा आगे है।

Pakistan And China Are Ahead From India In Nuclear Warheads Numbers :

किसके पास कितने हथियार

सीपरी की रिपोर्ट के मुताबिक मौजूदा समय में दुनिया में यदि किसी के पास सबसे अधिक परमाणु शस्‍त्र हैं तो वह रूस है। इसके बाद अमेरिका का नंबर आता है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस वक्‍त दुनिया में करीब 14650 परमाणु शस्‍त्र हैं। इनमें से रूस के पास 6850 और अमेरिका के पास करीब 6450 परमाणु शस्‍त्र मौजूद हैं। वहीं भारत, पाकिस्‍तान और चीन की बात करें तो इनका नंबर 130-140, 140-150 और 280 है।

सीपरी की रिपोर्ट में कई अन्‍य देश

सीपरी की इस लिस्‍ट में सिर्फ इन्‍हीं देशों का जिक्र नहीं है बल्कि इसमें नॉर्थ कोरिया का भी जिक्र किया गया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2017 और मौजूदा समय में उसके पास करीब 10 से 20 तक परमाणु हथियार हैं। वहीं इजरायल के पास करीब 80, फ्रांस के पास 300 और ब्रिटेन के पास करीब 215 परमाणु हथियार हैं।

अमेरिका रूस सबसे आगे

भारत के पड़ोसी देशों के पास बढ़ते परमाणु जखीरे पर सीपरी की रिपोर्ट बताती है कि भारत के पास जितने परमाणु हथियार मौजूद हैं वह पाकिस्‍तान से ज्‍यादा बेहतर और सक्षम हैं। आपको बता दें कि अमेरिका और रूस के पास में दुनिया के करीब 92% परमाणु हथियार मौजूद हैं। यहां पर आपको ये भी बताना जरूरी होगा कि पाकिस्‍तान चीन की मदद से खुशाब न्यूक्लियर कॉम्प्लेक्स को विकसित कर रहा है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि दो धुर विरोधी राष्‍ट्रों भारत और पाकिस्‍तान ने पिछले साल अपने परमाणु हथियारों की संख्‍या में वृद्धि की है। इन दोनों ही देशों ने परमाणु हथियारों के लिए जमीन, हवा तथा समुद्र से दागे जाने वाले मिसाइलों का विकास तेज कर दिया है। भारत और पाकिस्‍तान ने पिछले एक साल में अपने जखीरे में 10-10 परमाणु हथियार बढ़ाए हैं।

नई दिल्ली। परमाणु हथियारों के जखीरे पर स्टॉकहोम इंटरनैशनल पीस रिसर्च इंस्टीट्यूट (सीपरी) की जारी रिपोर्ट में चीन और पाकिस्तान को भारत के मुकाबले संख्याबल में भले ही ज्यादा बताया गया हो पर नई दिल्ली के पास मौजूद परमाणु हथियार काफी सक्षम और किसी को भी जवाब देने के लिए पर्याप्त हैं। रिपोर्ट पर भारतीय रक्षा सूत्रों ने बताया कि संख्या से ज्यादा मारक क्षमता जरूरी है और भारत इस मामले में आगे है।सीपरी के रिपोर्ट के मुताबिक चीन के पास भारत से दोगुना परमाणु हथियार हैं वहीं, पाकिस्तान भी परमाणु जखीरे के मामले में भारत से थोड़ा आगे है।

किसके पास कितने हथियार

सीपरी की रिपोर्ट के मुताबिक मौजूदा समय में दुनिया में यदि किसी के पास सबसे अधिक परमाणु शस्‍त्र हैं तो वह रूस है। इसके बाद अमेरिका का नंबर आता है। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इस वक्‍त दुनिया में करीब 14650 परमाणु शस्‍त्र हैं। इनमें से रूस के पास 6850 और अमेरिका के पास करीब 6450 परमाणु शस्‍त्र मौजूद हैं। वहीं भारत, पाकिस्‍तान और चीन की बात करें तो इनका नंबर 130-140, 140-150 और 280 है।

सीपरी की रिपोर्ट में कई अन्‍य देश

सीपरी की इस लिस्‍ट में सिर्फ इन्‍हीं देशों का जिक्र नहीं है बल्कि इसमें नॉर्थ कोरिया का भी जिक्र किया गया है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2017 और मौजूदा समय में उसके पास करीब 10 से 20 तक परमाणु हथियार हैं। वहीं इजरायल के पास करीब 80, फ्रांस के पास 300 और ब्रिटेन के पास करीब 215 परमाणु हथियार हैं।

अमेरिका रूस सबसे आगे

भारत के पड़ोसी देशों के पास बढ़ते परमाणु जखीरे पर सीपरी की रिपोर्ट बताती है कि भारत के पास जितने परमाणु हथियार मौजूद हैं वह पाकिस्‍तान से ज्‍यादा बेहतर और सक्षम हैं। आपको बता दें कि अमेरिका और रूस के पास में दुनिया के करीब 92% परमाणु हथियार मौजूद हैं। यहां पर आपको ये भी बताना जरूरी होगा कि पाकिस्‍तान चीन की मदद से खुशाब न्यूक्लियर कॉम्प्लेक्स को विकसित कर रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि दो धुर विरोधी राष्‍ट्रों भारत और पाकिस्‍तान ने पिछले साल अपने परमाणु हथियारों की संख्‍या में वृद्धि की है। इन दोनों ही देशों ने परमाणु हथियारों के लिए जमीन, हवा तथा समुद्र से दागे जाने वाले मिसाइलों का विकास तेज कर दिया है। भारत और पाकिस्‍तान ने पिछले एक साल में अपने जखीरे में 10-10 परमाणु हथियार बढ़ाए हैं।