1. हिन्दी समाचार
  2. दुनिया
  3. Pakistan Army ने मिलिट्री सेंटर कराया मुक्त, ऑपरेशन में 33 आतंकी ढेर और 2 कमांडो की मौत

Pakistan Army ने मिलिट्री सेंटर कराया मुक्त, ऑपरेशन में 33 आतंकी ढेर और 2 कमांडो की मौत

पाकिस्तान सेना (Pakistan Army)  ने बन्नू में मिलिट्री अफसरों को छुड़ाने के लिए सैन्य कार्रवाई करते हुए खैबर पख्तूनखवा (Khyber Pakhtunkhwa) में स्थित बन्नू काउंटर टेररिज्म सेंटर (CTD) में 33 आतंकियों को ढ़ेर ​कर दिया है। इस सैन्य कार्रवाई में पाकिस्तान सेना के स्पेशल सर्विस ग्रुप के 2 कमांडो भी मारे गए हैं।

By संतोष सिंह 
Updated Date

नई दिल्ली। पाकिस्तान सेना (Pakistan Army)  ने बन्नू में मिलिट्री अफसरों को छुड़ाने के लिए सैन्य कार्रवाई करते हुए खैबर पख्तूनखवा (Khyber Pakhtunkhwa) में स्थित बन्नू काउंटर टेररिज्म सेंटर (CTD) में 33 आतंकियों को ढ़ेर ​कर दिया है। इस सैन्य कार्रवाई में पाकिस्तान सेना के स्पेशल सर्विस ग्रुप के 2 कमांडो भी मारे गए हैं। इसी के साथ ही पाकिस्तान की सेना (Pakistan Army)  ने CTD में बंधक बनाए गए सभी अफसरों को रिहा करवा लिया है। पाक सेना की कार्रवाई के बाद यहां से धुएं के गुबार को देखा जा सकता है।

पढ़ें :- Budget 2023 : अब 7 लाख रुपए आय पर कोई टैक्स नहीं, ऐसी होगी नई टैक्स स्लैब

पाकिस्तान की सेना (Pakistan Army)  ने तहरीक ए तालिबान पाकिस्तान (TTP) के कब्जे से अपने अफसरों को छुड़ाने के लिए 2 दिनों तक वार्ता की, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकला। अब पाकिस्तान टीटीपी (TTP)  की कैद में मौजूद अपने मिलिट्री अफसरों को छुड़ाने के लिए बन्नू के काउंटर टेररिज्म सेंटर पर मिलिट्री एक्शन किया है। ताजा जानकारी के अनुसार पाक सेना की कार्रवाई में TTP के सभी आतंकी मारे गए हैं। जबकि पाक सेना के स्पेशल सर्विस ग्रुप के 2 कमांडो भी मारे गए हैं।

पढ़ें :- Union Budget 2023: वित्तमंत्री का बड़ा ऐलान, टैक्स स्लैब में बड़ा बदलाव, 7 लाख रुपये के इनकम पर कोई टैक्स नहीं

TTP आतंकी ने AK-47 छीनकर पलट दिया पासा

बता दें कि बन्नू में ये स्थिति तब पैदा हुई जब रविवार को पाकिस्तान के काउंटर टेररिज्म डिपार्टमेंट के अधिकारी टीटीपी के एक वर्कर से पूछताछ कर रहे थे। ये पूछताछ बन्नू कैंटोनमेंट में हो रही थी। तभी टीटीपी के इस मेंबर ने अपने पूछताछ करने वालों पर हमला कर दिया और एक AK-47 छीन ली और फायरिंग करने लगा।

इस टीटीपी मेंबर ने इस हथियार के दम पर कई आतंकियों को रिहा करा दिया और फिर टीटीपी के इन वर्करों ने पूरे कम्पाउंड को कब्जे में कर लिया। इन लोगों ने सेना और पुलिस के कई अधिकारियों को बंधक भी बना लिया। इस दौरान पाकिस्तान पुलिस के कुछ अधिकारी भी मारे गये हैं।

बंधकों को छुड़ाने में पाकिस्तान पस्त

टीटीपी के साथ पासा पलटने के बाद पाकिस्तान को अपने अफसरों को छुड़ाने में पसीने छूट रहे हैं। इसके लिए पाकिस्तान को टीटीपी के खिलाफ बड़ी कार्रवाई करनी पड़ रही है। पाकिस्तान में टीवी पर चल रही तस्वीरों में बन्नू स्थित सीटीडी सेंटर से धुएं का गुबार निकलता दिख रहा है। यह तुरंत स्पष्ट नहीं हो पा रहा है कि बंधकों या तालिबानियों का क्या हुआ है? घटनास्थल पर लगातार गोलियां चल रही हैं, और धमाके की आवाजें सुनाई दे रही हैं।

पढ़ें :- Parliament Budget Session 2023 : रेलवे को अब तक का सबसे बड़ा आवंटन, 2.40 लाख करोड़ रुपए के पूंजीगत परिव्यय का प्रावधान

पाक सेना का दावा- सभी आतंकी मारे गए

ताजा जानकारी के अनुसार पाकिस्तानी सेना के स्पेशल सर्विस ग्रुप ने बन्नू स्थित काउंटर टेररिज्म सेंटर पर धावा बोला। पाक सेना का दावा है कि ऑपरेशन में टीटीपी के सभी 33 आतंकी मारे गए हैं। इस ऑपरेशन में स्पेशल फोर्सेज के 2 कमांडो की मौत हुई है। जबकि 9 जवान जिसमें एक मेजर भी शामिल है घायल हुआ है। इन्हें पास के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पाकिस्तानी सेना के जवान पूरे इलाके की तलाशी ले रहे हैं।

बन्नू में स्कूल-कॉलेज बंद

इस बीच बन्नू में मंगलवार को स्थिति तनावपूर्ण है, क्योंकि पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने सीटीडी परिसर को सभी दिशाओं से घेर लिया है और निवासियों को घर के अंदर रहने के लिए कहा है। बन्नू में चंद टीटीपी आतंकियों के सामने पाकिस्तान इस कदर बेअसर है कि ऑपरेशन को अंजाम देने के लिए बन्नू जिले के सभी स्कूल और कॉलेज बंद रहे।

अधिकारियों ने कहा कि छावनी क्षेत्र और आसपास के क्षेत्रों में मोबाइल सेवाएं भी निलंबित कर दी गईं। पाकिस्तान ने टीटीपी से 48 घंटे से ज्यादा समय तक बात की और सैन्य अधिकारियों को रिलीज करने को कहा, लेकिन टीटीपी के अधिकारी इसके लिए राजी नहीं हुए तब पाकिस्तान ने ये कदम उठाया है।

TTP ने जारी किया वीडियो क्लिप्स

गौरतलब है कि बन्नू से कई वीडियो सोशल मीडिया पर आ रहे हैं। इन वीडियोज में टीटीपी की कैद में लिए गए लोग बन्नू के उलेमाओं से दखल देने और बंधक संकट का हल करने की मांग कर रहे हैं। एक वीडियो क्लिप में, एक बंदी ने खुद को ‘निर्दोष’ घोषित किया और कहा कि TTP द्वारा बंधक बनाए गए अधिकारियों के साथ-साथ कई निर्दोष लोग भी परिसर के अंदर मौजूद हैं।

जानें क्या है टीटीपी की मांग?

इधर टीटीपी सदस्यों की मांग थी कि पाकिस्तान टीटीपी कैदियों को अफगानिस्तान भेजने के लिए सुरक्षित मार्ग मुहैया कराए। टीटीपी के एक प्रवक्ता मुहम्मद खुरासानी ने सोमवार को कहा कि सीटीडी पुलिस थाने में अपने कैदियों के साथ सुरक्षा अधिकारियों के अमानवीय व्यवहार की खबरों के बाद उन्होंने इस सेंटर को कब्जे में लिया।

बता दें कि 2007 में कई आतंकवादी संगठनों के एकसाथ मिलने पर टीटीपी बना है। पाकिस्तान में भयानक हमले करने के लिए कुख्यात इस संगठन ने पिछले महीने पाकिस्तान सरकार के साथ संघर्ष विराम को वापस ले लिया और अपने सदस्यों को देश भर में आतंकवादी हमले करने का आदेश दिया।

पढ़ें :- Parliament Budget Session 2023 : सरकारी एजेसियां PAN को मानेंगी पहचान पत्र

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...