बिल्ली के मरने पर अस्पताल देगा 2.5 करोड़ का मुआवजा

इस्लामाबाद। इंसान का पालतू जानवर के प्रति नजरिया हमेशा ही लगाव भरा होता है। जैसे वह अपने घर का ही सदस्य हो। किसी भी जानवर को पालने पर उससे प्यार हो जाना भी लाजमी है। यदि वह जानवर किसी परेशानी में आ जाता है तो उसका मालिक उसके लिए परेशान हो ही जाता है।ऐसा ही एक मामला यह हुआ कि एक महिला ने यहां एक बिल्ली पाली थी। बिल्ली करीब दो महीने बाद बीमार हो गई थी तब यह महिला यहां के एक डॉक्टर से उसका इलाज करवाने इस्लामाबाद के अस्पताल में गई थी।




जब महिला ने देखा की इलाज के दौरान बिल्ली मर गई तो उस महिला ने उस मवेशी डॉक्टर पर 2.5 करोड़ रु पये का मुकदमा कर दिया। महिला का आरोप है कि मवेशी डॉक्टर ने इलाज के दौरान लापरवाही बरती जिसके बाद उसकी दो महीने की बिल्ली की मौत हो गई। महिला को उस बिल्ली से बेहद लगाव था और बच्चे की तरह वह महिला इस बिल्ली की देखभाल करती थी। पेशे से वकील बिल्ली की मालकिन ने कहा कि वे इस्लामाबाद में अपनी बिल्ली का चेकअप कराने गई थी। उन्होंने मेरी बिल्ली को अस्पताल में भर्ती कर लिया और अगले दिन आने के लिए बोला।




उसी शाम जब वह क्लिनिक से अपनी बिल्ली को लाने गई तो बिल्ली मर चुकी थी। महिला का कहना है, डॉक्टर ने मुझे बताया कि बिल्ली को कम तापमान में रखा गया था, इसलिए मेरी बिल्ली मर गई। स्थानीय अदालत को दिए गए पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बिल्ली की मौत का कारण उसका बहुत ठंडक में रहना, और भूखा रहना बताया गया है।