इमरान खान 14 अगस्त से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की लेंगे शपथ

imran khan
इमरान खान 14 अगस्त से पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री पद की लेंगे शपथ

नई दिल्ली। पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के मुखिया इमरान खान 14 अगस्त से पहले प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे इस बीच सरकार बनाने के लिए पीटीआई छोटे दलों और निर्दलियों को साथ लाने के कवायद में जुटी है। पाकिस्तान में 25 जुलाई को हुए आम चुनाव के बाद पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है, हालांकि पार्टी के पास खुद के दम पर सरकार बनाने के लिये जरूरी संख्याबल नहीं है।

Pakistan Imran Khan To Be Sworn In As Pakistan Pm Before August 14 Says Party :

संयुक्त रणनीति बनाने को तैयार नवाज व जरदारी की पार्टी

इस बीच सभी पार्टियों की राजनीतिक गतिविधियां उफान पर हैं। अपने राजनीतिक दांव-पेच को सटीक बैठाने के लिए वे खुली बैठकों के साथ गुपचुप तरीके से बातचीत भी कर रही हैं। पाकिस्तान की दोनों बड़ी पार्टियों ने जनता के मैदान के बाद संसद में पीटीआई को कड़ी टक्कर देने को तैयार हैं। एक संयुक्त रणनीति तैयार करने के लिए पीपीपी और पीएमएन-एन कुछ ही दिनों में मुलाकात कर सकते हैं।

छोटी पार्टियों और निर्दलीय सांसदों का समर्थन जुटाने की कवायद

पीटीआइ के नेता नईनुल हक ने कहा कि हमने अपना होमवर्क कर लिया है। 14 अगस्त से पहले नई सरकार का गठन हो जाएगा। इसके लिए पार्टी छोटी पार्टियों और निर्दलीय सांसदों को अपने पक्ष में करने का प्रयास कर रही है। उल्लेखनीय है कि सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बावजूद पीटीआइ स्पष्ट बहुमत से पीछे रह गई।

इस बीच, पाकिस्तान में राजनीतिक सरगर्मी जोरों पर है। सियासी बिसात पर सभी पार्टियां अपने हिसाब से गोटी चल रही हैं। इसके लिए एक तरफ खुले में बैठकें चल रही हैं, तो दूसरी तरफ गोपनीय वार्ताओं का दौर भी जारी है।

संसद का गणित

342 सीटें हैं नेशनल असेंबली में

272 सीटों पर होता है चुनाव

115 सीटें पीटीआइ को

64 सीटें पीएमएल-एन को

43 सीटें पीपीपी को

137 सीटें सामान्य बहुमत के लिए जरूरी।

नई दिल्ली। पाकिस्तान की तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के मुखिया इमरान खान 14 अगस्त से पहले प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे इस बीच सरकार बनाने के लिए पीटीआई छोटे दलों और निर्दलियों को साथ लाने के कवायद में जुटी है। पाकिस्तान में 25 जुलाई को हुए आम चुनाव के बाद पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है, हालांकि पार्टी के पास खुद के दम पर सरकार बनाने के लिये जरूरी संख्याबल नहीं है।

संयुक्त रणनीति बनाने को तैयार नवाज व जरदारी की पार्टी

इस बीच सभी पार्टियों की राजनीतिक गतिविधियां उफान पर हैं। अपने राजनीतिक दांव-पेच को सटीक बैठाने के लिए वे खुली बैठकों के साथ गुपचुप तरीके से बातचीत भी कर रही हैं। पाकिस्तान की दोनों बड़ी पार्टियों ने जनता के मैदान के बाद संसद में पीटीआई को कड़ी टक्कर देने को तैयार हैं। एक संयुक्त रणनीति तैयार करने के लिए पीपीपी और पीएमएन-एन कुछ ही दिनों में मुलाकात कर सकते हैं।

छोटी पार्टियों और निर्दलीय सांसदों का समर्थन जुटाने की कवायद

पीटीआइ के नेता नईनुल हक ने कहा कि हमने अपना होमवर्क कर लिया है। 14 अगस्त से पहले नई सरकार का गठन हो जाएगा। इसके लिए पार्टी छोटी पार्टियों और निर्दलीय सांसदों को अपने पक्ष में करने का प्रयास कर रही है। उल्लेखनीय है कि सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरने के बावजूद पीटीआइ स्पष्ट बहुमत से पीछे रह गई।इस बीच, पाकिस्तान में राजनीतिक सरगर्मी जोरों पर है। सियासी बिसात पर सभी पार्टियां अपने हिसाब से गोटी चल रही हैं। इसके लिए एक तरफ खुले में बैठकें चल रही हैं, तो दूसरी तरफ गोपनीय वार्ताओं का दौर भी जारी है।

संसद का गणित

342 सीटें हैं नेशनल असेंबली में

272 सीटों पर होता है चुनाव

115 सीटें पीटीआइ को

64 सीटें पीएमएल-एन को

43 सीटें पीपीपी को

137 सीटें सामान्य बहुमत के लिए जरूरी।