भारत के गुस्से से गिरा पाकिस्तानी शेयर बाजार, फ्लाइटें हुईं रद्द

नई दिल्ली। उरी आर्मी बेस कैंप पर हमला में 18 भारतीय जवानों की मौत से भारत गुस्से में है। भारत ने अपने ​गुस्से को जाहिर करने के लिए ऐसा कोई कदम नहीं उठाया जिससे पाकिस्तान की जनता के भीतर डर पैदा हो लेकिन उरी की घटना ने पाकिस्तानी अर्थव्यवस्था में उथल पुथल मचा दी है। करांची स्टॉक एक्सचेंज पर के सभी शेयरों के दाम तेजी से नीचे आए हैं। वहीं दूसरी बड़ी खबर आई है पाकिस्तानी सरकार के स्वामित्व वाली एयर लाइन की ओर से जिसकी तमाम बड़ी उड़ाने इसलिए रद्द कर दीं गईं ताकि भविष्य के लिए पाकिस्तानी वायुसेना के पास ईंधन की कमी न पड़े।

सूत्रों की माने तो पाकिस्तानी जनता के बीच उरी हमले के बाद डर का माहौल है। पाकिस्तानी जनता को लग रहा है कि किसी भी समय दोनों देशो के बीच जंग छिड़ सकती है। जिस वजह से छोटे पूंजी निवेशकों ने शेयर बाजार से अपना पैसा निकालना शुरू कर दिया है। स्थिति इतनी खराब हो चली है कि करांची शेयर बाजार का कोई भी ​शेयर हरे निशान पर नहीं है।

एक पाकिस्तानी अखबार ने करांची स्टाक एक्सचेंज के चेयरमैन आरिफ हबीब के हवाले से लिखा है कि पिछले सप्ताह उरी में भारतीय आर्मी कैंप पर हुए आतंकी हमले पर भारत की प्रतिक्रिया की संभावना के चलते पूरे देश में डर का माहौल है। छोटे निवेशकों को युद्ध जैसी स्थिति की उम्मीद है। ऐसा इसलिए भी हो रहा है क्योंकि पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइन ने अपनी कई ​उड़ाने रद्द कर दीं हैं। जिसकी वजह बड़ी बचकानी सी दी गई है। सरकार की ओर से कहा गया है कि एयरलाइन ने ट्रेनिंग प्रोग्राम की वजह से उड़ाने रद्द हैं। जबकि जानकारों की माने तो पाकिस्तान के पास अपने लड़ाकू विमानों के लिए ईंधन का स्टाक नहीं है। जो स्टाक है भी वह कामर्शियल यूज के लिए है।