नवाज शरीफ ने भारत में जमा किए थे 5 अरब डॉलर, NAB ने शुरू की जांच

लाहौर। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पनामा पेपर्स लीक मामले में गद्दी से हाथ धो बैठे शरीफ पर अब मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप लगे हैं। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, नवाज शरीफ ने प्रधानमंत्री रहते हुए भारत में 4.9 अरब डॉलर जमा किए थे। पाकिस्तान के नेशनल अकाउंटिबिलिटी ब्यूरो (NAB) ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है।

Pakistan Nawaz Sharif And Others Have Illegally Deposited Crores Of Rupees In India :

शरीफ ने भारतीय खजाने में इजाफा किया –  एनएबी

एनएबी ने अपने बयान में कहा है कि शरीफ ने प्रधानमंत्री रहते हुए यह रकम अवैध तरीके से भारत में भेजी थी। इससे भारत के फॉरेन एक्सचेंज में इजाफा हुआ और पाकिस्तान को नुकसान उठाना पड़ा। पाकिस्तानी चैनल ने वर्ल्ड बैंक की माइग्रेशन एंड रेमिटंस बुक 2016 का हवाला देते हुए नवाज शरीफ पर मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल होने के आरोप लगाए हैं।

कोर्ट ने ठहराया था शरीफ को अयोग्य

पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने बीते 13 अप्रैल को नवाज शरीफ को जीवनभर के लिए अयोग्य घोषित कर दिया था। पांच न्यायाधीशों की पीठ ने सर्वमत से अपने फैसले में कहा कि किसी सार्वजनिक पद पर आसीन व्यक्ति को आजीवन के लिए अयोग्य ठहराया जाता है। संविधान के अनुच्छेद 62 (1)(एफ) के अनुसार सार्वजनिक पद पर आसीन व्यक्ति को निश्चित शर्तों के अनुसार अयोग्य ठहराया जाता है, लेकिन अयोग्यता की अवधि तय नहीं की गयी है। 28 जुलाई, 2017 को पनामा पेपर्स मामले में अयोग्य ठहराया गया था।

शरीफ पर भ्रष्टाचार के कई मामले

गौरतलब है कि नवाज शरीफ पर भ्रष्टाचार के तीन मामले चल रहे हैं। वहीं इस साल पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि संविधान के अनुच्छेद 62 और 63 के तहत अयोग्य ठहराया गया कोई भी व्यक्ति राजनीतिक पार्टी का मुखिया नहीं रह सकता। इस फैसले के बाद ही नवाज शरीफ को पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के अध्यक्ष पद से हट गए थे।

लाहौर। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुसीबतें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। पनामा पेपर्स लीक मामले में गद्दी से हाथ धो बैठे शरीफ पर अब मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप लगे हैं। पाकिस्तानी मीडिया के मुताबिक, नवाज शरीफ ने प्रधानमंत्री रहते हुए भारत में 4.9 अरब डॉलर जमा किए थे। पाकिस्तान के नेशनल अकाउंटिबिलिटी ब्यूरो (NAB) ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है।

शरीफ ने भारतीय खजाने में इजाफा किया -  एनएबी

एनएबी ने अपने बयान में कहा है कि शरीफ ने प्रधानमंत्री रहते हुए यह रकम अवैध तरीके से भारत में भेजी थी। इससे भारत के फॉरेन एक्सचेंज में इजाफा हुआ और पाकिस्तान को नुकसान उठाना पड़ा। पाकिस्तानी चैनल ने वर्ल्ड बैंक की माइग्रेशन एंड रेमिटंस बुक 2016 का हवाला देते हुए नवाज शरीफ पर मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल होने के आरोप लगाए हैं।

कोर्ट ने ठहराया था शरीफ को अयोग्य

पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने बीते 13 अप्रैल को नवाज शरीफ को जीवनभर के लिए अयोग्य घोषित कर दिया था। पांच न्यायाधीशों की पीठ ने सर्वमत से अपने फैसले में कहा कि किसी सार्वजनिक पद पर आसीन व्यक्ति को आजीवन के लिए अयोग्य ठहराया जाता है। संविधान के अनुच्छेद 62 (1)(एफ) के अनुसार सार्वजनिक पद पर आसीन व्यक्ति को निश्चित शर्तों के अनुसार अयोग्य ठहराया जाता है, लेकिन अयोग्यता की अवधि तय नहीं की गयी है। 28 जुलाई, 2017 को पनामा पेपर्स मामले में अयोग्य ठहराया गया था।

शरीफ पर भ्रष्टाचार के कई मामले

गौरतलब है कि नवाज शरीफ पर भ्रष्टाचार के तीन मामले चल रहे हैं। वहीं इस साल पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि संविधान के अनुच्छेद 62 और 63 के तहत अयोग्य ठहराया गया कोई भी व्यक्ति राजनीतिक पार्टी का मुखिया नहीं रह सकता। इस फैसले के बाद ही नवाज शरीफ को पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज के अध्यक्ष पद से हट गए थे।