1. हिन्दी समाचार
  2. तकनीक
  3. पाकिस्तान ने गूगल और फेसबुक को दे डाली धमकी, डिजिटल मीडिया पर इस वजह से भड़का पाक

पाकिस्तान ने गूगल और फेसबुक को दे डाली धमकी, डिजिटल मीडिया पर इस वजह से भड़का पाक

Pakistan Threatens Google And Facebook Due To This Provoked Pak On Digital Media

By आराधना शर्मा 
Updated Date

नई दिल्ली: पाकिस्तान अपनी ओछी हरकतों से शायद कभी बाज नहीं आएगा इसका सबूत उसने 19 नवंबर को दे दिया है लेकिन इन डीनो एक नया मामला सामने आया है जिसके चलते पाक मे अब सोशल मीडिया और उससे जुड़े बवाल लगातार बढ़ते ही जा रहे है और इन बवाल के चलते लोगों में आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है।

पढ़ें :- ये भारतीय करते है दुनिया की बड़ी टेक्निकल कंपनियों पर राज, देख कर गर्व होगा

आपको बता दें, जंहा  गूगल, फेसबुक और ट्विटर जैसी बड़ी टेक कंपनियों ने देश छोड़ने की धमकी दी है। दरअसल यह कानून लाकर इमरान गवर्नमेंट ने मीडिया रेगुलेटर को केटेंट पर सेंसरशिप को लेकर अधिक अधिकार दे दिए हैं। कंपनियां इस कानून का विरोध करने के लिए आगे आई है।

वहीं इस बात का पता चला है कि फेसबुक, गूगल और ट्विटर का प्रतिनिधित्व करने वाले संगठन एशिया इंटरनेट कोलिजन (एआइसी) ने गुरुवार को ड़ॉन के दिए एक बयान में इंटरनेट कंपनियों को लक्षित करने वाले नए कानून और सरकार की ‘अपारदर्शी प्रक्रिया’ पर चिंता जाता चुके है, जिसके तहत ये नियम बनाए हजा चुके है।

मिली जानकारी के अनुसार इलेक्ट्रॉनिक अपराध रोकथाम अधिनियम 2016 के अंतर्गत नए नियम रिमूवल एंड ब्लॉकिंग ऑफ अनलाफुल ऑनलाइन कंटेंट रूल्स 2020 जारी कर दिया गया है। नए नियमों के अंतर्गत, सोशल मीडिया कंपनियों को  कोई भी सूचना या डेटा जांच एजेंसियों को देना पड़ सकता है। इनमें सब्सक्राइबर की सूचना, ट्रैफिक डेटा और यूजर डेटा जैसी संवेदनशील जानकारियां भी दी जा सकती है।

लोगों को स्वतंत्र इंटनेट सेवा नहीं मिलेगी

AIC ने अपने बयान में आगे कहा कि टेक कंपनियों ने चेतावनी जारी कर दी है कि नियमों से एआइसी सदस्यों के लिए पाक उपयोगकर्ताओं और व्यवसायों को अपनी सेवाएं उपलब्ध कराना बेहद ही कठिन हो सकता है। इस नए ‘बेरहम’ कानून की वजह से लोगों को स्वतंत्र और खुली इंटनेट सेवा नहीं दी जाएगी। इसके चलते पाकिस्तान की डिजिटल इकोनॉमी को भी हानि हो सकती है।

पढ़ें :- गूगल की Gmail यूर्जस को चेतावनी, शर्तें और नियम ना मानने पर बन्द हो जाएंगी ये सुविधायें

जंहा यह भी कहा जा रहा है कि इंटरनेट कंपनियों को पाक में कार्यालय भी स्थापित करना होगा और एक अधिकारी की नियुक्ति करनी होगी। ताकि जरूरत पड़ने पर उसे तलब किया जा सके। नियमों की अवहेलना पर 50 करोड़ पाक रुपये का जुर्माने लग सकता है। जिससे पूर्व भी एक बार इमरान सरकार ने ऐसा फैसला लिया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...