सीएम योगी आदित्यनाथ की मुरीद हुई पाकिस्तानी मीडिया, इमरान सरकार से बताया बेहतर

cm yogi
सीएम योगी ने अंतर्जनपदीय तबादले पर लगी रोक हटाई, 45 हजार शिक्षकों को मिलेगा लाभ

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की पाकिस्तानी मीडिया मुरीद हो गयी है। पाकिस्तानी मीडिया ने इमरान सरकार से बेहतर यूपी की योगी सरकार को बताया है। पाकिस्तान की प्रमुख अखबार डॉन के इस्लामाबाद संस्करण के संपादक फहद हुसैन ने कोरोना संकट से निपटने में यूपी की मिसाल दी है।

Pakistani Media Praised Cm Yogi Adityanath Told Better To Imran Government :

उन्होंने कहा कि यूपी में लॉकडाउन सख्ती से लागू हुआ जबकि पाकिस्तान सरकार नाकामयाब रही। हुसैन ने पाकिस्तान और उत्तर प्रदेश में कोरोना से हुईं मौतों की तुलना की और एक ग्राफ के जरिए बताया कि दोनों ने इस संकट का सामना किस तरह से किया और उसके नतीजे में क्या अंतर रहा।

इस ग्राफ में बताया गया है कि पाकिस्तान की आबादी 20.8 करोड़ है और उत्तर प्रदेश की आबादी 22.5 करोड़ है यानी दोनों की आबादी लगभग बराबर है। दोनों की साक्षरता दर भी लगभग एक ही है। लेकिन पाकिस्तान में कोरोना से मृत्यु दर उत्तर प्रदेश की सात गुना ज्यादा है।

पाकिस्तानी मीडिया ने यूपी सरकार की तरीफ की है लेकिन महाराष्ट्र सरकार के प्रदर्शन को खराब बताया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, उत्तर प्रदेश में कोरोना से मृत्युदर पाकिस्तान के मुकाबले बेहद कम है, वहीं समृद्ध और युवा आबादी वाले महाराष्ट्र में मृत्यु दर अधिक है।

हमें सही सबक सीखने के लिए ये जरूर पता होना चाहिए कि यूपी ने क्या सही किया और महाराष्ट्र ने क्या गलत किया। फहद ने लिखा, कोरोना महामारी पर नियंत्रण में ये फैक्टर अहम साबित हुआ कि लॉकडाउन कितनी जल्दी लगाया गया और कितने असरदार तरीके से इसे लागू किया गया।

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की पाकिस्तानी मीडिया मुरीद हो गयी है। पाकिस्तानी मीडिया ने इमरान सरकार से बेहतर यूपी की योगी सरकार को बताया है। पाकिस्तान की प्रमुख अखबार डॉन के इस्लामाबाद संस्करण के संपादक फहद हुसैन ने कोरोना संकट से निपटने में यूपी की मिसाल दी है। उन्होंने कहा कि यूपी में लॉकडाउन सख्ती से लागू हुआ जबकि पाकिस्तान सरकार नाकामयाब रही। हुसैन ने पाकिस्तान और उत्तर प्रदेश में कोरोना से हुईं मौतों की तुलना की और एक ग्राफ के जरिए बताया कि दोनों ने इस संकट का सामना किस तरह से किया और उसके नतीजे में क्या अंतर रहा। इस ग्राफ में बताया गया है कि पाकिस्तान की आबादी 20.8 करोड़ है और उत्तर प्रदेश की आबादी 22.5 करोड़ है यानी दोनों की आबादी लगभग बराबर है। दोनों की साक्षरता दर भी लगभग एक ही है। लेकिन पाकिस्तान में कोरोना से मृत्यु दर उत्तर प्रदेश की सात गुना ज्यादा है। पाकिस्तानी मीडिया ने यूपी सरकार की तरीफ की है लेकिन महाराष्ट्र सरकार के प्रदर्शन को खराब बताया है। उन्होंने एक ट्वीट में कहा, उत्तर प्रदेश में कोरोना से मृत्युदर पाकिस्तान के मुकाबले बेहद कम है, वहीं समृद्ध और युवा आबादी वाले महाराष्ट्र में मृत्यु दर अधिक है। हमें सही सबक सीखने के लिए ये जरूर पता होना चाहिए कि यूपी ने क्या सही किया और महाराष्ट्र ने क्या गलत किया। फहद ने लिखा, कोरोना महामारी पर नियंत्रण में ये फैक्टर अहम साबित हुआ कि लॉकडाउन कितनी जल्दी लगाया गया और कितने असरदार तरीके से इसे लागू किया गया।