पाकिस्तान की सबसे बड़ी भूल, अमेरिका की 9/11 हमले के बाद मदद करना—इमरान खान

imran khan
पाक PM को यूपी पुलिस ने दिया करार जबाब, इमरान ने हटाये फर्जी वीडियो

नई दिल्ली। अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में आयोजित ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम दौरान पीएम मोदी व ट्रम्प की ​दोस्ती देखते ही पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अपना रोना शुरू कर दिया है। पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने पहली बार कहा कि 9/11 हमले के बाद अमेरिका की मदद करना पाकिस्तान की सबसे बड़ी भूल थी। उन्होने जनरल परवेज मुशर्रफ के अमेरिका का साथ देने वाले फैसले को गलत ठहराया। उनका कहना था कि सरकार को कभी जनता से ऐसे वादे नही करने चाहिए जो वो पूरा न कर सके।

Pakistans Biggest Mistake Helping America After 9 11 Attacks Imran Khan :

यूएसए में इमरान ने इस मौके पर यह भी कहा अमेरिका ने जो आतंकवाद के खिलाफ मुहिम उठायी थी उसमें अमेरिका के साथ देने के चक्कर में पाकिस्तान के 70 हजार सैनिक मार दिये गये। जब अफगानिस्तान में चलाई गयी इस मुहीम में अमेरिका नही जीत पाया तो इसका जिम्मेदार पाकिस्तान को ही ठहरा दिया गया। उन्होने कहा कि पाकिस्तान उन तीन देशों में से एक था जिसने 2001 में अमेरिकी हमले से पहले अफगानिस्तान में तालिबान सरकार को मान्यता दी थी। 9/11 हमले के बाद जब अमरेकिा ने अफगानिस्तान पर हमला किया तो अमेरिका की मदद करने वाले देशों में पाकिस्तान भी था।

पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने बताया ​कि पाकिस्तान इस समय अपने आज तक के सबसे बुरे हालातों से गुजर रहा है। इमरान का कहना है कि उनकी सरकार आते ही पाकिस्तान के ऐसे हालात हो गये, ऐसे में उनकी सरकार को बहुत ज्यादा संघर्ष करना पड़ रहा है। उन्होने इस मौके पर चीन को पाकिस्तान की मदद करने के लिए धन्यवाद भी दिया।

नई दिल्ली। अमेरिका के ह्यूस्टन शहर में आयोजित 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम दौरान पीएम मोदी व ट्रम्प की ​दोस्ती देखते ही पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने अपना रोना शुरू कर दिया है। पाकिस्तान के पीएम इमरान खान ने पहली बार कहा कि 9/11 हमले के बाद अमेरिका की मदद करना पाकिस्तान की सबसे बड़ी भूल थी। उन्होने जनरल परवेज मुशर्रफ के अमेरिका का साथ देने वाले फैसले को गलत ठहराया। उनका कहना था कि सरकार को कभी जनता से ऐसे वादे नही करने चाहिए जो वो पूरा न कर सके। यूएसए में इमरान ने इस मौके पर यह भी कहा अमेरिका ने जो आतंकवाद के खिलाफ मुहिम उठायी थी उसमें अमेरिका के साथ देने के चक्कर में पाकिस्तान के 70 हजार सैनिक मार दिये गये। जब अफगानिस्तान में चलाई गयी इस मुहीम में अमेरिका नही जीत पाया तो इसका जिम्मेदार पाकिस्तान को ही ठहरा दिया गया। उन्होने कहा कि पाकिस्तान उन तीन देशों में से एक था जिसने 2001 में अमेरिकी हमले से पहले अफगानिस्तान में तालिबान सरकार को मान्यता दी थी। 9/11 हमले के बाद जब अमरेकिा ने अफगानिस्तान पर हमला किया तो अमेरिका की मदद करने वाले देशों में पाकिस्तान भी था। पाकिस्तानी पीएम इमरान खान ने बताया ​कि पाकिस्तान इस समय अपने आज तक के सबसे बुरे हालातों से गुजर रहा है। इमरान का कहना है कि उनकी सरकार आते ही पाकिस्तान के ऐसे हालात हो गये, ऐसे में उनकी सरकार को बहुत ज्यादा संघर्ष करना पड़ रहा है। उन्होने इस मौके पर चीन को पाकिस्तान की मदद करने के लिए धन्यवाद भी दिया।