परवेज मुशर्रफ ने भारत के खिलाफ उगला जहर, कहा- हर पाकिस्तानी के खून में है कश्मीर

pak
परवेज मुशर्रफ ने भारत के खिलाफ उगला जहर, कहा- हर पाकिस्तानी के खून में है कश्मीर

नई दिल्ली। पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने फिर से पाकिस्तान की सक्रिय राजनीति में लौटने का फैसला किया है। राजनीति में लौटने के साथ ही उन्होंने कश्मीर का राग अलापा। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ ने कश्मीर पर भारत को युद्ध की धमकी दी है। मुशर्रफ ने दुबई में ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के स्थापना दिवस पर भारत को धमकी दी है कि पाकिस्तान और हमारी सेना खून के आखिरी बूंद तक लड़ेगी। 
उन्होंने कहा, ‘शायद, भारतीय सेना करगिल की लड़ाई भूल गई है।’ उन्होंने दावा किया कि साल 1999 में इस संघर्ष को समाप्त करने लिए भारत को अमेरिकी राष्ट्रपति से मदद मांगनी पड़ी थी। ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के 76 वर्षीय अध्यक्ष ने रविवार को पार्टी के स्थापना दिवस पर दुबई से टेलीफोन के द्वारा इस्लामाबाद में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की। उन्होंने अपने बिगड़ते स्वास्थ्य के चलते पिछले साल राजनीतिक गतिविधियों से अवकाश लिया था।

Pakistans Former President Pervez Musharraf Commented On Kashmir Says We Are With Kashmiri People :

कश्मीरी भाइयों के साथ खड़ें रहेंगे 

अपने बिगड़ते हुए स्वास्थ्य की वजह से पूर्व राष्ट्रपति पिछले साल राजनीतिक गतिविधियों से दूर हो गए थे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के खून में कश्मीर है। मुशर्रफ का यह बयान कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के बाद पहली बार आया है। उन्होंने कहा, ‘चाहे जो भी हो, हम अपने कश्मीरी भाइयों के साथ खड़े रहेंगे। पाकिस्तानी और सेना अपने खून के आखिरी कतरे तक संघर्ष करती रहेगी।’

मुशर्रफ ने कहा कि शांति की पाकिस्तान की इच्छा को उसकी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए क्योंकि पाकिस्तानी सशस्त्र बल भारत के किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए तैयार हैं। कश्मीर मुद्दे पर भारत कई बार अपने पड़ोसी को समझा चुका है कि यह उसका आंतरिक मामला है और पाकिस्तान को सच्चाई स्वीकार करते हुए भारत विरोधी प्रोपेगैंडा और कश्मीर राग अलापना बंद कर देना चाहिए।

राजद्रोह का सामना कर रहे हैं मुशर्रफ  

मार्च 2016 से परवेज मुशर्रफ दुबई में रह रहे हैं। साल 2007 में संविधान को स्थगित करने की वजह से वह राजद्रोह का सामना कर रहे हैं। इस मामले में 2014 में उन्हें अभ्यारोपित किया गया। राजद्रोह के मामले में दोषी करार दिए जाने पर मृत्युदंड या उम्रकैद की सजा देने का प्रावधान है। सेहत में सुधार होने की वजह से मुशर्रफ सक्रिय राजनीति में लौटने की योजना बना रहे हैं।

नई दिल्ली। पूर्व सैन्य तानाशाह परवेज मुशर्रफ ने फिर से पाकिस्तान की सक्रिय राजनीति में लौटने का फैसला किया है। राजनीति में लौटने के साथ ही उन्होंने कश्मीर का राग अलापा। पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति परवेज़ मुशर्रफ ने कश्मीर पर भारत को युद्ध की धमकी दी है। मुशर्रफ ने दुबई में ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के स्थापना दिवस पर भारत को धमकी दी है कि पाकिस्तान और हमारी सेना खून के आखिरी बूंद तक लड़ेगी।  उन्होंने कहा, 'शायद, भारतीय सेना करगिल की लड़ाई भूल गई है।' उन्होंने दावा किया कि साल 1999 में इस संघर्ष को समाप्त करने लिए भारत को अमेरिकी राष्ट्रपति से मदद मांगनी पड़ी थी। ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के 76 वर्षीय अध्यक्ष ने रविवार को पार्टी के स्थापना दिवस पर दुबई से टेलीफोन के द्वारा इस्लामाबाद में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की। उन्होंने अपने बिगड़ते स्वास्थ्य के चलते पिछले साल राजनीतिक गतिविधियों से अवकाश लिया था। कश्मीरी भाइयों के साथ खड़ें रहेंगे  अपने बिगड़ते हुए स्वास्थ्य की वजह से पूर्व राष्ट्रपति पिछले साल राजनीतिक गतिविधियों से दूर हो गए थे। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के खून में कश्मीर है। मुशर्रफ का यह बयान कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के बाद पहली बार आया है। उन्होंने कहा, 'चाहे जो भी हो, हम अपने कश्मीरी भाइयों के साथ खड़े रहेंगे। पाकिस्तानी और सेना अपने खून के आखिरी कतरे तक संघर्ष करती रहेगी।' मुशर्रफ ने कहा कि शांति की पाकिस्तान की इच्छा को उसकी कमजोरी नहीं समझा जाना चाहिए क्योंकि पाकिस्तानी सशस्त्र बल भारत के किसी भी दुस्साहस का जवाब देने के लिए तैयार हैं। कश्मीर मुद्दे पर भारत कई बार अपने पड़ोसी को समझा चुका है कि यह उसका आंतरिक मामला है और पाकिस्तान को सच्चाई स्वीकार करते हुए भारत विरोधी प्रोपेगैंडा और कश्मीर राग अलापना बंद कर देना चाहिए। राजद्रोह का सामना कर रहे हैं मुशर्रफ   मार्च 2016 से परवेज मुशर्रफ दुबई में रह रहे हैं। साल 2007 में संविधान को स्थगित करने की वजह से वह राजद्रोह का सामना कर रहे हैं। इस मामले में 2014 में उन्हें अभ्यारोपित किया गया। राजद्रोह के मामले में दोषी करार दिए जाने पर मृत्युदंड या उम्रकैद की सजा देने का प्रावधान है। सेहत में सुधार होने की वजह से मुशर्रफ सक्रिय राजनीति में लौटने की योजना बना रहे हैं।