ICJ में पाकिस्तान के वकील ने टेके घुटने, कहा- कश्मीर पर कमजोर है केस

kawar kuraishi
ICJ में पाकिस्तान के वकील ने टेके घुटने, कहा- कश्मीर पर कमजोर है केस

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। संयुक्त राष्ट्र में मुंह की खाने के बाद अब पाकिस्तान कश्मीर के मुद्दे को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) लेकर जाने की बात कह रहा है, लेकिन अब इस मोर्चे पर भी उसे मुंह की खानी पड़ रही है। और ये बात खुद पाकिस्तान के वकील ही बोल रहे हैं।

Pakistans Lawyer In Cj Takes Knee Says Case Is Weak On Kashmir :

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में पाकिस्तान के वकील खावर कुरैशी का कहना है कि “जम्मू-कश्मीर में अगर कथित नरसंहार हो रहा है तो अभी उसके सबूत इकट्ठा करना काफी मुश्किल है।” कुरैशी ने कहा, “अगर सबूत नहीं होंगे तो पाकिस्तान के लिए जम्मू-कश्मीर के मसले को आईसीजे में पेश करना काफी मुश्किल होगा।”

बता दें कि इससे पहले हाल ही में पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर का मुद्दा उठा चुका है। लेकिन वहां उसे मुंह की खानी पड़ी। चीन को छोड़कर बाकी सभी देशों ने पाकिस्तान की दलीलों को नकार कर दिया था। इसके बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि सैद्धांतिक रूप से पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दे को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में ले जाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि सभी कानूनी पहलुओं पर विचार किए जाने के बाद यह फैसला किया गया है।

अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से बौखलाया हुआ है पकिस्तना

आपको बता दें कि पाकिस्तान अनुच्छेद 370 के मसले पर बौखलाया हुआ है और लगातार इसे भारत के द्वारा किया गया संयुक्त राष्ट्र के नियमों का उल्लंघन बता रहा है। हालांकि, इस मसले पर भारत को दुनिया के कई बड़े देशों का साथ मिला है और इस मसले को भारत का आंतरिक मामला बताया है।

इससे पहले पाकिस्तान की तरफ से मानवाधिकार उल्लंघन के मसले को लेकर संयुक्त राष्ट्र को चिट्ठी लिखी गई थी, जिसमें भारत के कई नेताओं के बयान, अंतरराष्ट्रीय मीडिया की रिपोर्ट्स को आधार बनाकर एक्शन लेने की मांग की गई थी।

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने लगातार भारत के खिलाफ बयान दिए हैं और इस मसले पर वह पाकिस्तानी जनता से प्रदर्शन की अपील भी कर रहे हैं। इमरान की तरफ से हर शुक्रवार दोपहर 12 से 12.30 बजे के बीच लोगों से अपील की गई है कि वह आधे घंटे तक कश्मीरी लोगों के समर्थन में खड़े रहें।

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 हटने के बाद से पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। संयुक्त राष्ट्र में मुंह की खाने के बाद अब पाकिस्तान कश्मीर के मुद्दे को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) लेकर जाने की बात कह रहा है, लेकिन अब इस मोर्चे पर भी उसे मुंह की खानी पड़ रही है। और ये बात खुद पाकिस्तान के वकील ही बोल रहे हैं। इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में पाकिस्तान के वकील खावर कुरैशी का कहना है कि "जम्मू-कश्मीर में अगर कथित नरसंहार हो रहा है तो अभी उसके सबूत इकट्ठा करना काफी मुश्किल है।" कुरैशी ने कहा, "अगर सबूत नहीं होंगे तो पाकिस्तान के लिए जम्मू-कश्मीर के मसले को आईसीजे में पेश करना काफी मुश्किल होगा।" बता दें कि इससे पहले हाल ही में पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में कश्मीर का मुद्दा उठा चुका है। लेकिन वहां उसे मुंह की खानी पड़ी। चीन को छोड़कर बाकी सभी देशों ने पाकिस्तान की दलीलों को नकार कर दिया था। इसके बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी ने कहा था कि सैद्धांतिक रूप से पाकिस्तान ने कश्मीर मुद्दे को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में ले जाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि सभी कानूनी पहलुओं पर विचार किए जाने के बाद यह फैसला किया गया है। अनुच्छेद 370 के हटने के बाद से बौखलाया हुआ है पकिस्तना आपको बता दें कि पाकिस्तान अनुच्छेद 370 के मसले पर बौखलाया हुआ है और लगातार इसे भारत के द्वारा किया गया संयुक्त राष्ट्र के नियमों का उल्लंघन बता रहा है। हालांकि, इस मसले पर भारत को दुनिया के कई बड़े देशों का साथ मिला है और इस मसले को भारत का आंतरिक मामला बताया है। इससे पहले पाकिस्तान की तरफ से मानवाधिकार उल्लंघन के मसले को लेकर संयुक्त राष्ट्र को चिट्ठी लिखी गई थी, जिसमें भारत के कई नेताओं के बयान, अंतरराष्ट्रीय मीडिया की रिपोर्ट्स को आधार बनाकर एक्शन लेने की मांग की गई थी। पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान ने लगातार भारत के खिलाफ बयान दिए हैं और इस मसले पर वह पाकिस्तानी जनता से प्रदर्शन की अपील भी कर रहे हैं। इमरान की तरफ से हर शुक्रवार दोपहर 12 से 12.30 बजे के बीच लोगों से अपील की गई है कि वह आधे घंटे तक कश्मीरी लोगों के समर्थन में खड़े रहें।