1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. पंचांग • गुरुवार, 16 सितंबर, 2021

पंचांग • गुरुवार, 16 सितंबर, 2021

पंचांग 16/09/21, गुरुवार यह पृष्ठ 16 सितंबर, 2021 को तिथि, नक्षत्र, अच्छा और बुरा समय आदि दिखाता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

पंचांग • गुरुवार, 16 सितंबर, 2021
विक्रम संवत – 2078, आनंद
शक संवत – 1943, प्लावस
पूर्णिमांत – भाद्रपद
अमंत मास – भाद्रपद

पढ़ें :- 16 अक्टूबर 2021 का राशिफल: इन चार राशियों के जातकों को मिलेगी कार्य में सफलता, जाने अपनी किस्मत का हाल

तिथि
शुक्ल पक्ष दशमी – 15 सितंबर 11:17 पूर्वाह्न – 16 सितंबर 09:36 पूर्वाह्न
शुक्ल पक्ष एकादशी – 16 सितंबर 09:36 पूर्वाह्न – 17 सितंबर 08:08 पूर्वाह्न

नक्षत्र
उत्तरा आषाढ़ – 16 सितंबर 04:56 पूर्वाह्न – 17 सितंबर 04:09 पूर्वाह्न
श्रवण – 17 सितंबर 04:09 पूर्वाह्न – 18 सितंबर 03:36 पूर्वाह्न

करण
गरिजा – 15 सितंबर 10:25 अपराह्न – 16 सितंबर 09:36 पूर्वाह्न
वनिजा – 16 सितंबर 09:36 पूर्वाह्न – 16 सितंबर 08:50 अपराह्न
विष्टी – 16 सितंबर 08:50 अपराह्न – 17 सितंबर 08:08 पूर्वाह्न

योग
सोभना – 16 सितंबर 12:53 पूर्वाह्न – 16 सितंबर 10:31 अपराह्न
अतिगंडा – 16 सितंबर 10:31 अपराह्न – 17 सितंबर 08:21 अपराह्न

पढ़ें :- पंचांग: शनिवार, 16 अक्टूबर, 2021

वारा
गुरुवार (गुरुवार)

सूर्य और चंद्रमा का समय
सूर्योदय – 6:17 AM
सूर्यास्त – 6:25 अपराह्न
चंद्रोदय – 16 सितंबर 3:29 अपराह्न
चंद्रास्त – सितम्बर 17 2:25 AM

अशुभ काल
राहु – 1:52 अपराह्न – 3:23 अपराह्न
यमगंडा – 6:17 पूर्वाह्न – 7:48 पूर्वाह्न
गुलिका – 9:19 पूर्वाह्न – 10:50 पूर्वाह्न
दुर मुहूर्त – 10:20 पूर्वाह्न – 11:08 पूर्वाह्न, 03:11 अपराह्न – 04:00 अपराह्न
वर्ज्यम – 08:03 पूर्वाह्न – 09:37 पूर्वाह्न

शुभ मुहूर्त
अभिजीत मुहूर्त – 11:57 पूर्वाह्न – 12:46 अपराह्न
अमृत ​​काल – 09:57 अपराह्न – 11:30 अपराह्न
ब्रह्म मुहूर्त – 04:41 पूर्वाह्न – 05:29 पूर्वाह्न

आनंददी योग
ध्वंक्ष (थुलंक्ष) तक – 05:42 AM
ध्वाजा (केतु)

पढ़ें :- पंचांग: शुक्रवार, 15 अक्टूबर 2021

सूर्या रसी
सूर्य सिंह राशि में प्रवेश करने से पहले 17 सितंबर, 01:19 पूर्वाह्न तक यात्रा करता है

चंद्र रासी
मकर राशि में प्रवेश करने से पहले चंद्रमा 16 सितंबर, सुबह 10:43 बजे तक धनु राशि में भ्रमण करता है

चंद्र मास
अमंता – भाद्रपद
पूर्णिमांत – भाद्रपद
शक वर्ष (राष्ट्रीय कैलेंडर) – भाद्रपद 25, 1943
वैदिक ऋतु – वर्षा (मानसून)
ड्रिक रितु – शरद (शरद ऋतु)

चंद्राष्टम
1. कृतिका अंतिम ३ पदम, रोहिणी , मृगशीर्ष प्रथम २ पदम

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...