1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. पंचांग: शनिवार, 2 अप्रैल, 2022

पंचांग: शनिवार, 2 अप्रैल, 2022

पंचांग 02/04/22, शनिवार यह पृष्ठ 2 अप्रैल, 2022 को तिथि, नक्षत्र, अच्छे और बुरे समय आदि को दर्शाता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

पंचांग: शनिवार, 2 अप्रैल, 2022

पढ़ें :- Swapna Shastra : सपने में किसी महिला से बात करना शुभ संकेत माना जाता है, जानिए इसका क्या अर्थ है

विक्रम संवत – 2079, राक्षस
शक सम्वत – 1944, शुभकृत्
पूर्णिमांत – चैत्र
अमांत – चैत्र

तिथि
शुक्ल पक्ष प्रतिपदा – Apr 01 11:54 AM – Apr 02 11:58 AM
शुक्ल पक्ष द्वितीया – Apr 02 11:58 AM – Apr 03 12:38 PM

नक्षत्र
रेवती – Apr 01 10:40 AM – Apr 02 11:21 AM
अश्विनी – Apr 02 11:21 AM – Apr 03 12:37 PM

करण
बव – Apr 01 11:52 PM – Apr 02 11:58 AM
बालव – Apr 02 11:58 AM – Apr 03 12:14 AM
कौलव – Apr 03 12:14 AM – Apr 03 12:38 PM

पढ़ें :- Dhaniya Ke Upay : धनिया नहीं होने देगी आपकी जेब खाली, इस उपाय से अटके काम पूरे होने लगते हैं

योग
इन्द्र – Apr 01 09:36 AM – Apr 02 08:30 AM
वैधृति – Apr 02 08:30 AM – Apr 03 07:52 AM

वार
शनिवार

त्यौहार और व्रत
गुड़ी पड़वा
चंद्र दर्शन
वसंत ऋतू
चैत्र नवरात्री

सूर्य और चंद्रमा का समय
सूर्योदय – 6:22 AM
सूर्यास्त – 6:38 PM
चन्द्रोदय – Apr 02 7:00 AM
चन्द्रास्त – Apr 02 7:48 PM

अशुभ काल
राहू – 9:26 AM – 10:58 AM
यम गण्ड – 2:02 PM – 3:34 PM
कुलिक – 6:22 AM – 7:54 AM
दुर्मुहूर्त – 08:00 AM – 08:49 AM
वर्ज्यम् – 08:24 AM – 10:05 AM

पढ़ें :- Magha Purnima-Ravi Pushya Nakshatra 2023 : माघ पूर्णिमा पर बन रहा ये ​विशेष योग, हो सकती है धन-धान्य में वृद्धि

शुभ काल
अभिजीत मुहूर्त – 12:05 PM – 12:55 PM
अमृत काल – 08:53 AM – 10:32 AM
ब्रह्म मुहूर्त – 04:46 AM – 05:34 AM

आनन्दादि योग
प्रजापति (धाता) – 11:21 AM
सौम्य

सूर्या राशि
सूर्य मीन राशि पर है

चंद्र राशि
चन्द्रमा अप्रैल 02, 11:21 AM तक मीन राशि उपरांत मेष राशि पर संचार करेगा

चन्द्र मास
अमांत – चैत्र
पूर्णिमांत – चैत्र
शक संवत (राष्ट्रीय कलैण्डर) – चैत्र 12, 1944
वैदिक ऋतु – वसंत
द्रिक ऋतु – वसंत

चंद्राष्टम
1. माघ, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तरा फाल्गुनी प्रथम 1 पदम

पढ़ें :- Holi Ke Totke : होलिका दहन के दूसरे दिन राख लेकर उसे लाल रुमाल में बांधकर इस जगह रखें, धन की बाधाएं दूर होती है।

गण्डमाला नक्षत्र
1. अप्रैल 01 10:40 पूर्वाह्न – 2 अप्रैल 11:21 पूर्वाह्न (रेवती)
2. अप्रैल 02 11:21 पूर्वाह्न – 3 अप्रैल 12:37 अपराह्न (अश्विनी)

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...