1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. पंचांग: मंगलवार, 24 मई 2022

पंचांग: मंगलवार, 24 मई 2022

यह पृष्ठ 24 मई, 2022 को तिथि, नक्षत्र, अच्छा और बुरा समय आदि दिखाता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

पंचांग: मंगलवार, 24 मई 2022
विक्रम संवत – 2079, राक्षस :
शक संवत – 1944, शुभकृति
पूर्णिमांता – ज्येष्ठ :
अमंत मास – वैशाख

पढ़ें :- 27 जून 2022 का पंचांग: जाने आज का पंचांग, शुभ मुहूर्त और नक्षत्र की चाल के बारे में ...

तिथि
कृष्ण पक्ष नवमी – 23 मई 11:34 पूर्वाह्न – 24 मई 10:45 पूर्वाह्न
कृष्ण पक्ष दशमी – 24 मई 10:45 पूर्वाह्न – 25 मई 10:32 पूर्वाह्न

नक्षत्र
पूर्व भाद्रपद – 23 मई 10:22 अपराह्न – 24 मई 10:33 अपराह्न
उत्तरा भाद्रपद – 24 मई 10:33 अपराह्न – 25 मई 11:20 अपराह्न

करण
गरिजा – 23 मई 11:05 अपराह्न – 24 मई 10:45 पूर्वाह्न
वनिजा – 24 मई 10:45 पूर्वाह्न – 24 मई 10:34 अपराह्न
विष्टी – 24 मई 10:34 अपराह्न – 25 मई 10:32 पूर्वाह्न

योग
विशकंभा – 24 मई 01:05 पूर्वाह्न – 24 मई 11:41 अपराह्न
पृथ्वी – 24 मई 11:41 अपराह्न – 25 मई 10:44 अपराह्न

पढ़ें :- 16 जून 2022 का राशिफल : आज चंद्रमा धनु राशि में विराजमान हैं, जानिए क्या कहती है आपकी राशि

वारा
मंगलवार (मंगलवार)

सूर्य और चंद्रमा का समय
सूर्योदय – 5:46 AM
सूर्यास्त – शाम 7:00 बजे
चंद्रोदय – 24 मई 1:55 AM
चंद्रमा अस्त – मई 24 1:47 अपराह्न

अशुभ काल
राहु – 3:42 अपराह्न – 5:21 अपराह्न
यमगंडा – 9:05 पूर्वाह्न – 10:44 पूर्वाह्न
गुलिक – 12:23 अपराह्न – 2:03 अपराह्न
दुर मुहूर्त – 08:25 पूर्वाह्न – 09:18 पूर्वाह्न, 11:19 अपराह्न – 12:02 पूर्वाह्न
वर्ज्यम – 08:28 पूर्वाह्न – 10:07 पूर्वाह्न

शुभ मुहूर्त
अभिजीत मुहूर्त – 11:57 पूर्वाह्न – 12:50 अपराह्न
अमृत ​​काल – 02:29 अपराह्न – 04:06 अपराह्न
ब्रह्म मुहूर्त – 04:10 पूर्वाह्न – 04:58 पूर्वाह्न

आनंददी योग
कान (काना) तक – 10:33 अपराह्न
सिद्धि

पढ़ें :- Shani Vakri 2022 : जुलाई में इस दिन से शुरू हो रही है शनि की उल्टी चाल, शनिदेव की पूजा करते समय नीले रंग के फूल अर्पित करें

सूर्या रसी
वृषभ (वृषभ) में सूर्य

चंद्र रासी
चंद्रमा 24 मई, 04:27 अपराह्न तक मीना राशि में प्रवेश करने से पहले कुंभ राशि में भ्रमण करता है

चंद्र मास
अमंता – वैशाख :
पूर्णिमांता – ज्येष्ठ :
शक वर्ष (राष्ट्रीय कैलेंडर) – ज्येष्ठ 3, 1944
वैदिक ऋतु – वसंत (वसंत)
ड्रिक रितु – ग्रिश्मा (ग्रीष्मकालीन)

शुभ योग
सर्वार्थ सिद्धि – 24 मई 10:33 अपराह्न – 25 मई 05:46 पूर्वाह्न (उत्तरा भाद्रपद और मंगलवार)

चंद्राष्टम
1. पुनर्वसु अंतिम 1 पदम, पुष्य , अश्लेषा

पढ़ें :- Mangalwar Lord Hanuman : मंगलवार को करें इन मंत्रों का जाप, जीवन में दुख दारिद्र का नाश होता है
इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...