1. हिन्दी समाचार
  2. एस्ट्रोलोजी
  3. पंचांग: मंगलवार, 16 नवंबर, 2021

पंचांग: मंगलवार, 16 नवंबर, 2021

पंचांग 16/11/21, मंगलवार। यह पृष्ठ 16 नवंबर, 2021 को तिथि, नक्षत्र, अच्छे और बुरे समय आदि को दर्शाता है।

By प्रीति कुमारी 
Updated Date

पंचांग: मंगलवार, 16 नवंबर, 2021

पढ़ें :- 2 दिसंबर 2021 का राशिफल: इन राशि के जातकों को मिलेगा धन लाभ, इन्हे मिलेगी कैरियर से जुड़ी सफलता

विक्रम संवत – 2078, आनन्द
शक सम्वत – 1943, प्लव
पूर्णिमांत – कार्तिक
अमांत – कार्तिक

तिथि
शुक्ल पक्ष द्वादशी – Nov 15 06:39 AM – Nov 16 08:01 AM
शुक्ल पक्ष त्रयोदशी – Nov 16 08:02 AM – Nov 17 09:50 AM

नक्षत्र
रेवती – Nov 15 06:09 PM – Nov 16 08:14 PM
अश्विनी – Nov 16 08:14 PM – Nov 17 10:43 PM

करण
बालव – Nov 15 07:17 PM – Nov 16 08:02 AM
कौलव – Nov 16 08:02 AM – Nov 16 08:53 PM
तैतिल – Nov 16 08:53 PM – Nov 17 09:50 AM

पढ़ें :- पंचांग: गुरुवार, 2 दिसंबर, 2021

योग
सिद्धि – Nov 16 01:35 AM – Nov 17 01:47 AM
व्यातीपात – Nov 17 01:47 AM – Nov 18 02:16 AM

वार
मंगलवार

त्यौहार और व्रत
प्रदोष व्रत
वृश्चिक संक्रांति
भौम प्रदोष व्रत

सूर्य और चंद्रमा का समय
सूर्योदय – 6:45 AM
सूर्यास्त – 5:37 PM
चन्द्रोदय – Nov 16 4:01 PM
चन्द्रास्त – Nov 17 4:45 AM

अशुभ काल
राहू – 2:54 PM – 4:16 PM
यम गण्ड – 9:28 AM – 10:49 AM
कुलिक – 12:11 PM – 1:33 PM
दुर्मुहूर्त – 08:55 AM – 09:39 AM, 10:53 PM – 11:45 PM
वर्ज्यम् – 06:18 PM – 08:04 PM

पढ़ें :- पंचांग: बुधवार, 1 दिसंबर, 2021

शुभ काल
अभिजीत मुहूर्त – 11:49 AM – 12:33 PM
अमृत काल – 05:38 PM – 07:22 PM
ब्रह्म मुहूर्त – 05:09 AM – 05:57 AM

आनन्दादि योग
शुभ – 08:14 PM
अमृत

सूर्या राशि
सूर्य नवम्बर 16, 01:09 PM तक तुला राशि, उपरांत वृश्चिक राशि में प्रवेश

चंद्र राशि
चन्द्रमा नवम्बर 16, 08:14 PM तक मीन राशि उपरांत मेष राशि पर संचार करेगा

चन्द्र मास
अमांत – कार्तिक
पूर्णिमांत – कार्तिक
शक संवत (राष्ट्रीय कलैण्डर) – कार्तिक 25, 1943
वैदिक ऋतु – शरद
द्रिक ऋतु – हेमंत

शुभ योग
अमृत ​​सिद्धि योग – नवंबर 16 08:14 अपराह्न – 17 नवंबर 06:46 पूर्वाह्न (अश्विनी और मंगलवार)
सर्वार्थ सिद्धि योग – नवंबर 16 08:14 अपराह्न – 17 नवंबर 06:46 पूर्वाह्न (अश्विनी और मंगलवार)

पढ़ें :- Sindoor Chola Hanuman Ji: मंगलवार को सिंदूर का चोला चढ़ाने से हनुमान जी प्रसन्न होते है,जानें क्या है कारण

चंद्राष्टम
1. माघ, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तरा फाल्गुनी प्रथम 1 पदम

गण्डमाला नक्षत्र
1. 15 नवंबर 06:09 अपराह्न – 16 नवंबर 08:14 अपराह्न (रेवती)
2. नवंबर 16 08:14 अपराह्न – 17 नवंबर 10:43 अपराह्न (अश्विनी)

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...