1. हिन्दी समाचार
  2. उत्तर प्रदेश
  3. पंचायत चुनाव: इन जिलों में जारी हुई नई आरक्षण लिस्ट, कई प्रत्याशियों की बिगड़ी गणित

पंचायत चुनाव: इन जिलों में जारी हुई नई आरक्षण लिस्ट, कई प्रत्याशियों की बिगड़ी गणित

इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद यूपी पंचायत चुनाव की नई आरक्षण सूची जारी होनी शुरू हो गई है। कई जिलों में आरक्षण सूची जारी कर दी गई है। इसमें मैनपुर, बलिया, मिर्जापुर, लखीमपुर खीरी, कानपुर, महोबा और गाजियाबाद जिले में अब तक नई आरक्षण सूची जारी कर दी गई है। इस आरक्षण सूची के मुताबिक, ग्राम प्रधान से लेकर जिला पंचायत सदस्य, बीडीसी पदों में काफी बदलाव हुआ है।

By शिव मौर्या 
Updated Date

लखनऊ। इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद यूपी पंचायत चुनाव की नई आरक्षण सूची जारी होनी शुरू हो गई है। कई जिलों में आरक्षण सूची जारी कर दी गई है। इसमें मैनपुर, बलिया, मिर्जापुर, लखीमपुर खीरी, कानपुर, महोबा और गाजियाबाद जिले में अब तक नई आरक्षण सूची जारी कर दी गई है। इस आरक्षण सूची के मुताबिक, ग्राम प्रधान से लेकर जिला पंचायत सदस्य, बीडीसी पदों में काफी बदलाव हुआ है।

पढ़ें :- कोरोना काल में बेसहारा हुए बच्चों के लिए सीएम योगी ने शुरू हुई 'बाल सेवा योजना'

बलिया में ग्राम प्रधान की 320 सीटें अनारक्षित
हाईकोर्ट के आदेश के बाद वर्ष 2015 को आधार मानकर पंचाचत चुनाव की नई आरक्षण सूची जारी की जा रही है। नई सूची के बाद कई ग्राम सभाओं, जिला पंचायत सदस्यों व ब्लाक प्रमुखों की स्थिति बदल गयी है। नई सूची के मुताबिक, बलिया की ग्राम पंचायतों की संख्या 940 पहुंच गई है। इसमें सामान्य के लिए 320, महिला के लिए 153, पिछड़े वर्ग की 167, पिछड़ा महिला की 91, अनुसूचित जाति की 100,
अनुसूचित महिला की 56, अनुसूचित जनजाति की 34 तथा अनुसूचित जनजाति महिला के लिए 19 सीटें आरक्षित हैं।

मैनपुरी में भी कई सीटों पर बदलाव
नई सूची के आरक्षण में मैनपुर की कई सीटों में बदलाव हुआ है। जिला पंचायत की 30 और प्रधानों के 549 पदों के लिए 2015 के आधार पर चक्रानुक्रम पद्धति से आरक्षण जारी किया गया है। इसी पद्धति का इस्तेमाल अन्य पदों के लिए भी हुआ है।

लखीमपुर खीरी में में भी आई नई लिस्ट
आरक्षण की नई लिस्ट लखीमपुर खीरी की भी आ गई है। आरक्षण जारी होते ही कई उम्मीदवारों की गणित बिगड़ गई है। कई उम्मीदवारों ने चुनाव प्रचार के साथ ही पोस्टर भी छपवा लिए थे लेकिन अब नई आरक्षण लिस्ट जारी होने के बाद कई उम्मीदवारों की उम्मीदों पर पानी फिर गया है।

 

पढ़ें :- योगी जी आवाज उठाना और आंदोलन करना जनता का एक संवैधानिक अधिकार : प्रियंका गांधी वाड्रा

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक, यूट्यूब और ट्विटर पर फॉलो करे...