‘टेस्ट को टी-20’ के अंदाज़ में खेलते हुए पांड्या ने बनाया अपना पहला शतक

नई दिल्ली। भारत-श्रीलंका के बीच चल रही टेस्ट सीरीज की आखिरी टेस्ट मैच में भारत ने जीत की नीव रख दी है। भारत ने पहले बल्लेबाजी करते हुए शानदार शुरुआत की। मौके को भुनाते हुए ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या ने इस मैच को खुद के लिए आम से खास बना लिया है। पांड्या ने इस टेस्ट मैच में दमदार बल्लेबाज़ी का प्रदर्शन करते हुए अपने टेस्ट करियर का पहला शतक जमा दिया। कैंडी के मैदान पर ने उन्होंने सिर्फ 86 गेंदों पर अपना पहला अंतरराष्ट्रीय शतक जमा दिया।

पांड्या ने अपने करियर का पहला शतक जमाने के लिए 86 गेंदों का सामना किया और इसके बड़ी उपलब्धि के लिए उन्होंने 4 चौके और 4 छक्के भी जमाए। पांड्या ने पहले विकेटकीपर साहा के साथ 17 रन की साझेदारी की। इसके बाद उन्होंने कुलदीप यादव के साथ 62 और फिर मोहम्मद शमी के साथ 20 रन जोड़े। इसके बाद पांड्या की उमेश यादव के साथ 66 रन की साझेदारी अभी भी जारी है। लेकिन मजेदार बात ये है कि इस साझेदारी में हार्दिक पांड्या ने 63 रन का योगदान दिया है। पांड्या ने भारतीय पारी के 116वें ओवर में मिलिंदा पुष्पकुमारा के एक ओवर में 26 रन बनाए। उन्होंने पहली दो गेंदों पर 2 चौके जमाए और बाद की 3 गेंदों पर 3 छक्के जमाए और ओवर की आखिरी गेंद पर कोई भी रन नहीं बना।

पांडिया ने इस पारी में पहले 30 रन बनाने के लिए 45 गेंदों का सामना किया। इसके बाद के 31 रन से 60 के स्कोर पर पहुंचने के लिए उन्होंने सिर्फ 20 गेंदें खेली और 61 से 90 रन तक पहुंचने के लिए पांड्या ने सिर्फ 11 गेंदों का सामना किया। 91 से 108 रन तक पहुंचने के लिए पांड्या ने 17 गेंदें खेली और उनकी ये पारी अभी भी जारी है। इस पारी के दौरान हार्दिक ने दर्शकों और अपने फैंस को टेस्ट, वन और टी-20 तीनों स्टाइल में बल्लेबाज़ी दिखा कर रोमांचित कर दिया।

हार्दिक पांड्या के लिए ये सीरीज़ यादगार बन गई। एक तो इसी सीरीज़ में उन्हें गॉल के मैदान पर अपना पहला टेस्ट खेलने का मौका मिला और उस टेस्ट की पहली ही पारी में उन्होंने अपने टेस्ट करियर का पहला अर्धशतक जमा दिया। इसके बाद अपने तीसरे ही टेस्ट में उन्होंने अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का पहला शतक भी जमा दिया।