दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने पर गंवा दी थी जान, अब पिता ने घर में दी इफ्तार पार्टी

नई दिल्ली। 1 फरवरी 2018 के दिन के वक्त एक अंकित सक्सेना नाम के एक नौजवान की हत्या कर दी गई थी। उसका कसूर सिर्फ इतना था कि वह एक मुस्लिम लड़की से प्यार करता था और उससे शादी करना चाहता था। इस घटना के के करीब 5 महीने बाद उनके घरवालों ने रमजान के इस महीने मे इफ्तार पार्टी का आयोजन किया।

Parents Of Ankit Saxena Alleged Honour Killing Victim Hosts Iftar Party :

अपने इकलौते बेटे को खो देने के बाद अंकित के पैरंट्स ने समाज में भाईचारे और सद्भावना का संदेश देते हुए इफ्तार पार्टी की। इस मौके पर करीब 200 की संख्या में लोग शामिल हुए। वजह थी समाज में सद्दभाव और भाई चारा फैलाना। अंकित के पिता के मुताबिक इफ्तार पार्टी इसलिए दी गई ताकि हिन्दू मुस्लिम में भाई चारा बना रहे।
अंकित के पिता ने बताया कैसे आया ये विचार

दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने पर गंवा दी थी जान, अब पिता ने घर में दी इफ्तार पार्टी
दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने पर गंवा दी थी जान, अब पिता ने घर में दी इफ्तार पार्टी

यशपाल सक्सेना ने बताया कि इफ्तार पार्टी के आयोजन में उनके पड़ोसी मोहम्मद इजहार आलम ने काफी सहयोग किया। उनके पड़ोसी मोहम्मद इजहार आलम मेरे भाई की तरह हैं। उन्होंने सलाह दी की हम ऐसा कर सकते हैं। हालांकि मुझे इफ्तार पार्टी के आयोजन का बिल्कुल भी अनुभव नहीं था। ऐसे में मोहम्मद इजहार आलम ने कहा कि वो इसमें मदद करेंगे।

गोरखपुर के डॉ. कफील अहमद हुए शामिल

अंकित के पिता ने बताया कि मोहम्मद इजहार आलम के आगे आने के बाद मैंने सोचा कि हमें ऐसा करना चाहिए क्योंकि यह उस ट्रस्ट के लिए एक बड़ी शुरुआत होगी जिसे मैंने अंकित के नाम पर बनाया है। मुझे उम्मीद है कि इस कदम से शांति और सद्भाव का संदेश फैलेगा। हमारी कोशिश यही है कि लोग संकीर्ण सोच से बाहर निकलें, जिससे किसी और परिवार के साथ ऐसी कोई घटना नहीं हो।

बता दें, इससे यशपाल सक्सेना ने तब सोशल मीडिया में तारीफ बटोरी थी, जब उन्होंने घटना पर माहौल बिगाड़ने वाली राजनीति न करने की अपील की थी। उस वक्त अंकित के पिता ने मातमपुर्सी करने घर आए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी से कहा था “अंकित मेरा एकलौता  बेटा था। इंसाफ मिलता है तो अच्छा है। अगर नहीं मिलता तो भी मैं किसी मजहब के खिलाफ नफरत नहीं रखता। मेरी ऐसी सोच ही नही है। सोशल मीडिया में उनका ये संदेश वायरल हुआ था।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना के दिन उसने अपनी गर्लफ्रेंड को मेट्रो स्टेशन पर मिलने के लिए बुलाया था। लड़की के परिवार को इस रिश्ते से ऐतराज था। इसलिए उन्होंने अंकित को प्यार करने की ‘सज़ा’ दी। लड़की के पिता, चाचा और मामा पर चाकू से अंकिता का गला रेतने का आरोप है। इस बीच हत्या से ठीक पहले अंकित सक्सेना का एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया था।

नई दिल्ली। 1 फरवरी 2018 के दिन के वक्त एक अंकित सक्सेना नाम के एक नौजवान की हत्या कर दी गई थी। उसका कसूर सिर्फ इतना था कि वह एक मुस्लिम लड़की से प्यार करता था और उससे शादी करना चाहता था। इस घटना के के करीब 5 महीने बाद उनके घरवालों ने रमजान के इस महीने मे इफ्तार पार्टी का आयोजन किया। अपने इकलौते बेटे को खो देने के बाद अंकित के पैरंट्स ने समाज में भाईचारे और सद्भावना का संदेश देते हुए इफ्तार पार्टी की। इस मौके पर करीब 200 की संख्या में लोग शामिल हुए। वजह थी समाज में सद्दभाव और भाई चारा फैलाना। अंकित के पिता के मुताबिक इफ्तार पार्टी इसलिए दी गई ताकि हिन्दू मुस्लिम में भाई चारा बना रहे। अंकित के पिता ने बताया कैसे आया ये विचार [caption id="attachment_292704" align="aligncenter" width="704"]दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने पर गंवा दी थी जान, अब पिता ने घर में दी इफ्तार पार्टी दूसरे धर्म की लड़की से प्यार करने पर गंवा दी थी जान, अब पिता ने घर में दी इफ्तार पार्टी[/caption] यशपाल सक्सेना ने बताया कि इफ्तार पार्टी के आयोजन में उनके पड़ोसी मोहम्मद इजहार आलम ने काफी सहयोग किया। उनके पड़ोसी मोहम्मद इजहार आलम मेरे भाई की तरह हैं। उन्होंने सलाह दी की हम ऐसा कर सकते हैं। हालांकि मुझे इफ्तार पार्टी के आयोजन का बिल्कुल भी अनुभव नहीं था। ऐसे में मोहम्मद इजहार आलम ने कहा कि वो इसमें मदद करेंगे।

गोरखपुर के डॉ. कफील अहमद हुए शामिल

अंकित के पिता ने बताया कि मोहम्मद इजहार आलम के आगे आने के बाद मैंने सोचा कि हमें ऐसा करना चाहिए क्योंकि यह उस ट्रस्ट के लिए एक बड़ी शुरुआत होगी जिसे मैंने अंकित के नाम पर बनाया है। मुझे उम्मीद है कि इस कदम से शांति और सद्भाव का संदेश फैलेगा। हमारी कोशिश यही है कि लोग संकीर्ण सोच से बाहर निकलें, जिससे किसी और परिवार के साथ ऐसी कोई घटना नहीं हो। बता दें, इससे यशपाल सक्सेना ने तब सोशल मीडिया में तारीफ बटोरी थी, जब उन्होंने घटना पर माहौल बिगाड़ने वाली राजनीति न करने की अपील की थी। उस वक्त अंकित के पिता ने मातमपुर्सी करने घर आए भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी से कहा था "अंकित मेरा एकलौता  बेटा था। इंसाफ मिलता है तो अच्छा है। अगर नहीं मिलता तो भी मैं किसी मजहब के खिलाफ नफरत नहीं रखता। मेरी ऐसी सोच ही नही है। सोशल मीडिया में उनका ये संदेश वायरल हुआ था। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, घटना के दिन उसने अपनी गर्लफ्रेंड को मेट्रो स्टेशन पर मिलने के लिए बुलाया था। लड़की के परिवार को इस रिश्ते से ऐतराज था। इसलिए उन्होंने अंकित को प्यार करने की 'सज़ा' दी। लड़की के पिता, चाचा और मामा पर चाकू से अंकिता का गला रेतने का आरोप है। इस बीच हत्या से ठीक पहले अंकित सक्सेना का एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया था।