1. हिन्दी समाचार
  2. संसद में उठा चमकी बुखार से मासूमों की मौत का मामला, स्मृति बोलीं, मैं भी मां हूं, दर्द समझती हूं

संसद में उठा चमकी बुखार से मासूमों की मौत का मामला, स्मृति बोलीं, मैं भी मां हूं, दर्द समझती हूं

Parliament Budget Session In Loksabha Ans Rajyasabha Death Toll By Acute Encephalitis Syndrome

By शिव मौर्या 
Updated Date

नई दिल्ली। बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से मौतों का सिलसिला जारी है। सुशासन बाबू की व्यवस्था की कलई खुल गयी है। वहीं यह मामला आज संसद में उठा। संसद के दोनों सदनों में शुक्रवार को बिहार में एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम(चमकी बुखार) से मासूमों की मौत का मामला गूंजा। लोकसभा और राज्यसभा में चर्चा के दौरान विपक्ष ने दिमागी बुखार से हो रही मौतों का मामला उठाया।

पढ़ें :- किसान आंदोलनः आज की बैठक भी बेनतीजा, अब 9 दिसंबर को सरकार और किसानों के बीच होगी वार्ता

वहीं राज्यसभा की कार्रवाई शुरू होते ही उपसभापति हरिवंश ने श्रीलंका के क्राइस्टचर्च में हुए आतंकी हमलों में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति श्रद्धांजलि दी। इस पर विपक्ष के सांसदों ने बिहार में एक्यूट इंसेफलाइटिस सिंड्रोम(चमकी बुखार) से मारे गए बच्चों के प्रति भी श्रद्धांजलि देने की मांग की। विपक्ष की मांग के बाद पूरे सदन में एईएस से जान गंवाने वाले बच्चों के प्रति मौन रखकर सदन के भीतर श्रद्धांजलि दी।

इस दौरा लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने यह मुद्दा उठाया और कहा कि बिहार में एनडीए सरकार भी है। उन्होंने एक राष्ट्र एक चुनाव की तर्ज पर एक राष्ट्र एक पोषण नीति लागू किए जाने की मांग की। वहीं इसके जवाब में केन्द्रिय बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि सरकार पहले से ही इस तरह योजना चला रही है। स्मृति ने कहा कि कुषोषण से कहीं भी कोई भी मौत दुखद है और एक मां होने के नाते मैं बच्चों की मौत का दर्द समझ सकती हूं।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे...