Parliament: एनआरसी पर सरकार ने दिया लिखित जवाब, पूरे देश में लागू करने पर अभी कोई फैसला नहीं

Minister of State for Home Affairs Nityananda Rai
Parliament: एनआरसी पर सरकार ने दिया लिखित जवाब, पूरे देश में लागू करने पर अभी कोई फैसला नहीं

नई दिल्ली। देशभर में नेशनल रजिस्टर फॉर सिटिजन (एनआरसी) को लेकर मंगलवार केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लोकसभा में लिखित जवाब दिया। गृह मंत्रालय ने कहा कि अभी तक देशभर में एनआरसी लागू करने का कोई फैसला नहीं लिया गया है। वहीं, एनआरसी के मुद्दे को लेकर विपक्ष लगातार योगी सरकार पर हमलावर है।

Parliament Government Gives Written Reply On Nrc No Decision Yet To Implement In Entire Country :

लोकसभा में सांसद चंदन सिंह, नागेश्वर राव की ओर से गृह मंत्रालय से कुछ सवाल पूछे गए थे। इसमें क्या एनआरसी को लागू करने के लिए सरकार कदम उठा रही है, क्या राज्य सरकारों से इस बारे में चर्चा की गई है? समेत कुल 5 सवाल थे। इनके जवाब में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने लोकसभा में लिखित में बयान दिया है।

इसमें कहा गया है कि अभी पूरे देश में नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजन लागू करने का कोई फैसला नहीं लिया है। गौरतलब है कि मंगलवार को ही लोकसभा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी बयान देने वाले थे, लेकिन विपक्ष के हंगामे के कारण वह अपना बयान नहीं दे सके। स्पीकर ओम बिड़ला ने सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया था। इसके बाद इस जवाब को गृह मंत्रालय की तरफ से सदन के पटल पर रख दिया गया।

नई दिल्ली। देशभर में नेशनल रजिस्टर फॉर सिटिजन (एनआरसी) को लेकर मंगलवार केंद्रीय गृह मंत्रालय ने लोकसभा में लिखित जवाब दिया। गृह मंत्रालय ने कहा कि अभी तक देशभर में एनआरसी लागू करने का कोई फैसला नहीं लिया गया है। वहीं, एनआरसी के मुद्दे को लेकर विपक्ष लगातार योगी सरकार पर हमलावर है। लोकसभा में सांसद चंदन सिंह, नागेश्वर राव की ओर से गृह मंत्रालय से कुछ सवाल पूछे गए थे। इसमें क्या एनआरसी को लागू करने के लिए सरकार कदम उठा रही है, क्या राज्य सरकारों से इस बारे में चर्चा की गई है? समेत कुल 5 सवाल थे। इनके जवाब में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय ने लोकसभा में लिखित में बयान दिया है। इसमें कहा गया है कि अभी पूरे देश में नेशनल रजिस्टर फॉर सिटीजन लागू करने का कोई फैसला नहीं लिया है। गौरतलब है कि मंगलवार को ही लोकसभा में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह भी बयान देने वाले थे, लेकिन विपक्ष के हंगामे के कारण वह अपना बयान नहीं दे सके। स्पीकर ओम बिड़ला ने सदन की कार्यवाही को स्थगित कर दिया था। इसके बाद इस जवाब को गृह मंत्रालय की तरफ से सदन के पटल पर रख दिया गया।